रिंगनोद~रिंगनोद के एक ही परिवार मै हुई दो आश्चर्यजनक और अनोखी घटना~~

रिंगनोद निवासी ईश्वर करांजीया ने 26 तारीख को अपने घर पर श्री क्रष्ण भगवान के बाल स्वरुप लड्डु गोपाल की प्रतीमा को दुध पिलाने का प्रयास किया और पाया की प्रतीमा दुध का सेवन कर रही थी उसी दिन उनके छोटे भाई धनराज करांजीया ने अपने गुलवा निवासी भांजे और कही से सुनकर की रामचरित मानस के बालकाण्ड मै से बाल प्राप्त हो रहे है अपने घर रखी रामचरित मानस का पठन किया उन्होने विचार न्युज को बताया की आश्चर्यजनक रुप से उन्है रामचरित मानस के बालकाण्ड का पठन करते हुए बाल प्राप्त हुआ जिसको उन्होने गंगाजल मै डालकर पी लिया ईस बात की पडताल के लिए जब विचार न्युज संवाददाता ने स्वयं अपने घर श्री रामचरित मानस रामायण के बालकाण्ड का अवलोकन किया तो पाया कि वास्तविकता मै बालकाण्ड के पैज नम्बर 20 और 47 पर आश्चर्यजनकरुप से दो बाल प्राप्त हुए जीसे तुलसी जी के क्यारे मै विसर्जित कर दिया गया प्रमाण रुप से फोटो दिए गए है आस्था का विषय है और आश्चर्य का भी किन्तु भारत भुमी चमत्कारो और भक्ति की पावन भुमी है यहा शायद सबकुछ संभव है सत्य है या संयोग पुष्टी नही कर सकते  यहां पाठको को यह विदित रहै कि विचार न्युज एवं सवाददाता किसी भी प्रकार की अफवाहो का समर्थन नही करते


Post A Comment:

0 comments: