*पाटी~समय पर वेतन नहीं मिलने से शिक्षकों ने जताई नाराजगी बीईओ में सौंपा ज्ञापन*~~

*समय पर ईएमआई जमा नहीं होने पर बैंक लगा देते हैं पेनल्टी*~~

पाटी, दिनांक 09.03.2020 । विकासखण्ड के नवीन शिक्षक संवर्ग की समस्याओं को लेकर सोमवार को बड़ी संख्या मे शिक्षक बीईओ आफिस पहुंचे । जहां उनके द्वारा अपनी समस्याओं के जल्द से जल्द निराकरण की मांग का ज्ञापन बीईओ पाटी में आवक जावक प्रभारी महारिया मुजाल्दे को सौंपा ।
इस दौरान ट्रायबल वेलफेयर एसोसियन के ब्लाॅक अध्यक्ष रामेश्वर वर्मा ने बताया कि पाटी ब्लाॅक के 600 से अधिक शिक्षकों को वेतन मिलने में होने वाली लेटलतीफी लगातार बढ़ती ही जा रही हैं। इस महीने भी ब्लाॅक के शिक्षकों को उनका वेतन नहीं मिलसका हैं । समय पर वेतन नहीं मिलने से शिक्षकों को हर महीने आर्थिक संकट से जूझना पड़ता हैं । अधिकांश शिक्षकों ने किसी न किसी बैंक से पर्सनल लोन या होम लोन ले रखा हैं । निश्चित तारीख के बाद यदि ईएमआई जमा नहीं होती हैं तो बैंक उस पर पेनल्टी लगा देता हैं । समय पर वेतन नही होने से शिक्षक अतिरिक्त तनाव झेलता हैं ।
20 माह बाद भी नहीं मिला सातवां वेतन:- ब्लाॅक उपाध्यक्ष गोविन्द वास्कले व बंशीलाल सोलंकी ने कहा कि अध्यापक संवर्ग को नवीन शिक्षक संवर्ग में 1 जुलाई 2018 से नियुक्त कर 7वां वेतनमान देने के आदेश जारी किए गए हैं । लेकिन विकासखण्ड के 406 प्राथमिक शिक्षकों को आज दिनांक तक 7वें वेतनमान का नकद लाभ नहीं दिया गया हैं, जबकि विकासखण्ड के 24 उच्च माध्यमिक शिक्षकों व 163 माध्यमिक शिक्षकों 7वें वेतनमान का नकद लाभ दे दिया गया हैं । इससे प्राथमिक शिक्षकों मे काफी निराशा और आक्रोश व्याप्त हैं ।
डी.ए. व छठवें वेतनमान का एरियर्स:- ब्लाॅक सचिव भवरलाल रावत ने का कि माह जुलाई 2018 व माह जनवरी 2019 मे दिए गए मंहगाई भत्ते का एरियर व कुछ साथियों को छठवें वेतनमान की द्वितीय किश्त का भुगतान आज दिनांक तक नही किया गया हैं । ब्लाॅक सह सचिव दुवालसिंह डावर व मिडिया प्रभारी जगन सोलंकी ने कुछ शिक्षक साथियों की वृत्तिकर की राशि अधिक व दो बार वेतन से काट ली गई हैं । नियमानुसार अधिक काटी गई राशि रिफण्ड करने कि मांग की । ज्ञापन के दौरान धर्मेन्द्र भावसार, राजेश जोशी, राजेश कुशवाहा,निलेश भावसार, किरण सस्ते, छतरसिंह सस्तया, बल्लू यादव, कमल जाधव, रमेश बण्डोड, छोगालाल तिखले, कैलाश जाधव, सुनिल सोलंकी सहित कई शिक्षक उपस्थित थे ।


Post A Comment:

0 comments: