*मनावर~मनावर में कोरोना महामारी को हराने में सामुदायिक स्वास्थ केन्द्र के कर्मयोद्धा डॉक्टर 24 घंटे दे रहे है अपनी सेवाऍ* ~~

*डॉक्टर से लेकर नर्स तक जाॅन से अपने बच्चे एवं परिवार से दुरी बनाकर कर्तव्य को निभा रहें है*  ~~        

*कोरोना बिमारी से बचाव के लिये लोगो को सही मार्ग दर्शन एवं सलाह तथा उपचार दे रहे है*~~

*निलेश जैन मनावर ~~

स्वास्थ सेवाओं को लेकर विशेष कवरेज टीम मनावर*                        *डाॅ. जी. एस. चैहान बीएमओं*
मुख्य खण्ड चिकित्सा अधिकारी होने के नाते पुरे विकास खण्ड का जिम्मा बिमारी से बचाव के लिये संभाले हुये है। डाॅ. चौहान सतत प्रशासनीक अधिकारियों से सम्पर्क बनाये हुये है प्रतिदिन जारी होने वाले आदेशो का पालन अपने अधिनस्त डॉक्टर एवं कर्मचारीयों से काम को अमल करवा रहे है। जनता की स्वास्थ सेवाओं के लिये अपने परिवार की परवाह किये बगैर 24 घंटे प्रशासनिक व्यवस्था संभालने में लगे हुये है। पुरे विकासखण्ड में कही से भी बाहर से आने वाले व्यक्तियों की सूचना मिलते ही तुरन्त मोबाईल टीम को रवाना कर उनकी जाॅच इनके द्वारा करवाई जा रही है। इसके साथ-साथ लोगो को कोरोना बचाव से उपाय शोसल डिस्टेंसीग बनाने एवं कोरोना से बचाव के उपाय भी इनके द्वारा बताये जा रहे है। इनके द्वारा किये गये प्रयास से ही अस्पताल को आटो मेटिक सेंनेटाईजर मशीन इंसानियत फाउंडेसन द्वारा प्रदान की गई है। जिसका उपयोग अस्पताल में आने वाले मरिज एवं  परिजन कर रहे है।
*डाॅ. के.सी. राणे*
औषधि विशेषज्ञ:- के पद पर प्रथम श्रैणी चिकित्सा अधिकारी के रूप मे सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र मनावर में कई वर्षो से अपनी सेवाए प्रदान कर रहे है एवं मनावर की जनता इनको अपना मसीहा मानती है। डाॅ. राणे हार्ट, सर्पदंश एवं जहर पिने वाले कई मरिजो के लिये जीवनदाता माने जाते है। वर्तमान कोरोना बिमारी की जंग जीतने के लिये डाॅ. राणे भी पिछे नहीं है। विगत दो वर्ष पूर्व में इनको पेरालेसिस अटेक हुआ था तथा अभी भी इसका कुछ असर इन पर है। बाउजुद दिन रात अपनी सेंवाए इस महामारी के समय दे रहे है तथा कोरोना संक्रमण के बचाव एवं उपचार के संबंध में लोगो को जानकारी प्रदान इनके द्वारा दी जा रही है। इनके इस जजबे को सलाम है की विकट परिस्थितियों में लोगो की सेवाए दे रहे है।
*डाॅ. संजय मुवेल*
मेडिकल आॅफिसर:- इनके ड्यिूटी सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र मनावर पर गठित रेपिड डिस्पांस टीम में लगी हुई है सूचना मिलने पर तुरन्त अपनी टीम के साथ हर समय ये उपस्थित होकर अपनी सेवाए दे रहे है। इसके साथ ही ओपीडी समय में सारे मरिजो को भी देख रहे है। तथा आकस्मिक सेवाए भी प्रदान कर रहे है। डाॅ. मुवेल द्वारा बताया गया कि इनका एक 4 वर्ष का पुत्र एवं 2 वर्ष की पुत्री इनकी पत्नी भी डाॅ. संगीता मुवेल पैसे से आयुष चिकित्सक है। इनकी पत्नी की ड्व्यटी भी कोरोना संक्रमण से बचाव के लिये आयुष विभाग में लगी हुई हैं दोनो पति-पत्नी चिकित्सा विभाग को पूर्ण समर्पित होकर अपनी सेवाए प्रदान कर रहे है तथा इनके 2 छोटे-छोटे बच्चें अपने दादा-दादी के पास रह रहे है। एवं अपने माता-पिता से टेलिफोनिक माध्यम से बातचित कर याद कर रहे है तथा माता-पिता दोनों की सलामती की दुवाऐ अपने नन्हें हाथो से कर रहे है।
*डाॅ. सुनिल देसाई*
मेडिकल आॅफिसर:- इनका योगदान भी इस वैश्विक महामारी में अपनी निरंतर सेवाओं के लिये याद रहेगा। डाॅ. देसाई दिन-रात समर्पीत भावना से संकट के इस समय में अपनी सेवाए दे रहे है। तथा लोगो को कोरोना से बचाव के प्रति सजग एवं जागरूक कर रहे है। डाॅ. देसाई से बात-चित करने पर यह बात सामने आई! की जब से देश में लाॅक-डाॅउन लागू हुआ है। तब से ये अपनी सेवाए देने के पश्चात जब घर पर जाते है तो इन्होने आपने आप के लिये घर पर आईसोलेंशन रूम बनाया है। जिसमें स्वंय को आईसोलेट कर परिवार की सुरक्षा के लिये परिवार से दुरी बनाये हुये है। इनका भी एक 16 माह का पुत्र है। जिसको दुर से ही लाड-दुलार कर लेते है। एवं पुनः अपनी कर्मभुमी अस्पताल में पहुच कर सत्त सेवाए दे रहे है।
*डाॅ. मोनिका चैहान*
मेडिकल आॅफिसर:- पैसे से स्त्री रोग चिकित्सक है तथा कोरोना माहमारी के इस विकट दौर में अपने आप को चिकित्सा सेवा के लिये पूर्ण समर्पीत कर लोगो को उचार प्रदान कर रही है साथ ही आने वाली गर्भवती माताओं के रूटीन चेकअप भी सौशल डिस्टेसिंग बनाकर प्रतिदिन कर रही है। दिन हो या रात हो प्रसव पिडा के कारण अस्पताल आई हुई गर्भवती माताओं के प्रसव भी कोरोना संक्रमण से बचाव के प्रोटोकाल का पालन कर संपदित करवा रही है।
*डाॅ. किर्ती बोरासी*
मेडिकल आॅफिसर:- इनके द्वारा दी जारी सेवाओं के लिये इनको सदेव याद रखा जावेगा। क्यों कि कोरोना संक्रमण के संकट की इस घंडी में ये भी अपने अन्य चिकित्सक साथियों के साथ दिन-रात अपनी सेवाए दे रही है। इनके पास आने वाली महिलाओं को इनके द्वारा कोरोना से बचाव के उपाय बताये जा रहे है। जिसमें सोशल डिस्टेसिंग, बार-बार साबुन से अथवा हेंडवास से हाथ धोना एवं मुह पर मास्क अथवा रूमाल  बांधकर रखें। बताया जा रहा है। जिससे कोरोना संक्रमण को फेलने सेे रोका जा सकता है।
*डाॅ. कुलदिप जौहर*
मेडिकल आॅफिसर:- ये नवनियुक्त चिकित्सक है। विगत दो माह पूर्व ही इनके द्वारा अपने कर्तव्य पर  आमद दी गई है । इनके आने के समय कोरोना संक्रमण हिन्दुस्तान में अपनी दस्तक दे चूका था ऐसे में माननीय प्रधान मंत्री नरेन्द्र मोदी जी द्वारा 24 मार्च 2020 को सम्पूर्ण देश में कोरोना बिमारी से बचाव के लिये लाक-डाउन किया गया है। तब से ही ये ओ.पी.डी. में दोनो समय अपनी सेवाऐ देने के साथ-साथ मोबाईल टीम में भी सत्त अपनी सेवाए दे रहे है। तथा बाहर से आने वाले लोगों की स्क्रेनिंग भी इनके द्वारा दिन-रात की जा रही है। इन्हें जब भी आदेश होता है चाहे दिन हो या रात हो यह अपनी टीम के साथ अन्य राज्य से आये हुये लोगो की स्के्रनिंग में निकल पडते है एवं कभी-कभी तो सुबह का भोजन भी नसीब नहीं होता है । इनका यह योगदान सदेव याद रहेगा। ।
इसके अलावा सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र मनावर पर पदस्थ चिकित्सक डाॅ. अमित जेयसवाल, डाॅ. अखिलेश रावत भी अपनी दिन रात सेवाए दे रहे है। एवं आवश्यकता पडने पर ग्रामिण क्षेत्रों में  पॅहुचकर बाहर से आने लोगो की स्क्रीनिंग में भी इनका योगदान सराहनीय रहा है।  प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र सिंघाना एवं करोली में पदस्थ डाॅ. भुतल राठोर एवं डाॅ. रणवीरसिंह मण्डलोई भी कोरोना के इस जैविक युद्ध में सत्त अपनी सेवाए दे रहे है एवं इसके बचाव के प्रति जागरूकता का संदेश लोगों में दे रहे है।
*श्रीमती निन्द्रा मिश्रा* स्टाफ नर्स भी पूर्ण रूप से समर्पित होकर इस युद्ध में निस्वार्थ भाव से अपनी सेवाएं दे रही है। तथा अपने सहयोगी स्टाॅफ से 24 घंटे सम्पर्क में रहकर वार्ड में आवश्यक सेवाए मुहाया कराने के लिये दृढ़ संकल्पीत हैं।
सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र मनावर पर 2 राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम की टीमे कार्यशील है इसमें डाॅ.विष्णु पाटीदार, डाॅ. मोनिका सौलंकी, डाॅ. प्रतिभा जायसवाल इनकी ड्यिूटी मोबाईल टीम में विकास खण्ड को तीन सेक्टर में बाट कर अलग-अलग लगाई गई है। यह तीनों टीमे अपने-अपने क्षेत्र में सूचना मिलते ही बाहर से आये हुये व्यक्तियों की स्क्रीनिंग के लिये पहुॅच जाती है। तथा पूर्ण सेवा भाव से इस माहमारी के बचाव के लिये कार्य कर रहे है।पूरे विकासखण्ड में 111 वार्ड एवं ग्राम स्तरीय दल गठीत किये गये है। जिसमें सुपरवाईजर,एएनएम, एमपीडब्ल्यू, शिक्षक, सचिव, आंगनवाडी कार्यकर्ता, आशा कार्यकर्ता, आदि को सामिल किया गया है। जो कि घर-घर जाकर घर में निवासरत सर्दी-खासी एवं बुखार के मरिजों की खोज कर रहे है एवं प्राकृतिक आपदा के इस समय में पूर्णतः मुस्तेद होकर अपना कर्तव्य निभा रहे है।इसी तरह पुरे विकासखण्ड के चिकित्सा अधिकारी एवं कर्मचारी अपने पदानुरूप सौपे गये दाईत्वों को पूर्ण ईमानदारी एवं निष्ठा के साथ निभा रहे है एवं कोरोना से जंग जितने के लिये 24 घंटे तैयार है।


Post A Comment:

0 comments: