झाबुआ~विमल व तंबाकु के 5 थेैलों सहित अंतरवेलिया पुलिस ने धरदबोचा था -आरोपी और पुलिस के बीच गठजोड~~

सरपंच ने लगाया आरोप कहा महिला संबंधित भी हो सकता है एक बडा विवाद~~

झाबुआ। संजय जैन~~

कोरोना के कहर को देखते हुए लॉक डाउन लागु किया गया। इस लॉक डाउन के दौरा तंबाकु निर्मित पदार्थो पर प्रतिबंध लगा दिया गया। तंबाकु बंद तो कर दी गई,मगर उसकी कालाबाजारी इन दिनों शराब से भी ज्यादा हो रही है। सुत्रों के अनुसार विगत दिनों अंतरवेलिया पुलिस को मुखबिर से सुचना मिली की ईश्वर,भारत, भग्गा व एक अन्य स्कूटी और एक लोडिग वाहन में विमल व तंबाकु के 5 थैले लेकर आ रही है। जिसके चलते अंतरवेलिया पुलिस ने उन्हे मुखबिर की सुचना पर धरदाबोचा। अंतरवेलिया संरपच का आरोप है कि प्रत्यक्षदर्शियों ने पुलिस द्वारा आरोपियों को पकडते देखा है।
-सौदेबाजी 2 लाख रूपये के लगभग
तंबाकु और विमल बडी मात्रा में मिले मगर पुलिस ने उन पर कार्रवाई न करते हुए आरोपियों से सौदेबाजी कर ली। सौदेबाजी 2 लाख रूपये के लगभग हुई। पकडे गए आरोपियों में 3 झायडा और एक पिटोल का था जिसका माल झायडा वालों से ज्यादा था। ऐसे में रक्षक ही अगर भक्षक बन जाये तो क्या कहेंगे...? सरपंच का कहना है कई ऐसे मामला यहां कई आते है मगर लेनदेने कर छोड दिए जाते है। हमारे द्वारा कुछ कहा जाता है तो हमें जबरन टारगेट बनाया जाता है और बडी कार्रवाई करने की धौंस दी जाती है।
-10 रूपये का गुटका आज 40 रूपये में बिक रहा
वही जिले भर मे यह आलम है कि जो तम्बाकू गुटका खाने वाले लोग थे उन्हे केवल 10 रूपये ही चुकाने पडते थे लेकिन इस कोरोना वायरस के सक्रमण के चलते लॉक डाउन में कालाबाजारी इतनी अधिक बढ गयी कि वही 10 रूपये का गुटका आज 40 रूपये में बिक रहा है। वही दूकानदार अच्छा खासा मुनाफा कमा रहा है। ऐसे में संपूर्ण लॉक डाउन के चलते कालाबाजारी ने अपने पैर इस तरह से पसार लिये है जैसे कोरोना ने देश मे ंपैर पसारे है। किरानो की दूकानो पर धूम्रपान का सामान के साथ ही पाउच मे तम्बाकू भी आसानी से मिल रहा है। वही किरानो की दूकानो में समीपस्थ ईलाको से ट्रांसपोर्ट की गाडियो में तम्बाकू की बडी-बडी बोरिया भी लाई जा रही है। ऐसे में लॉक डाउन के चलते इस तरह कालाबाजारी दिनोदिन बढते जा रही है।
-मुखबिर कौन था और उसके यहां से तंबाकु क्यों मंगवाई गई.....?
सुत्रों के अनुसार उक्त गठजोड की शिकायत पुलिस कप्तान के पास भी कई मगर अंरवेलिया पुलिस ने इस मामले से साफ इंन्कार कर दिया। अंतरवेलिया पुलिस की चोरी तो पकडी गई थी। ऐसे में उन्होने मुखबिर को फोन लगा और 4 से 5 पैकेट
तंबाकु के मंगवाकर आरोपी को कहा की एक छोटा केस बना दे। मगर आरोपी ने इन्कार कर दिया और उसे ये भी पता चल गया था कि मुखबिर कौन था और उसके यहां से तंबाकु क्यों मंगवाई गई.....? ऐसे में आरोपी ने मामला दर्ज करवाने से इन्कार
करते हुए यह है कि मै जाकर पुलिस अधीक्षक को कह दुंगा कि तुमने 2 लाख रूपए हमसे लिए है। अब अंतरवेलिया पुलिस बीच में फंस गई ऐसे में कल रात को झायडा में इस मामले को लेकर बैठक की गई और जो मुखबिरी का विवाद हुआ है उसे
सुलझाने की कोशिश की गई। सुत्रों का कहना है।
-इनका कहना है-
.....इस तरह से कोई मामला नही हुआ । सिर्फ जांच के लिए हम समय समय पर निकल रहे है।
.........चौकी प्रभारी श्री पठान
.......ऐसे कई बडे मामले आते है और यहां सौदेबाजी हो जाती है इस मामले में भी ऐसा हुआ पुलिस अधीक्षक ध्यान नही दे रहे है

महिलाओं को लेकर एक दिन अंतरवेलिया चौकी पर एक बडा विवाद हो सकता है।
.........गौरसिंह मेडा अंतरवेलिया सरपंच


Post A Comment:

0 comments: