*टांडा~सामाजिक कार्यकर्ता एवं पंच जीवन ठाकुर का निधन* ~~

नगर वासियों ने दी श्रद्धांजलि~~

दीपक जायसवाल टांडा मो 9685833838~~

टांडा ~मधुर व्यक्तित्व तथा अपनी मिलनसार छवि से सबको अपना बनाने वाले जीवन ठाकुर(सिसोदिया)(44) वर्ष का शुक्रवार सुबह हार्ट अटेक से निधन हो गया ।जीवन ठाकुर के अचानक निधन से सम्पूर्ण टांडा नगर में शोक छा गया ।
जीवन पिछले  20 वर्षों से बस ड्रायवरी करते थे। वे निजी बस सर्विस मालवीया बस चलाते थे। इस कंपनी में जीवन ने अपनी अमिट छाप बनाई थी तथा इंदौर से डही फिक्स बस में आम पैसेंजरों से भी अपना परिवारिक रिश्ता बना लिया था। लोगो के इंदौर का कार्य निस्वार्थ भाव से करते थे ।जीवन अपनी मिलनसारीता एवं निस्वार्थ सेवा की बदौलत ग्राम पंचायत टांडा के पंच भी बने, जिन्होंने पार्टी पॉलिटिक्स  से ऊपर उठकर अपने सफल प्रयास से क्षेत्रीय विधायक श्री उमंग सिंघार के माध्यम से टांडा नगर को पेयजल के लिए  शानदार सौगात दिलवाई। माताजी मंदिर वाले मोहल्ले में उनके प्रयास से लगवाया गया बोरिंग पूरे नगर में पेयजल की पूर्ती कर रहा है । जिसके लिए नगर की जनता कई बार उनका धन्यवाद कर चुकी ।शंकर मंदिर मार्ग को चोड़ा एवं सीमेंट क्रंकिट करवाने में भी जीवन की महती भूमिका रही ।
भोजशाला  आंदोलन में भी जीवन का नाम जुड़ा रहा है
जीवन को गुरुवार रात को सीने में दर्द एवं घबराहट होने लगी। रात्रि 3 बजे सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर डॉ हरेंद्रप्रताप सिह तोमर ने  ईसीजी कर प्राथमिक उपचार किया तथा तुरंत जिला चिकित्सालय धार रेफर किया । सरदारपुर में चेकअप के बाद धार लेे जाते वक़्त जीवन का रास्ते में निधन हो गया । शुक्रवार को टांडा  मुक्तिधाम पर 11 बजे अंतिम संस्कार किया गया जहां नगर वासियों ने अश्रुपूर्ण नेत्रों से श्रद्धांजलि दी।आप श्री ललित सिसोदिया के पुत्र तथा संतोष,महेंद्र दादू सिसोदिया के बढ़े भाई थे आप अपने पीछे भरा पूरा परिवार छोड़ गए।

*एक दिन पूर्व ही बोरिंग में मोटर डलवाई थी।*
जीवन सिसोदिया ने तो अपने जीवन की अंतिम सास लेे ली किन्तु अंतिम समय तक उनके द्वारा किए गए प्रयास सदेव स्मरणीय रहेंगे। डॉ नंदकिशोर चौहान ने बताया कि एक दिन पहले ही गुरुवार को हम ने मिलकर माताजी मंदिर गली में बोरिंग की मोटर खराब हो जाने पर हम सब ने मिल कर वहा पुनः मोटर डाली जीवन भय्या पूरे समय वही हमारे साथ थे।उनका निधन हमारे लिए गहरा सदमा हे

*जीवन धारा पेयजल टंकी नाम रखने की मांग*

जीवन सिसोदिया के भागीरथी प्रयास से  बोरिंग एवं जिस  टंकी से नगर को शुद्ध पेयजल मिल रहा है उस टंकी का नाम  जीवन धारा पेयजल टंकी रखने की मांग नगर वासियों ने की।


Post A Comment:

0 comments: