विचार न्यूज़ खबर का असर~

धार~जिले में तेजी से बढ़ते कोरोना पॉजिटिव के जिम्मेदार मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ, एस. के. सरल को राज्य सरकार ने हटाया~~

धार ~ डाँ. अशोक शास्त्री ~~

जिले में तैजी से बढ़ते कोरोना पॉजिटिव के लिए जवाबदार जिला मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉक्टर एस. के. सरल को आखिरकार राज्य सरकार ने पद से हटा ही दिया है उनके स्थान पर डॉक्टर आर. सी. पनिका को पदस्थ किये जाने के आदेश जारी किए है । डॉ.पनिका पूर्व में धार में उक्त पद पर रह चुके हैं । वर्तमान में डॉ. पनिका बलाघाट में पदस्थ है । डॉ. एस. के। सरल जिला चिकित्सालय में नेत्र रोग विशेषज्ञ के पद पर काम करते रहेंगे ।
          उल्लेखनीय है कि डॉ. सरल की बड़ी लापरवाही से धार में कोरोना पॉजिटिव की संख्या में तैजी से बढ़ोत्री हो रही है जिसका प्रमुख कारण जिला चिकित्सालय का सुपरवाइज़र जो संक्रमित होकर पूरे चिकित्सालय में कर्मचारियों व डॉक्टरो तथा मरीजों के लिए घातक साबित हुआ । डॉ. सरल पर लापरवाही के साथ साथ भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप लगते रहे हैं ।
      कलेक्टर व एस.पी. के अथक प्रयासों पर डॉ.सरल ने पानी फेर दिया । पद का दुरूपयोग करते हुए डॉ. सरल अपने मातहत डॉक्टरों व कर्मचारियों के साथ भी आये दिन दुर्व्यवहार करते रहे है वह भी तब जबकी कोरोना महामारी से समस्त स्टाफ इमानदारी से लड़ाई लड़ रहा है ,  ऐसे समय उनका व्यवाहर निंदनीय कहा जा सकता है । डॉ.सरल पर भ्रष्टाचार के कई गंभीर आरोप लगते रहे हैं जिनमें स्वीपर का अटैचमेंट केंसल करने के 20 हजार रुपये तथा नर्स का स्थानांतर रद्द करने के 40 हजार रूपये तक लेने के आरोप है ।
          डॉ.सरल गंभीर परिस्थिति में भी कलेक्टर के आदेश का भी पालन नहीं कर रहे थे । 20  अप्रैल की की शाम को कलेक्टर श्री श्रीकांत बनोठ ने भोज चिकित्सालय के सिविल सर्जन का चार्ज डॉ. अनिल वर्मा को तत्काल सौंपने के आदेश जारी किए थे लेकिन 24 घंटे बाद भी डॉ. सरल ने डॉ. वर्मा को चार्ज नही सौंप कर कलेक्टर के आदेश का उलल्घंन किया । डॉ. सरल सिविल सर्जन के पद पर अपने चहेते डॉ. ठाकूर को बैठाने हेतु अपने अधीनस्थ डाक्टर के सहयोग उसकी रिश्तेदारी का फायदा उठाते हुए जिले वरिष्ठ नेता का सहारा लेने का प्रयास कर रहे थे , ताकि चिकित्सालय के भ्रष्टाचार का कार्य बिना रूकावट के चलते रहे । जब पूरा विश्व महामारी की चपेट में है ऐसे समय डॉ.सरल का यह कार्य घोर निंदनीय है ।


Post A Comment:

0 comments: