*कुक्षी~तहसीलदार ने किया ओचक निरीक्षण, चेक पोस्ट के कर्मचारी मिले नदारद* ~~

*स्थानीय जनप्रतिनिधियों ने की थी वरिष्ठ अधिकारियों को शिकायत*~~

*कुक्षी से सत्येंद्र मिश्रा की रिपोर्ट*~~

कुक्षी। लंबे समय से स्थानीय जनप्रतिनिधियों को कर्मचारियों के गायब रहने व कर्तव्य के प्रति लापरवाही बरतने की शिकायत मिल रही थी। स्थानीय जनप्रतिनिधियों ने जिले के वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारियों को लिखित में शिकायत कर कार्यवाही करने का निवेदन किया था। उक्त शिकायतों के आधार पर तहसीलदार सुनिल कुमार डावर ने चेक पोस्टों का आकस्मिक निरीक्षण  किया गया। निरीक्षण के दौरान बड़ी लापरवाही सामने आई। ओचक निरीक्षण में कई कर्मचारी बगैर सूचना के अपने कर्तव्य से नदारद मिले। तहसीलदार ने कुक्षी से लगाकर डोळ्या चेक पोस्ट तक का निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान कर्मचारी, अधिकारी अपने कर्तव्य से बगैर सूचना के नदारद थे। वर्तमान समय में जहाँ कोरोना को लेकर पूरा क्षेत्र भयभीत है। कर्मचारियों ने सोचा कि अधिकांश अधिकारी कोरोना में व्यस्त हैं इस मौके का फायदा उठाकर लापरवाही बरत रहे थे, औऱ मनमानी कर रहे थे। इस मामले को लेकर एसडीएम सहित जिले के वरिष्ठ अधिकारियों द्वारा जिम्मेदार कर्मचारियों के विरुद्ध कर्तव्य के प्रति लापरवाही बरतने के आरोप में कार्यवाही स्थानीय प्रशासन तहसीलदार, एसडीएम के द्वारा की जाना हैं। राज्य सरकार द्वारा शासकीय कार्यालयों में अवकाश घोषित किया गया है। आवश्यकता अनुसार कुछ कर्मचारियों को चेकप्वाइंट पर कार्य करने के आदेश दिए गए हैं। लेकिन उनकी लापरवाही के चलते चेक पोस्ट रात्रि के दौरान वीरान नजर आते हैं। यह मार्ग गुजरात से भी जुड़ा हुआ है, जहां पर कोरोना महामारी का प्रकोप अधिक है। राज्य सरकार ने जिले की सीमाओं को सील किया था। किन्तु यह कर्मचारियों के द्वारा राज्य सरकार के आदेश की अवहेलना करते हुए अपने कर्तव्य के प्रति घोर लापरवाही बरत रहे थे। कोरोना महामारी को लेकर जिले के कलेक्टर, एसपी, सहित स्थानीय प्रशासन एसडीएम, तहसीलदार, एसडीओपी, थाना प्रभारी, सीएमओ सहित प्रशासनिक अमला लगातार सुबह से लेकर देर रात तक अपने कार्य कर रहे हैं। इन अधिकारियों को मेहनत पर चेक पोस्ट के कर्मचारियों द्वारा पानी फेरा जा रहा है। रात्रि के समय चेक पोस्ट खाली रहने से गुजरात, दूसरे जिले के कोरोना से ग्रसित मरीजों की आवाजाही चेक पोस्ट से हो सकती हैं, जो एक बड़ी लापरवाही है। निरीक्षण के दौरान अनुपस्थित पाये गए कर्मचारियों के विरुद्ध कठोर, दंडात्मक कार्यवाही होना चाहिए। जिससे ईमानदारी से कार्य कर रहे कर्मचारियों का मनोबल भी बढ़ेगा।
*एसडीएम बीएस कलेस ने अनुपस्थित अधिकारी कर्मचारी मामले को लेकर लिया संज्ञान*
अनुविभागीय अधिकारी बीएस कलेस ने  बताया  बीती रात्रि तहसीलदार सुनील कुमार डावर द्वारा चेक पोस्टों का निरीक्षण किया गया था जिसमें कुक्षी से ढोल्या तक चेक पोस्टों पर जवाबदार अधिकारी एवं कर्मचारी नदारद रहे जैसे ही इस मामले की  मुझे जानकारी मिली  वैसे ही इस मामले को मेरे द्वारा संज्ञान में लिया गया है एवं अनुपस्थित  डियूटी  कर्मियों को कारण बताओ सूचना पत्र मेरे द्वारा जारी किया गया है  एवं उनके विरुद्ध आगामी कार्यवाही भी की जाएगी

*पूर्व भाजपा जिलाध्यक्ष रमेश धारीवाल, नगर परिषद अध्यक्ष मुकाम सिंह किराडे, पूर्व जिला पंचायत सदस्य वीरेंद्र सिंह बघेल ने की कार्यवाही की मांग*

कुक्षी शहर के ढोलया चेक पोस्ट पर  ड्यूटी पर तैनात अधिकारियों कर्मचारी के अनुपस्थित होने की खबर के बाद पूर्व भाजपा जिलाध्यक्ष वरिष्ठ भाजपा नेता रमेश धारीवाल ने  इस मामले को प्रशासन की भारी लापरवाही बताते हुए कहा जहां एक और पूरी प्रदेश सरकार किसी भी प्रकार से लापरवाही नहीं बरत रही है एवं  स्थानीय प्रशासन एसडीएम बीएस कलेस, तहसीलदार सुनील कुमार डावर लगातार अपने सराहनीय कार्यों के चलते अपने कर्तव्यों का पालन कर रहे हैं वही कुछ कर्मचारियों द्वारा अपने कर्तव्य में लापरवाही बरती जा रही है उन कर्मचारियों के विरुद्ध कठोर कार्यवाही की जाना चाहिए इसी प्रकार पूर्व विधायक नगर परिषद अध्यक्ष मुकाम सिंह किराडे, पूर्व जिला पंचायत सदस्य वीरेंद्र बघेल भाजपा नगर मंडल अध्यक्ष लोकेश चौहान , भाजपा के गौरव मोनू पाटीदार सहित भाजपा कार्यकर्ताओं द्वारा भी प्रशासन से लापरवाह कर्मचारी के विरुद्ध कार्यवाही की जाने की मांग की है


Post A Comment:

0 comments: