बडवानी/अंजड~कोरोना वायरस अब पैर धुलवाएंगे आपके दोनों हाथ, मशीन पर पैर रखते ही निकलेगा हैंडवाश और पानी~~

लगभग दस हजार कि लागत से तैयार किया फुटपुश मशिन को~~

जिले कि पहली मशिनें लगेगी कलेक्टर कार्यालय और नगर पालिका बडवानी में~~

अंजड~किसी ने सच ही कहा है कि आवश्यकता ही अविष्कार की जननी है दिनचर्या में कई कार्यों से लेकर शरीर की सफाई तक, सारा भार हाथों पर होता है। हाथों से हम पैर तो धोते हैं मगर, यदि आपसे कोई कहे कि पैरों से हाथ धोइए तो! आश्चर्य होगा। हालांकि कोरोना के इस संकट काल में हाथों को वायरस से बचाने के लिए अब यह भी मुमकिन हो गया है। कोरोना से बचने के लिए हाथ धोना जरूरी है मगर, नल के टैब को छुए बिना ऐसा नहीं हो सकता। हाथ धोने के बाद भी नल बंद करने के लिए टैब छूना पड़ता है। ऐसे में नगर अंजड के एक कारिगर ने कोरोना के संक्रमण की रोकथाम के लिए जुगाड के मैटीरियल से हाथ धुलने वाली फुट पुश मशीन तैयार की है। मतलब, पैर की मदद से टैब चालू और बंद होगा।

एक पैडल पैर से दबाते नल चालू होगा तो दूसरा पैडल दबाने से निकलेगा हैंडवॉश

मशीन बनाने वाले कुंदन पाटीदार ने बताया कि लोहे के फ्रेम पर प्लेटफार्म तैयार किया गया है। इसमें एक पुश टैब और हैंडवॉश की बॉटल लगाने का स्थान बनाया है। दाहिनी ओर जमीन पर लगे पैडल को दबाने पर नल चालू हो जाएगा और बाएं ओर के पैडल को दबाने पर हैंडवाश निकलेगा। पैर हटाते ही पानी और हैंडवॉश का लिक्विड निकलना बंद हो जाएगा। प्रयोग के तौर पर पहले मशनरी का काम करने वाले मैंकेनिक कुंदन पाटीदार ने अंजड के डाँक्टर अशोक गहलोत के मार्गदर्शन में एक मशीन तैयार की, जिसे अब बनाकर तैयार किया गया है। पानी की सुविधा के लिए मशीन के टैब को पानी की टंकी से जोड़ा गया है।

डिजाइन बदलकर तैयार की तीन मशीनें

पहले बनाई जुगाड कि फुट पुश मशीन के डिजाइन में थोड़ा बदलाव किया है। इसके लिए लोहे के पाईप का बड़ा प्लेटफार्म तैयार किया गया। उसके ऊपर बड़ा लोहे का ड्रम रखकर टैब और हैंडवाश बॉटल को दोनों पैडलों से कनेक्ट किया गया है। कुंदन के अनुसार बदले डिजाइन की तीन मशीन तैयार की गई हैं। दो मशिनों का आर्डर नगर पालिका बडवानी सिएमओ ने दिया है जो सोमवार तक बनकर तैयार भी हो जायेगी इसकी फिनिसींग का काम शेष है। लगभग दस हजार रूपये कि लागत से तैयार होने वाली मशीन को बनाने के अलावा बहार के जिलों से भि कुंदन के पास मशिनें बनाने के आर्डर आ रहै है लेकिन लाकडाउन में दुकानों के बंद होने के चलतै वो ज्यादा मशिनों को फिलहाल नहीं बना पा रहै है।


Post A Comment:

0 comments: