अंजड़~"महासभा आपदा कोष मध्यप्रदेश" एक पहल~~

सतीश परिहार अंजड़~~

देश मे कोरोना जैसी वैश्विक महामारी के चलते अखिल भारतीय सिर्वी महासभा मध्यप्रदेश के द्वारा किसी भी समाज बंधु  की आकस्मिक आर्थिक, चिकित्सा व अन्य   परिस्थिति के कारण जरुरत में मदद  कराने हेतु **सिर्वी महासभा आपदा कोष ** का निर्माण करने का निर्णय लिया गया है।
इस संबंध में अखिल भारतीय सिर्वी महासभा मध्यप्रदेश के प्रांतीय अध्यक्ष के द्वारा वरिष्ठ समाजजनो से आडियो कॉन्फ्रेंस से विस्तृत चर्चा की गई है ।
-----------------
इस निर्णय को इस प्रकार किर्यान्वित किया जायगा;

👉सिर्वी महासभा आपदा कोष मध्यप्रदेश के नाम से तहसील स्तर पर रहेगा ।
  कोष का एकत्रीकरण ग्रामीण इकाई के माध्यम से होगा व संचालन भी तहसील स्तर पर होगा।

👉प्रत्येक तहसील स्तर  पर  कम से कम 51000/हजार रुपये का फण्ड अनिवार्य रूप से एकत्रित किया जावेगा व इसे ज्यादा से ज्यादा करने की कोशिश की भी जायेगी।
👉माता जी न करे पर यदि विपदा के दौरान किसी समाजजनों को मदद या  सहायता की आवश्यकता हुई, तो उसका चयन तहसील अध्यक्ष, कोषाध्यक्ष व महासचिव संबंधित ग्रामीण इकाई अध्यक्ष से परामर्श लेकर करेंगे । तत्पश्चात तहसील अध्यक्ष,  परगना अध्यक्ष व प्रांतीय अध्यक्ष, महासचिव, उपाध्याय व कोषाध्यक्ष से  अनुसंशा प्राप्त कर जरूरत मंद समाज बंधुओं को सुविधा उपलब्ध कराएंगे ...
👉अगर आवश्यकता पड़ी  तो आपसी सहमति से एक तहसील से दूसरी तहसील में कोष दिया जा सकता है
👉उक्त कोष वर्तमान में कोरोना महामारी से उत्पन्न  आपदा प्रबंध के दौरान  समाजजन को सुविधा उपलब्ध कराने के उद्देश्य से उपयोग किया जाना है जो प्रदेश में  सामाजिक स्तर पर रहेगी
सभी तहसील अध्यक्ष उक्त कोष को एकत्रित करने का कार्य करे।
उक्त जानकारी अखिल भारतीय सिर्वी महासभा मध्यप्रदेश के प्रांतीय अध्यक्ष कैलाश जी मुकाती VIP मनावर ने देते हुए बताया कि मध्यप्रदेश के 8 जिलों की 17 तहसील व 256 गावो में निवासरत सिर्वी समाज बंधुओं में से जो भी समाजबंधु को इस कोरोना  महामारी के चलते लॉक डाउन के दौरान जरूरत पड़ने पर इस कोष का उपयोग किया जाएगा। वही जरूरत पढ़ने पर अन्य नागरिक बंधुओं को भी सेवाए देने के लिये सिर्वी समाज तत्पर रहेगा।


Post A Comment:

0 comments: