अंजड~कृषि उपज मंडी में शनिवार गेहूं चना और मक्का की आवक कि शुरुआत~~

सतीश परिहार अंजड~~

कोरोना वायरस के खिलाफ अभियान में लॉकडाउन का पहला चरण तो पूरा गया। अब किसानों की समस्याओं को देखते हुए राज्य सरकार ने लॉकडाउन के दूसरे चरण में कृषि उपज मंडियां खोलने का निर्णय किया है।
आज कृषि उपज मंडी में शनिवार गेहूं चना और मक्का के आवक कि शुरुआत हुई है। इसके लिए भारसाधक अधिकारी अपर कलेक्टर अभयसिंह ओहरीया ने कृषि उपज मंडी सचिव को आवश्यक दिशानिर्देश जारी किए हैं, ताकि किसानों को अपनी फसल निकालने के बाद खेत-खलिहान से आवाजाही में कोई परेशानी न हो सके। लाकडाउन से सुस्त पडे ग्रेन व्यावसाई और किसानों में शनिवार कई दिनों के बाद मंडी प्रांगण में चहल-पहल देखी गई है।

शर्तों की करनी होगी पालना

कृषि उपज मंडी प्रशासन को कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए सोशल डिस्टेंसिंग की पालना कराने के सख्त निर्देश दिए गए हैं। मंडी परिसर में किसी तरह की भीड़ न हो पाए। साथ में व्यापारियों व किसानों को मास्क लगाने होंगे। सैनिटाइजर का उपयोग भी अनिवार्य है।

मंडी परिसर में विशेष सफाई अभियान चलाकर स्वच्छ किया जाए। किसी भी कोरोना संदिग्ध की जानकारी होने या लक्षण दिखने पर चिकित्सा जांच करा प्रशासन को सूचित करना होगा। अपर कलेक्टर श्री अभयसिंह ओहरीया ने बताया लॉकडाउन में सख्ती तो है, लेकिन किसानों की सहायता के लिए कृषि मंडियों को खोला गया है, ताकि कृषकों को राहत मिल सके।

अब तक हो जाता है करोड़ों का कारोबार

बडवानी जिले की प्रमुख मंडीयों में शामिल कृषि उपज मंडी में शनिवार से से गेहूं, डालर चना , मक्का व अन्य कृषि जिंसों की आवक शुरू हुई है। मंडी प्रांगण में आदिमजाती सेवा सहकारी संस्था एवं खांडेराव विपणन संस्था द्वारा समर्थन मुल्य गेंहूँ कि खरिदी कि जा रही है। अब कृषि आदान बिकने से किसानों के हाथ पैसा आया है। इससे धरती पुत्र के चेहरे पर खुशी साफ देखी जा रही है।

मंडी के मजदूरों को मिला रोजगार--

नगर अंजड सहित राजपुर कि उपमंडी में गेहूं, डालर चना और मक्का कि आवक से सैकडों  श्रमिकों को रोजगार मिलना शुरू हो गया है। लॉकडाउन के चलते ऐसे श्रमिक बोरोजगार हो गए थे। कृषि जिंसों के परिवहन, माल उतराई व लदान,अनाज की छनाई व तुलाई समेत अन्य कार्य शुरू होने से मजदूरों के हाथ पैसा आ रहा है। इससे इनके चेहरों पर खुशी की लहर है। मंडी परिसर में सभी लोग मास्क लगाकर काम कर रहे हैं।
मंडी सचिव हिम्मत सिंग जमरा के बताए अनुसार शनिवार 25 क्विंटल गेहूं कि आवक हुई जिसका न्यूनतम मुल्य 1890, अधिकतम 1890 और माँडल भी 1890 रुपये रहा वहीं डालर 28 क्विंटल डालर चना कि आवक के न्युनतम अधिकतम और माँडल भाव 5610 रुपयों के रहै इसी प्रकार 135 क्विंटल मक्का लेकर पहुंचे दो किसानों ने 1215 रुपये के भाव से अनुबंध पत्रक बनवाकर अपने माल को बेचा गया।


Post A Comment:

0 comments: