*30 दिन के अंदर लगेंगे 3 ग्रहण जानें क्या होगा इसका प्रभाव*
( *ज्योतिषाचार्य डाँ. अशोक शास्त्री* )

*ग्रहण पर पाप ग्रह का प्रभाव , माह जून - जुलाई में लगने जा रहे सूर्य और चंद्र ग्रहण , ग्रहण इनके लिए रहेगा बेहद अशुभ , दिनांक 21 जून को सूर्य ग्रहण के समय 6 बड़े ग्रह रहेंगे वक्री , प्राकृतिक आपदा से परेशानी , पश्चिमी देशों में बढ़ेगा तनाव , आर्थिक मंदी का असर ।* *डाँ. अशोक शास्त्री*

*30 दिन के अंदर लगेंगे 3 ग्रहण*

           मालवा के प्रसिद्ध ज्योतिषाचार्य डाँ अशोक शास्त्री ने एक चर्चा में बताया है कि  सूर्य ग्रहण और चंद्रग्रहण का पूरी दुनिया पर असर होता है। पिछले वर्ष दिसंबर में जब सूर्य ग्रहण लगा था तभी कहा था कि यह ग्रहण दुनिया के लिए कष्टकारी होगा। स्थिति यह है कि आज पूरी दुनिया एक लाइलाज महामारी से लॉकडउन में है। ज्योतिषाचार्य डाँ अशोक शास्त्री ने कहा कि  इस वर्ष  जून और जुलाई के महीने में करीब 30 दिन के अंदर तीन ग्रहण लगने जा रहे हैं ऐसे में इसका क्या असर होगा ।

*ग्रहण पर पाप ग्रह का प्रभाव*   

           ज्योतिषाचार्य डाँ अशोक शास्त्री ने कहा कि ज्योतिष में ग्रहण के समय बनाने वाली ग्रह स्थिति से आने वाले 3 से 6 महीनों के राजनीतिक, सामाजिक, आर्थिक और मौसम संबंधी भविष्यवाणियां करने की भारत में सदियों पुरानी परंपरा रही है। इसमें बताया गया है कि जब भी किसी एक महीने में दो से अधिक ग्रहण पड़े और पाप ग्रहों का भी उस पर प्रभाव रहे तो वह समय जनता के लिए कष्टकारी होगा।

*जून जुलाई में लगने जा रहे सूर्य और चंद्र ग्रहण* 

           ज्योतिषाचार्य डाँ अशोक शास्त्री ने बताया कि इस वर्ष आषाढ़ के महीने में 6 जून से 5 जुलाई के बीच तीन ग्रहण लगने जा रहे हैं। इनमें से दो ग्रहण भारत में दृश्य होंगे। 5/6 जून को लगने वाला चंद्र ग्रहण यूरोप, भारत सहित एशिया, अफ्रीका और ऑस्ट्रेलिया में भी दिखाई देगा। 21 जून को पड़ने वाला सूर्य ग्रहण भारत सहित एशिया के कई दूसरे राज्यों, यूरोप और अफ्रीका में भी दिखेगा।

*ग्रहण इनके लिए रहेगा बेहद अशुभ*

           ज्योतिषाचार्य डाँ अशोक शास्त्री ने बताया कि इसके बाद 4/5 जुलाई को लगने जा रहा चंद्र ग्रहण अफ्रीका और अमेरिका में नजर आएगा। इन तीनों ग्रहणों में से पहले दो ग्रहण, जो कि वह भारत में दृश्य होंगे। अंतिम ग्रहण जो कि वह भारत में दिखाई नहीं देगा। डाँ. अशोक शास्त्री के मुताबिक इन ग्रहणों का मिथुन और धनु राशि के अक्ष को पीड़ित करना अमेरिका और पश्चिम के देशों के लिए विशेष रूप से अशुभ होगा।

*21 जून को सूर्य ग्रहण के समय 6 बड़े ग्रह रहेंगे वक्री*

           ज्योतिषाचार्य डाँ अशोक शास्त्री ने कहा कि भारत और विश्व के लिए 21 जून का सूर्य ग्रहण बेहद संवेदनशील है। मिथुन राशि में होने जा रहे इस ग्रहण के समय मंगल जलीय राशि मीन में स्थित होकर सूर्य, बुध, चंद्रमा और राहु को देखेंगे जिससे अशुभ स्थिति का निर्माण होगा। डाँ. शास्त्री ने बताया कि ग्रहण के समय 6 ग्रह शनि, गुरु, शुक्र और बुध वक्री होंगे। राहु केतु हमेश वक्री चलते हैं इसलिए इनको मिलकर कुल 6 ग्रह वक्री रहेंगे, जो शुभ फलदायी नहीं है। इस स्थिति में संपूर्ण विश्व में बड़ी उथल-पुथल मचेगी।

*प्राकृतिक आपदा से परेशानी* 

           ज्योतिषाचार्य डाँ अशोक शास्त्री ने कहा कि ग्रहण के समय इन बड़े ग्रहों का वक्री होना प्राकृतिक आपदाओं जैसे अत्यधिक वर्षा, समुद्री चक्रवात, तूफान, महामारी आदि से जन-धन की हानि कर सकता है। भारत, पाकिस्तान, बांग्लादेश और श्रीलंका को जून के अंतिम सप्ताह और जुलाई में भयंकर वर्षा एवं बाढ़ से जूझना पड़ सकता है। ऐसे में महामारी और भोजन का संकट इन देशों में कई स्थानों पर हो सकता है।

*पश्चिमी देशों में बढ़ेगा तनाव*

           डाँ अशोक शास्त्री ने बताया कि  इस वर्ष मंगल जल तत्व की राशि मीन में पांच माह तक रहेंगे ऐसे में वर्षा काल में आसामान्य रूप से अत्यधिक वर्षा और महामारी का भय रहेगा। ग्रहण के समय शनि और गुरु का मकर राशि में वक्री होना इस बात की आशंका को जन्म दे रहा है कि चीन के साथ पश्चिमी देशों के संबंध बेहद खराब हो सकते हैं।

           *आर्थिक मंदी का असर*

            ज्योतिषाचार्य डाँ अशोक शास्त्री ने कहा कि भारत के पश्चिमी हिस्सों में पाकिस्तान, अफगानिस्तान और ईरान में राजनीतिक उठा-पटक चिंता का कारण बनेगी तथा हिंद महासागर में चीन की गतिविधयों से तनाव बढ़ेगा। शनि, मंगल और गुरु इन तीनों ग्रहों के प्रभाव से विश्व में आर्थिक मंदी का असर एक वर्ष तक बना रहेगा । ( डाँ. अशोक शास्त्री )

                  *ज्योतिषाचार्य*
          डाँ. पं. अशोक नारायण शास्त्री
         श्री मंगलप्रद् ज्योतिष कार्यालय
245, एम. जी. रोड ( आनंद चौपाटी ) धार , एम. पी.
                  मो. नं.  9425491351

                  --:   *शुभ भवतु*    :--


Post A Comment:

0 comments: