*झाबुआ~गुजरात महाराष्ट्र से प्रतदिन हज़ारो की तादाद में इन ट्रेनों से मजदूर आ रहे*~~

*मजदूरों का सतत ट्रेनों से आना बाजार का खुला होना, कही न दे देगा कोरोना को न्योता* ~~

*बाजार गुलजार ट्रेन से मजदूरों का आना जारी*~~

झाबुआ से दशरथ सिंह कट्ठा ब्युरो...9039452025~~

झाबुआ - पूरा देश कोरोना वैश्विक महामारी से जूझ रहा है ऐसे में झाबुआ जिला भी इससे अछूता नही है लगातार ग्रीन जोन में रहने वाले झाबुआ में भी कोरोना के 2 मरीजों को पुष्टि हो गई है कुछ दिन पहले झाबुआ जिले के पेटलावद के नाहरपुरा की एक महिला की रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी उसके बाद कल रात्रि में झाबुआ के स्वास्थ्य विभाग में कार्यरत एक ड्राइवर की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आई , उसके बाद मारुति नगर को जिला कलेक्टर द्वारा कंटेटमेंट एरिया घोषित कर दिया ,

*मगर कलेक्टर साहब को यह कदम उठाना था* 

*झाबुआ जिला मूख्यालय पर कोरोना मरीज का मिलना और ,उसके बाद मात्र उसी इलाके को सील करना कहा तक उचित है जबकि सम्बन्धित व्यक्ति जगह जगह वेक्सीन भेजने का कार्य करता था ऐसे में सम्बंधित पॉजिटिव मरीज किन किन इलाको में गया यह भी एक महत्वपूर्ण पहलू है , साथ ही झाबुआ जिला मुख्यालय पर सर्तकता बरतने की भी जरूरत है बेहतर तो यह होता कि जिला कलेक्टर इस मामले को सज्ञान में लेकर झाबुआ शहर में कर्फ्यू लगा देते

*मेघनगर मे भी भय का माहौल*

*लगातार श्रमिक ट्रेनों का मेघनगर स्टेशन पर आना शुरू हो गया है प्रतदिन हज़ारो की तादाद में इन ट्रेनों से मजदूर आ रहे है , मगर सबसे बड़ी हैरान करने वाली बात यह है कि इन ट्रेनों , में केवल झाबुआ ,अलीराजपुर ,धार ,बड़वानी जिलो के ही नही बल्कि रतलाम ,भिंड ,मुरैना के मजदूरों को भी मेघनगर स्टेशन पर ही भेज दिया गया , ऐसे में प्रशाशन को एक बड़ी चुनौती का सामना करना पड़ रहा है ,  साथ ही इन बसों में बैठकर मजदूर टेम्पो चौराहे से होते हुवे रेलवे फाटक ओर वहां से साई चौराहा ओर वहा से अपने अपने स्थानों की ओर रवाना हो रही है , इस बीच मे   बसों में बैठे मजदूर बसों से थूकते भी गुजर रहे है , ऐसे में इन मजदूरों की  स्टेशन पर थर्मो स्केनिग कर उनके नाम पते लिखकर उनके जिलो में भेजा रहा है , पूर्व में मेघनगर प्रशासन द्वारा सड़को को सेनेटराइज की या जा रहा था किंतु लगातार ट्रेनों की आवाजाही के कारण अब सड़को को सेनेटाइज नही किया जा रहा है बसो में बैठे मजदूरों द्वारा भोजन के पैकेट भी खाने के बाद सड़को पर फेके जा रहे है जिसके चलते लोगो मे दहशत का माहौल है

*बाजार गुलजार मजदूरों का आना जारी*

2 दिन पूर्व स्थानीय प्रशासन द्वारा मुनादी कर केवल दवाइयों की दुकान खोलने की इलाजत दी गई थी जिसका मुख्य कारण श्रमिक ट्रेनों के आने को बताया था , मगर अभी श्रमिक ट्रेनों का आना थमा भी नही है कि बाजार आज खुल गए और ऐसा लगा जैसे नगर वासी कोरोना की जंग जीत गए हो यहाँ सोसियल डिस्टेंस की धज्जियां उड़ती नजर आई
जबकि प्रशासन को  इन बाजारों को खोलने की अभी अनुमति देना ही नही थी प्रशाशन की यह जरा सी लापरवाही , मेघनगर वासियो के लिए परेशानी का कारण बन सकती है


Post A Comment:

0 comments: