झाबुआ~डॉ खराडी जैसे अधिकारी ही नकेल कस सकते है~~

प्रतिबंधात्मक धारा मे राजेन्द्र कुमार गेन्दालाल रूनवाल पर एफआईआर दर्ज कर गिरफ्तार किया -किया बाबेल चौराहे पर आधी शटर खोलकर व्यापार~~

प्रसाशन कठोर से कठोर कार्रवाई करे ताकि दोबारा यह या अन्य कोई ऐसा तानाशाही रवैया न अपना सके~~


झाबुआ। संजय जैन~~

जिला प्रशाासन के निर्देश कें बाद रविवार हाट बाजार के दिन झाबुआ नगर में आंशिक अवकाश होने के चलते तथा हाट बाजार में कोई दूकाने नही लगाने के निर्देश के तहत स्थानीय बाबेेल चौराहे पर एक दुकान संचालक राजेन्द्र कुमार गेन्दालाल रूनवाल पर धारा 188,269 एवं 270 के तहत एसडीएम डॉ अभयसिंह खराडी द्वारा कार्यवाही करते हुये रंगे हाथ व्यापार करने पर एफआईआर दर्ज कराई है ओर इनकी गिरफ्तारी की भी कार्यवाही किये जाने की जानकारी मिली है। ज्ञातव्य है कि रविवार को हाट बाजार का दिन होने से आंशिक अवकाश होने के बावजूद भी शहर के बिचोबीच स्थित बाबेल चौराहे पर आधी शटर खोलकर व्यवसाय करने वाले व्यापारी राजेन्द्र कुमार गेन्दालाल रूनवाल की दूकान पर मौके पर पहुचे एसडीएम डॉ खराडी ने उनकी दूकान बंद करवाने के साथ गिरफ्तार किया।  


-रह सके झाबुआ की जनता सवरक्षित एवं सुरक्षित 

इस बारे में डॉ खराडी ने घरो की छतो पर खडे लोगेा को संबोधित करते हुये कहा कि वे कलेक्टर साहब के निर्देश पर दिन रात शहर मे घूम रहे है,ताकि झाबुआ की जनता सवरक्षित एवं सुरक्षित रह सके। जो लोग नियमो का पालन नही करेगे उन पर 

कार्यवाही करना मेरा अधिकार है। खराडी ने कहा कि सभी लोगो को कोरोना वायरस महामारी से बचने के लिये नियमो का पालन करना बेहत जरूरी है अन्यथा शहर की स्थिति बिगडते देर नही लगेगी।  उन्होने कहा कि वे शहर की जनता के लिये काम कर रहे है। उन्हे जो दायित्व सौपा गया है उसका दायित्व का निर्वाह कर रहे है तथा आगे भी सतत रूप से करते रहेगे। 


००००००००००००० बॉक्स खबर ०००००००००००००००

इस कार्रवाई के बारे में जब हमारी टीम ने लोगो से चर्चा कि तो नाम न छापने कि शर्त पर अधिकतर आस-पास के दुकानदारों ने हर्ष जाहिर करते हुए बताया कि यह दुकानदार हमारी पट्टी का सबसे जिद्दी और झगडालु व्यापारी है। डॉ खराडी जैसे अधिकारी ही इस पर नकेल कस सकते है उन्होंने यह कार्रवाई कर झाबुआ कि जनता को सुरक्षित ही किया है। इसमें कुछ भी गलत नहीं है। कुछ दुकानदारों ने तो अद्भुत बात बतायी कि इस दुकानदार ने कई बार इसके पडोसी दुकानदार से बेवजह मारपीट भी की है,जिस बात को पूरा झाबुआ जानता भी है। अपने दुकान पर कार्यरत आदिवासी स्टाफ  को आगे कर यह आये दिन दुकानदारों और ग्राहकों को एट्रोसिटी की धमकी देकर मारपीट करवाता रहता है,जिस पर भी प्रशासन को ध्यान देने की आवश्यकता भी है। बाजार में तो कुछ लोगो ने यह भी कहा कि इतना होने के बावजूद भी इसकी अक्ल ठिकाने पर नहीं आयी 

है क्योंकि अब वह यह कहता हुआ नजर आ रहा है कि पैसे से सब कुछ होता है। इस मामले को मैं आसानी से निपटा भी दूंगा। 

                                        ००००००००००००० बॉक्स खबर ०००००००००००००००

-प्रसाशन पूर्व के इसके आपराधिक रिकॉर्ड का अवलोकन कर कठोर से कठोर कार्रवाई करे.....

गौरतलब है की पूरी पट्टी में उक्त दुकानदार ही सबसे अधिक अतिक्रमण भी कर रखा है। नगर पालिका की पूरी नाली को ढककर नाली का रास्ता भी बंद कर दिया है। जिसके कारण पडोसी दुकानदार के साथ कई बार इससे ऊपर की तर्ज पर ही मारपीट भी की है। साथ ही मिलावट खोरी के आरोप भी इस पर लगे थे। सरकारी अस्पताल के कर्मचारी से भी इसने मारपीट की थी प्रसाशन को चाहिए कि पूर्व के इसके आपराधिक रिकॉर्ड का अवलोकन कर इस पर कठोर से कठोर कार्रवाई करे ताकि दोबारा यह या अन्य कोई ऐसा तानाशाही रवैया न अपना सके।   


Post A Comment:

0 comments: