झाबुआ~बस स्टेंड पर फल विक्रेता उडा रहे लॉकडाउन की धज्जियां-बनी हर पल खतरे की आशंका ~~

झाबुआसंजय जैन~~

नगर में कोरोना संक्रमण के मरीजों की संख्या बढने के बाद प्रशासन द्वारा जो आंशिक छूट व्यापारियों प्रतिष्ठान खोलने के लिए दी थी उसे बंद कर नगर सहित समूचे अंचल में 17 मई तक टोटल लॉकडाउन की घोषणा आपदा प्रबंधन की बैठक में करते हुए जिला दंडाधिकारी प्रबल सिपाहा द्वारा सभी नागरिकों से घर पर ही रहने का आव्हान किया, ताकि कोरोना के संक्रमण को फैलने से रोका जा सके।

-उडा रहे आदेश की सरेआम धज्जियां ...
प्रशासन के आदेश का हॉटल, किराना, कपडा, स्टेशनरी, जनरल स्टोर आदि के व्यवसाईयों सहित शराब ठेकेदारों ने भी अपनी लायसेंसी दुकाने बंद कर उक्त आदेश का पालन कर रहे है। वही दुसरी तरफ  बस स्टेंड व नगरपालिका कार्यालय के निकट स्थित फल व्यापारी प्रशासन के उक्त आदेश की सरेआम धज्जियां उडा रहे है। यहां फल व्यापारी अपनी दुकाने रात 3-4 बजे से खोल रहे है,जहां से ग्रामीण क्षेत्र के लोग फलों को बाईक पर लादकर गांवों में ले जाकर बेचते है।

-बनी हर पल खतरे की आशंका
प्रशासन एक तरफ लोगों से सावधानी बरतने की बात कर रहा है और वे इसका पालन भी कर रहे है क्योकि उन्हें पता है कि प्रशासन दिन रात जागकर यह सब कुछ हमारे लिए ही कर रहा है। लेकिन दुसरी तरफ  ऐसे मुनाफाखोर व्यापारी खतरे को और अधिक बढाने का काम कर रहे है, क्योकि इन व्यापारियों के यहा पहुंचने वाले ग्रामीण ना तो मास्क लगाकर आ रहे है और ना ही यहा सोशल डिस्टेसिंग का पालन किया जा रहा है, जिससे हर पल खतरे की आशंका बनी रहती है।
-पासधारी को है खरीदने के आदेश
जिला प्रशासन द्वारा लॉकडाउन की शुरूआत में यह निर्देश जारी किये थे कि फल और सब्जी की मंडी पोलेटेक्निक कालेज परिसर में लगेगी,जहां पासधारी फल सब्जी विक्रेता थोक में खरीदी कर होम डिलीवरी कर सकेगे। होम डिलीवरी का समय भी प्रात: 8 से दोपहर 2 बजे तक का निर्धारित किया है। प्रशासन के आदेश के बाद भी उक्त व्यापारी नियम के विरूद्व पोलेटेक्निक कालेज की बजाय बस स्टेंड व नपा कार्यालय के निकट अपनी दुकाने खोलकर जहा प्रशासन को ठेगा दिखा रहे है वही इनके द्वारा इस संकट की घडी में मुसीबते बढाने का काम भी किया जा रहा है। यदी समय रहते प्रशासन ने ऐसे धंधेबाजों पर कार्यवाही नही की तो वे आगे भी प्रशासन को आंखे दिखाते रहेगे।

-शिकायत के बाद हुई सख्ती
लॉकडाउन के बाद से ही उक्त फल विक्रेताओं के यहा सुबह से ही भीड भाड होने व शोरगुल के साथ ही नियमों का पालन नही होने के कारण एक युवा द्वारा पिछले तीन चार दिनों से रोजाना वहा से गुजरने वाले पुलिसकर्मियों का शिकायत करता था। पुलिस दुकाने बंद कराती और पुलिस के जाने के बाद दुकाने पुन: खुल जाती थी, शुक्रवार को युवा ने कोतवाली पुलिस थाने में उक्ताशय की जानकारी दी,जिसके बाद कोतवाली पुलिस वाहन से मौके पर पहुंची और सख्ती दिखाते हुए बस स्टेंड व नपा कार्यालय के निकट की दुकाने बंद कराई। बस स्टेंड पर घंटों खडे रहकर बाईकों से फल लेने आने वालों को वहा से भगाया। मौके पर पहुंचे पुलिसकर्मियों ने फल विक्रेताओं को समझाईश देते हुए कहा कि वे नियमों का पालन करे अन्यथा उनके खिलाफ  कार्यवाही की जावेगी। अब देखना यह है कि फल विक्रेता अपनी आदतों से बाज आते है या फिर आगे भी प्रशासन के नियमों की इसी तरह धज्जियां उडाते संकट खडा करने में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभायेगे।


Post A Comment:

0 comments: