अंजड~कोरोना वायरस--घर के बाहर दिवार पर लिखा मंत्र नहीं आएगी नाकारात्मक ऊर्जा~~

आस्था कि मंत्र---ऊँ नमो भगवते आंञ्जनेयाय महाबलाय कोरोना वायरस स्वाहा लिखने जल्द खत्म हो जाएगा असर~~

सतीश परिहार अंजड~~

अंजड--कोरोना के संक्रमण को रोकने के लिए विश्व भर में सोशल डिस्टेंस पर काम किया जा रहा है। वहीं भारत में 4.0 का लॉक डाउन होने के साथ ही कर्मचारियों से वर्क एट होम और मजदूरों को सोशलडिस्टेंशींग पालन करने की बात कही जा रही है।

कोरोना संक्रमण को नाकारात्मक ऊर्जा से जोड़ कर देख रहे हैं। वहीं कुछ लोगों के अनुसार कोरोना जैसे वायरस एक तरह की नाकारात्मक ऊर्जा का ही परिणाम है, ऐसे में यदि हम घर पर हैं। तो वहां सकारात्मक ऊर्जा बढ़ाने का काम करना चाहिए। जिससे नाकारात्मक ऊर्जा हमारे घर या हमारे और परिवार के अन्य लोगों की ओर न आ सके।

नगर अंजड के बाहरी क्षेत्र में रहने वाले एक मजदूर ने अपने घर के बाहर एक मंत्र लिखकर लोगों में कौतूहल बढा दिया है जो भी राहगीर इसे देखता है तो उसे इस पर अचरज होता है।
नगर अंजड के ठीकरी रोड पर रहने वाले मजदूर देविसींग बाबूलाल जो अपनी पत्नी सहित दो लडके और दो लडकियों के साथ अंजड के गांव बाहर रहते है इन्होंने अपने घर के बाहर दीवार पर एक मंत्र लिखकर कोरोना से बचाव और उसको नष्ट करने की बात कही है ,देखा जाये तो नगर अंजड में प्रवेश करते ही पहली कुटिया इन्ही कि आती है, पेशे से मजदूरी करने वाले देवीसिंह से
जब उनसे कुटिया कि दिवार पर कोरोना मंत्र के बारे में पुछने पर बताया कोरोना बहुत खतरनाक बिमारी है इसे महाबली हनुमान जी स्वाहा याने खत्म करेंगे। नगर अंजड में कुटिया पर लिखा
ऊँ नमो भगवते आंञ्जनेयाय महाबलाय कोरोना वायरस स्वाहा
यह मंत्र जनचर्चा का विषय भी बना हुआ है,भारत में आस्था में विश्वास रखने वाले लोग बसते हैं और ऐसे में कोरोना वायरस को दूर भागने ओर नष्ठ करने में इस मंत्र का योगदान कारगर साबित हुआ तो भी ये एक बड़ी बात होगी। इस संबंध में पंडित लखन शर्मा का कहना है कि कहीं भी आने वाली परेशानी के पीछे एक मुख्य कारण निगेटिव एनर्जी भी होती है। ऐसे में यदि आपको घर पर ही रहने का समय मिला है, तो आपको अपने घरों से नाकारात्मक उर्जा को बाहर कर सकारात्मक ऊर्जा को बढ़ाना चाहिए।


Post A Comment:

0 comments: