*सीहोर /नसरुल्लागंज~मुख्यमंत्री के गृह जिले में बदइंतजामी से हजारों क्विंटल गेंहू बारिश की भेंट चढ़ा,सरकार को करोड़ों का नुकसान!*~~

लापरवाही-बारिश में जलमग्न हुआ हजारों क्विटल गेहूं~~

नसरुल्लागंज से जिला रिपोर्टर आनंद अग्रवाल की  रिपोर्ट~~

जिले में समर्थन मूल्य पर गेहूं खरीदी केंद्रों पर खुले में पड़ा हजारों क्विंटल गेहूं बीती रात हुई बेमौसम बारिश में जलमग्न हो गया । बीती शाम मौसम खराब होने के बावजूद भी केंद्रों पर अनाज को सुरक्षित करने के कोई इंतजाम नजर नहीं आ रहे थे । जिले के अधिकांश केंद्रों पर अभी भी गेहूं बाहर पड़ा है।
जिले के 178 खरीदी केंद्रों पर अब तक 7.15  लाख मेट्रिक टन के लगभग गेहूं की खरीदी हो हुई है ।
हजारों क्विंटल गेहूं केंद्रों के बाहर बेमौसम बारिश में खराब हो रहा है। लेकिन अधिकारी लापरवाही बरत रहे हैं।
दअरसल 15 अप्रैल से शुरू हुई गेंहू की समर्थन मूल्य पर खरीदी के लिए इस बार 86 हजार 243 किसानों ने पंजीयन कराया था जिसमें अंतिम तारीख यानी कर 31 मई तक 80 हजार 150 किसानों ने जिले में बनाए गए 178 समर्थन केंद्रों पर गेहूं की तुलाई कराई ।
शासन ने इस बार 5 लाख मेट्रिक टन गेहूं खरीदी का लक्ष्य रखा था जो गेहूं की बंपर पैदावार होने के कारण लक्ष्य 2.15 लाख मैट्रिक टन अधिक है।
जिससे इस बार हुई बम्पर आवक से खरीदी केंद्रों पर आया हजारों क्विंटल गेहू खुले में पड़ा था ।
नाही परिवहन की उचित इंतजाम थे, नाही इन्ह हजारो किविंटल गेंहू को कही रखने का उचित इंतजाम किया गया । जिससे आज यह सरकार को करोड़ों रुपये के नुकसान होने की संभावना है
*आष्टा के खरीदी केंद्रों पर ज्यादा नुकसान*
आष्टा अनुविभागीय छेत्र के विशाल शिवहरे वेयरहाउस केंद्र पर कोठरी, निपानिया जैसे बड़े गांवो केंद्र का गेंहू तुला, वही जावर छेत्र के सुमित वेयरहाउस,मुकति वेयरहाउस खरीदी केंद्रों पर हजारों क्विंटल गेहू बारिश की भेंट चढ़ गया
इसके बाद खामखेड़ा जत्रा केंद्र के भी यही दुर्दशा है ।
जिससे आष्टा के केंद्रों पर समर्थन मूल्य पर खरीदा गेंहू खुले में पड़ा हजारों क्विंटल गेहूं बीती रात हुई बेमौसम बारिश में जलमग्न हो गया है। जिससे सीएम शिवराज सिंह चौहान के गृह जिले में ही सरकार को अधिकारियों की लापरवाही से करोड़ों रुपये के नुकसान होने की संभावना है


Post A Comment:

0 comments: