बाकानेर~मुस्लिम कार्यकर्ताओ की कांग्रेस भक्ती का क्या खुब सिला दिया है कांग्रेस ने- रियाजुद्दिन शेख*~~

*कांग्रेस तो हो गई मुस्लिम मुक्त , कहीं मुस्लिम न हों जाए कांग्रेस मुक्त*~~

सैयद रिजवान अली बाकानेर~~

*कोई भी राजनैतिक दल हो सभी ने मुस्लिम समाज के कार्यकर्ताओ का सिर्फ उपभोग ही किया है । मुस्लिमो को सिर्फ अपना सुरक्षित वोट बेंक समझने वाली कांग्रेस ने अपनी दोगली व ओछी राजनीति का वर्तमान मे एक और उदाहरण पेश कर दिया है । यु तो हमेशा से ही मुस्लिम कार्यकर्ताओ की नाकद्री कांग्रेस मे होती ही आ रही है फिर भी इन्होने कभी हाथ का साथ नही छोडा़ । कांग्रेस मे अपना भविष्य तलाशने की गलतफहमी को पालने वाले मुस्लिम कार्यकर्ताओ को हमेशा ही पार्टी मे उपेक्षा का शिकार होना पढ़ता है । निश्चित ही मध्यप्रदेश मे पन्द्रह सालो के बाद पन्द्रह महिने के कांग्रेसी कार्यकाल मे मुस्लिम कार्यकर्ताओ की उपेक्षा का जीवंत उदाहरण देखने को मिला । कांग्रेस के इस शासन काल मे जब सभी को सेवाओ का प्रतिफल बांटा जा रहा था तब भी मुस्लिम कार्यकर्ता को नज़र अंदाज़ किया गया था और अभी वर्तमान मे भी जब जिला अध्यक्ष की जिम्मेदारी से नवाजा जा रहा था तब भी आलाकमान को कीसी भी जिले का कोई भी मुस्लिम कार्यकर्ता इस पद के लायक नज़र नही आना आश्चर्य चकित करता है ।  आलाकमान की नजर मे शायद मुस्लिम कार्यकर्ताओ के समर्पण की कोई कद्र ही नही है क्योकि नाकद्री करते हुए अदना सा ज़िला अध्यक्ष का पद तक नही दिया गया ।  हाल ही मे सोश्यल मीडिया प्रभारीयों की नियुक्ति हुई कांग्रेस आलाकमान ने इस नियुक्ति मे भी मुस्लिम कार्यकर्ताओं के साथ सोतेला व्यवहार बनाये रखा । अगर कांग्रेस आलाकमान चाहता है की कांग्रेस पुरी तरह से मुस्लिम मुक्त हो जाये तो स्पष्ट कर दे मन मे बैर रखकर दोगली व ओछी राजनीति से मुस्लिम कार्यकर्ताओ का तिरस्कार न करें । खैर अब मुस्लिम कार्यकर्ता भी जागरुकता की और अग्रसर हो रहा है वह भी इस ओछी राजनीति को समझने लग गया है, वह भी  अपना राजनीति भविष्य कांग्रेस के लिए दांव पर न लगाते हुए अन्य सुरक्षित दल की तलाश कर रहा है । मुस्लिम मुक्त कांग्रेस बनाने की सोच रखने वाले तथाकथित लोगो को सबक सिखाते हुए मुस्लिम कार्यकर्ताओ ने कांग्रेस मुक्त मुस्लिम वर्ग के निर्माण पर काम करना जल्द से जल्द शुरु कर देना चाहियें । उक्त आरोप स्वरुप विचार व्यक्त करते हुए अल्पसंख्यक विकास कमेटी के प्रदेश अध्यक्ष रियाजुद्दीन शेख ने सोनिया गांधी को पत्र लिख प्रदेश कांग्रेस आलाकमान की दोगली नीति पर आरोप लगाकर मुस्लिम कार्यकर्ताओ को महत्तव प्रदान करने की बात कही है । उन्होने कहा की कांग्रेस ने अगर जल्द ही अपनी कार्यशैली मे परिवर्तन कर मुस्लिम कार्यकर्ताओ को समान महत्तव नही दिया तो शिघ्र ही म.प्र. मे मुस्लिम कार्यकर्ताओ को दुसरे राजनेतिक दल के साथ खडे़ होने के विकल्प तलाशना होंगे । फीर शायद मुस्लिम मुक्त कांग्रेस का सपना देखने वालो का सपना भी हकिकत मे बदलेगा और उन मुस्लिम कार्यकर्ताओ का भ्रम भी टुटेगा जो धुत्कारे जाने के बाद भी कांग्रेसी अंध भक्ति मे कट्टरता से उसके साथ खडे़ रहते आये है ।*


Post A Comment:

0 comments: