झाबुआ~शासकीय उचित मूल्य की दूकानो पर हो रही कालाबाजारी-कोरोना संकट के समय सैल्समेनो की हुई चॉदी~~





कई महिनो से कैरोसिन नही मिल रहा~~





झाबुआ। संजय जैन~~

जिले सहित नगर मे इन दिनों शासकीय उचित मूल्य की दूकानो मेे जमकर कालाबाजारी की जा रही है। वही जहा एक ओर प्रदेश सरकार की योजना के अन्तर्गत शासकीय उचित मूल्य की दूकानो पर 5 किलो चावल ओर एक किला चने की दाल को वितरण की प्रक्रिया बनाई गयी थी। जिस पर से इन उचित मूल्य की दूकानो पर सैल्समैनो के द्वारा कालाबाजारी कर चने की दालो का वितरण ही नही किया गया। वही चने की इन दालो को बाजारो मे अन्य दूकानदारो को बेचकर सैल्समैनो ने बडा मुनाफा कमाया है। 




-कई महिनो से कैरोसिन नही मिल रहा





सैल्समैनो के द्वारा इन उचित मूल्य की दूकानो पर कैरोसिन की भरपूर आवक होने के बाद भी इनके द्वारा जमकर कालाबाजारी की जा रही है। लॉकडाउन के चलते कालाबाजारी के चलते सैल्समैनो की चांॅदी हो गई। वही इन सैल्समैनो के द्वारा कैरासिन को उपभोक्ताओ को बेवकूफ  बनाकर उन्हे नही दिया जा रहा है। वही उनके द्वारा नगर एवं जिले भर मेे स्थित छोटी-छोटी होटलो से लेकर बडी होटलो तक कैरोसिन का सप्लाय कर उन्हे बेचा जा रहा है। वही खाद्य विभाग का इस ओर कोई ध्यान नही दिया जा रहा है। इसके चलते नगर मेें उपभोक्ताओ को विगत कई महिनो से कैरोसिन नही मिल रहा है। कई बार सैल्समैनो के द्वारा उपभोक्ताओ को यह कहकर टाल दिया जाता है कि उनके घरो मे तो गैस जल रही है उन्हे नही मिल सकता। जिस पर से उस उपभोक्ता के नाम का कैरोसिन सैल्समैनो के द्वारा काली कमाई के रूप मे सामने आकर उसे बेचा जा रहा है। इतना ही नही कई सैल्समैनो के द्वारा अन्य कई सामानो मे भी हैराफैरी कर शासन का चुना लगाया जा रहा है। 




-उपभोक्ताओ को राशन से वंछित रहना पडता 





पूर्व मे प्रदेश सरकार के द्वारा अंगूठा लगाकर मशीन से उपभोक्ताओ को राशन की सुविधा प्रदान करने के आदेश दिये गये थे जिससे की इस प्रकार की हो रही कालाबाजारी को रोका जा सके। लेकिन ग्रामीण अंचलो मे यह सुविधा सही प्रकार से कार्य नही कर पाने के एवज मे इस सुविधा को प्रदेश सरकार के द्वारा बंद करना पडा,क्योकि गा्रमीणो के द्वारा कडी मेहनत करने के कारण उनके हाथो की उंगलियो के साथ ही अंगूठे की रेखाये भी मिट जाती है। जिससे की थंब मशिन उसे नही ले पाती थी ओर उपभोक्ताओ को राशन से वंछित रहना पडता था। इसके लिये इस प्रकार की सुविधा को भी बंद कर दिया गया। लेकिन आज भी सैल्समेैनो के द्वारा राशन की दूकानेा से खाद्य सामग्रीयो की कालाबाजारी थमने का नाम नही ले रही है। जिसके कारण उपभोक्ताओ को अनाज मिलने मे परेशानियो का सामना करना पड रहा है। इस ओर जिला प्रशासन को ध्यान देने की दरकार है।




Post A Comment:

0 comments: