*आज 25 जुलाई को नाग पंचमी, जानिए ये 5 रोचक बातें*~~

*साथ  नाग पंचमी पर राशि अनुसार करें उपाय , सारे कष्टों से मिलेगी मुक्ति*( डाँ. अशोक शास्त्री )*~~

*नाग पंचमी पर नहीं पिलाना चाहिए नाग को दूध*~~

सावन मास की शुक्ल पक्ष की पंचमी को नागपंचमी का पर्व मनाया जाता है । मालवा के प्रसिद्ध ज्योतिषाचार्य डाँ अशोक शास्त्री ने एक चर्चा में बताया है कि  इस बार यह शुभ तिथि आज दिनांक 25 जुलाई शनिवार को है । हिंदू धर्म में नागपंचमी पर नाग देवता की पूजा की परंपरा रही है । नाग भगवान शिव के गले का हार भी हैं और भगवान विष्णु की शैय्या भी । आम जीवन में भी नाग से लोगों का गहरा नाता रहा है । इन्ही कारणों से नाग देवता की पूजा - अराधना की जाती है । डाँ. अशोक शास्त्री ने कहा कि भक्तजन इस दिन दूध और लावा चढ़ाकर सुख व समृद्धि का आशीर्वाद मांगते हैं ।
ज्योतिषाचार्य डाँ अशोक शास्त्री ने बताया कि आपको नांग पंचमी पर पांच रोचक बातें बताते हैं….

*इस तरह हुई नाग पंचमी की शुरुआत*

भविष्यपुराण के पंचमी कल्प में नाग पंचमी को खास बनाए जाने का जिक्र है । डाँ अशोक शास्त्री ने बताया कि  सागर मंथन के दौरान माता की आज्ञा ना मानने के कारण नाग को शाप मिला की राजा जनमेजय के यज्ञ में जलकर तुम सभी भस्म हो जाओगे । शाप के भय से घबराए हुए नाग ब्राह्माजी की शरण में जा पहुंचे । ब्रह्माजी ने बताया कि जब नागवंश में महात्मा जरत्कारू के पुत्र आस्तिक होंगे , वह आप सभी की रक्षा करेंगे । जिस दिन ब्रह्माजी ने नागो को रक्षा का जो उपाय बताया था , उस दिन पंचमी तिथि थी । आस्तिक मुनि ने सावन की पंचमी को ही नागों को यज्ञ में जलने से बचाया था और इनके ऊपर दूध डालकर जलते हुए शरीर को शीतलता प्रदान की थी । इस समय ही नागों ने आस्तिक मुनि से कहा कि पंचमी को जो भी मेरी पूजा करेगा उसे नागदंश का भय नहीं रहेगा । तब से पंचमी तिथि के दिन नागों की पूजा की जाती है।

*इन चीजों से की जाती है पूजा*

          डाँ अशोक शास्त्री ने कहा कि नाग पंचमी के दिन नाग देवता को पांच तरह की चीजें से पूजा की जाती है। इनमें दूध, धान का लावा, धान, दूर्वा घास और गाय के गोबर है। इस दिन गरीबों और जरूरतमंदों को भोजन भी करवाया जाता है। मान्यता है कि नाग पंचमी की पूजा करने पर घर में कभी धन-धान्य की कमी नहीं होती है। साथ ही हर क्षेत्र में

*कालसर्प दोष से मिलती है मुक्ति*

          नाग पंचमी के दिन कालसर्प दोष निवारण की पूजा कराने से जातक को विशेष लाभ मिलता है। ज्योतिषाचार्य डाँ अशोक शास्त्री ने कहा कि जब कुंडली में राहु और केतु के बीच सभी ग्रह आ जाते हैं तब कालसर्प दोष बनता है। माना जाता है कि इस योग में रहने वाले इंसान को कभी फल नहीं पाता है, उसे हमेशा किसी ना किसी चीज की परेशानी रहती है। नागपचंमी के दिन विधि-विधान से पूजा करके कालसर्प दोष से मुक्ति मिलती है।

*पातल के स्वामी हैं नाग*

           डाँ. अशोक शास्त्री ने कहा कि नाग देवता पाताल के स्वामी हैं। इसलिए नाग पंचमी पर पूजा करने वाले व्यक्ति को इस दिन भूमि की खुदाई नहीं करनी चाहिए। सांप को क्षेत्रपाल के नाम से भी जाना जाता है। सांप चूहों आदि से खेत की रक्षा करते हैं इसलिए नाग पंचमी के दिन नागों की पूजा की जाती है और खुदाई नहीं की जाती ।

*भूलकर भी ना करें ये काम*

   ज्योतिषाचार्य डाँ अशोक शास्त्री ने कहा कि नाग पंचमी पर नाग को दूध पिलाने की परंपरा है लेकिन क्या आपको पता है कि नाग को दूध पिलाने के कुछ दिन उनकी मृत्यु हो जाती है। इसलिए शास्त्रों में भी नाग को दूध पिलाने के लिए नहीं दूध से स्नान कराने को कहा गया है । डाँ. शास्त्री के मुताबिक विज्ञान के अनुसार भी नाग को दूध नहीं पिलाना चाहिए। विज्ञान की मानें तो सांप रेप्‍टाइल जीव हैं न कि स्‍तनधारी। रेप्‍टाइल जीव दूध को हजम नहीं कर सकते और ऐसे में उनकी मृत्‍यु तक हो जाती है ।

*नाग पंचमी पर राशि अनुसार करें उपाय, सारे कष्टों से मिलेगी मुक्ति*

नाग पंचमी के दिन नाग देवताओं की पूजा की जाती है । डाँ अशोक शास्त्री ने कहा कि नाग पंचमी के दिन जो व्यक्ति राशि के अनुसार उपाय करता है उसे समस्त प्रकार के कष्टों से मुक्ति मिलती है। आइए जानते हैं नाग पंचमी के दिन राशि अनुसार कौनसे उपाय करने चाहिए।

*मेष* :~卐मेष राशि के जातकों को नाग पंचमी पर रुद्राष्टाध्यायी का पाठ करना चाहिए। जिन लोगों को राहु की पीड़ा है। उन्हें नाग पंचमी पर रुद्राष्टाध्यायी का पाठ करने से राहु की पीड़ा से मुक्ति मिलेगी।
*वृषभ* :~ इस राशि के लोग नागपंचमी के दिन से 40 दिनों तक नियमित रुप से रोजाना एक तांबे का टुकड़ा बहते जल में प्रवाहित करें। इससे राहु का प्रभाव कम होगा।
*मिथुन* :~ मिथुन राशि के जातकों को नाग पंचमी के दिन से 40 दिन पर्यंत कुष्ठ रोगी को मूली का दान करें । इससे इनके उपर से अशुभ ग्रहों की बाधा दूर होगी ।
*कर्क* :~ कर्क राशि के जातकों को नाग पंचमी के दिन से 8 दिन तक लगातार बहते हुए जल में नारियल प्रभावित करना चाहिए । इससे राहू के कष्ट दूर होंगे ।
*सिंह* :~ सिंह राशि के लोग अपने उपर से अशुभ ग्रहों के प्रभाव दूर करने के लिए नाग पंचमी के दिन से और उसके बाद पडने वाले प्रथम शनिवार के दिन एक लाल कपडे मे एक नारियल और चार बादाम बांध बांध कर किसी एक गड्डे में दबा दे ।
*कन्या* :~ कन्या राशि जातकों को नाग पंचमी के दिन से 6 दिनों तक लगभग 100 ग्राम धनिया किसी गरीब व्यक्ति को दान देना चाहिए । इससे मानसिक कष्टों से छुटकारा मिलेगा । जीवन में खुशियाँ आएगी ।
*तुला* :~ तुला राशि के जातक नाग पंचमी के एक दिन पहली रात को कुछ जौ के दाने अपने सिराहने रखकर सोए । नाग पंचमी के दिन प्रातः उठकर उक्त दाने पक्षियों को डाल दे । ऐसा करने से सुख समृद्धि आएगी एवं दरिद्रता दूर होंगी । नाग पंचमी के दिन जौ दान भी करें ।
*वृश्चिक* :~ वृश्चिक राशि के जातकों को नाग पंचमी के दिन नागों की पूजा तो करेंगे ही लेकिन आप इस दिन गणेश जी की पूजा भी करें । उन्हें लड्डू का भोग लगाएं । इससे रोजगार के रास्ते बनेंगे ।
*धन* :~ धन राशि के जातक नाग पंचमी के दिन आटे में चीनी मिलाकर चोटियों को खिलाएं , ऐसा करने से शनि की वक्री दृष्टि से राहत मिलेगी । दरिद्रता दूर होंगी । आर्थिक स्थिति मजबूत होगी ।
*मकर* :~ मकर राशि के जातकों को नाग पंचमी से हर शनिवार को 11 दिनों तक तिल और जौ का दान करें ऐसा करने आपकी आर्थिक स्थिति मजबूत होगी साथ मेहनत का पूर्ण फल मिलेगा ।
*कुंभ* :~ कुंभ राशि के लोगों को नाग पंचमी के दिन कोयले को बहते पानी में प्रवाहित करना चाहिए । इससे आपकी सेहत अच्छी रहेगी । राशि के स्वामी शनि देव प्रसन्न होंगे ।
*मीन* :~ मीन राशि के जातकों के लिए नाग पंचमी के दिन अपने हाथ में अष्ट धातु से बना हुआ कडा पहनना चाहिए , इससे घर में शांति का निवास होगा । क्लेश से मुक्ति मिलेगी । ( डाँ. अशोक  शास्त्री )

                  *ज्योतिषाचार्य*
          डाँ. पं. अशोक नारायण शास्त्री
         श्री मंगलप्रद् ज्योतिष कार्यालय
245 , एम. जी. रोड ( आनंद चौपाटी ) धार , एम. पी.
                  मो. नं.  9425491351

         --:  *शुभम्  भवतु*  :--


Post A Comment:

0 comments: