*झाबुआ~जयस ने यूरिया खाद को लेकर कलेक्टर के नाम  तहसीलदार को दिया ज्ञापन*~~

*यूरिया खाद नही मिलने से किसान हो रहा परेशान*~~

*बाजार में हो रही यूरिया की कालाबाजारी*~~

*जयश ने विधायक वीरसिंह भूरिया से की निराकरण की मांग* ~~

झाबुआ जिला ब्युरो दशरथ सिंह कट्ठा...9685952025~~

झाबुआ - जिले के मेघनगर में यूरिया खाद नही मिलने की वजह से किसान काफी परेशान है ! किसान लगातार सोसायटीयो के चक्कर पे चक्कर लगा रहा है जहॉ किसानों को आश्वासन दिया जा रहा है कि यूरिया खाद जल्द आने वाला है ! वही कोविड 19 महामारी के दौरान हर आम आदमी पहले से ही परेशान है ! तो वहीँ किसान आर्थिक रूप से कमजोर हो गया है ! ऐसे में सहकारी सोसायटी से किसान को यूरिया खाद न मिलने की वजह से किसानों की फसलें खराब हो रही हैं ! जिसे लेकर किसानों को बाजार से ब्लैक में यूरिया खाद ज्यादा राशि देकर खरीदना पड़ रहा है ! इस बात को लेकर जय आदिवासी युवा संगठन के कार्यकर्त्ताओ में काफी नाराजगी आक्रोशित दिखाई दिए,जिसे लेकर जयस जिला मीडिया प्रभारी दिनेश वसुनिया ने आरोप लगाते हुवे कहा कि किसानों को मजबूर होकर यूरिया खाद दुगने दामो में खरीदना पड़ रहा है किसान से व्यापारी 420 रुपये से लेकर 450 रुपये तक वसूल रहे है ! ऐसे में सोसायटी के माध्यम से किसानो को खाद नही मिल रहा है ! प्रशासन को चाहिए कि वह सोसायटी पर जल्द-जल्द खाद उपलब्ध करवावे और बाजार में यूरिया खाद कालाबाजारी में ब्लैक में बेच रहे उन लोगो पर उचित कार्यवाई की बात की
इस अवसर पर जयस के नगर अध्यक्ष माधुसिंह डामोर,सहित अनेक जयस कार्यकर्त्ताओ ने विधायक वीरसिंह भूरिया तथा जिला कलेक्टर के नाम तहसीलदार शक्ति सिंह को ज्ञापन सोपा दोषियों पर उचित कार्यवाई की मांग की

*इनका कहना है -*

में पिछले सात दिनों से सोसायटी के और गोदाम के चक्कर लगा रहा हु मगर यूरिया खाद नहीं मिल रहा है बाजार में खाद की कीमत 400 से 450 तक है ऐसे में इतना महंगा खाद केसे खरीदे कोरोना की वजह से हमे काफी परेशानी झेलना पड रही है ऐसे में शिवराज सरकार से मांग है की जल्द खाद उपलब्ध हो - *वसना खराडी ग्राम नवापाडा,मेघनगर*

*एक दो दिन में खाद की रेक आने वाली है जल्द ही खाद किसानो को मिल पायेगा फ़िलहाल वर्तमान में खाद की एक भी बोरी हमारे पास नहीं है और बाजार में कहा से यूरिया खाद लाकर बेच रहे हैं इस बात की मुझे जानकारी नहीँ हैं
*क्षेत्रिय सहायक गोदाम प्रभारी बी.एस डूडवे*


Post A Comment:

0 comments: