बाकानेर~कुर्बानी कुर्बानी अल्लाह को प्यारी कुर्बानी~~

सैयद रिजवान अली बाकानेर~~

बाकानेर ~अब्बू खां की बकरी और चांदनी की कहानी सभी बच्चों ने और शिक्षकों और पाठकों ने पड़ी है कहानी बड़ी रोचक और प्रेरणा स्त्रोत होकर सीख देने वाली है वैसे ही कहानी की बात कर रहे हैं शेख जीमाद की यह नटखट बालक 10 साल उम्र का अपने बकरे चांद को जिसे प्यार से लालू भी कहते हैं लाड़ दुलार करता है और चांद लालू भी उसी के हाथ से चारा पाला पानी खाता है दोनों में अच्छा लगाव हुआ है और मोबाइल क्रांति का उपयोग करते हुए से जब गाना कुर्बानी कुर्बानी अल्लाह को प्यारी कुर्बानी बजता है दोनों झूम उठते हैं जरा नजर से इधर-उधर जिमांद हुआ की चांद लालू प्यार भरी आवाज मैं अपने दोस्त को पुकारता है दोस्त फौरन आकर उसे लाड़ दुलार करता है दोनों की दोस्ती अंजुमन नगर खरगोन में फेमस हो गई है


Share To:

Post A Comment: