झाबुआ~व्यापारी संगठन द्वारा लिये निर्णय का किया नगर के व्यापारी द्वारा विरोध.......समय को लेकर नही जम रहा तालमेल~~





झाबुआ। संजय जैन~~

शुक्रवार को हुई पैलेस गार्डन में सकल व्यापारी संगठन एवं जिल प्रशासन के आला अधिकारियो की बैठक मे कोरोना संक्रमण की चैन को रोकने के लिये नगर मे सभी प्रतिष्ठानो का समय सुबह 7 से शाम 6 बजे तक कर सभी दूकानो को बंद करने का निर्णय लिया गया था। लेकिन जिसमें कुछ दुकानदारो ने इस निर्णय का विरोध भी किया। 





-यातायात प्रभारी को उल्टे पैर लौटना पडा...





नगर के बस स्टेण्ड पर स्थित किराना व्यवसाय कटारिया के द्वारा सकल व्यापारी संघठन के इस निर्णय का विरोध किया। शनिवार को जब दुकानो के बंद करने का समय शाम 6 बजे निर्धारित किया गया था तो भी किराना व्यवसाय द्वारा अपने प्रतिष्ठान को खोले रखा था। इस पर से जब यातायात प्रभारी श्री मुजाल्दा द्वारा उन्हे बंद करने को कहा गया तो उनके द्वारा जिला प्रशासन का कोई आदेश नही है ऐसा कहकर उन्होने अपने प्रतिष्ठान को बंद नही किया। किराना व्यवसाय ने तो यह तक कह दिया कि वह व्यापारी संगठन का हिस्सा नही है ,वो कोई कलेक्टर नही है तो वो उनकी बात क्यो सुने....? इसकी जगह यदि जिला कलेक्टर द्वारा कोई आदेश यदि आयेगा तो वो जरूर बंद कर देंगे,वही श्री मुजाल्दा को उल्टे पैर लौटना पडा। उनके द्वारा यह कहा गया कि लिखित में कोई आदेश व्यपारियो को नही दिया गया है। 





क्यो सौप रखी है ,प्रशासन ने नगर की बागडौर सकल व्यापारी संगठन को ...? 





पुलिस प्रशासन शनिवार को व्यापारी संगठन के द्वारा लिया गया निर्णय के आधार पर नगर मे लोगो की दुकानो को ंबंद करता हुआ दिखाई दिया। सुत्रो से प्राप्त जानकारी के अनुसार कई व्यापारी सकल व्यपारी संगठन के इस निर्णय को लेकर आक्रोशित दिखाई दिये। वही यह कहना भी पडा कि प्रशासन ने नगर की बागडौर सकल व्यापारी संगठन को क्यो सौप रखी है....? आखिर निजी संगठन के द्वारा लिया गया निर्णय ही क्यो माना जा रहा है....? इस पुरी घटना को लेकर अन्य व्यापारियो के द्वारा भी विरोध प्रदर्शन करने लगे। इसी सब में हो हल्लो की खबर लगते ही भाजपा के नगर मंडल अध्यक्ष बबलू सकलेचा भी वहा पर पहुच चुके थे। सभी ने एक स्वर मे प्रशासन के द्वारा कि गई इस कार्यवाही का विरोध किया।





-नगर को बचाने के लिये यह निर्णय लिया गया -नीरज राठौर 





इस बारे मे जब व्यापारी सगठन के अध्यक्ष नीरज राठौर से पुछा गया तो उनके द्वारा बताया गया कि बस स्टैण्ड पर बहुत से हमारे सदस्य ना हो बहुत सारे व्यापारी के सामने यह संकट खडा हो सकता है। जो हो हल्ला मचा रहे है उनमे से बहुत से व्यापारी संगठन के सदस्य नही है। मेरे द्वारा उन पर कोई टिप्पणी नही करूगा। सुबह 7 से शाम 6 बजे तक का समय बहुत हेाता है जिसमे आप अपना भरपूर व्यापार कर सकते है। सकल व्यापारी संगठन के 99 प्रतिशत दुकाने बंद है। हम कोरोना से लडाई लड रहे है। ज्यादा कोरोना संकट ना फैले इसके लिये ये छोटे छोटे प्रयोग किये जा रहे है। लेकिन कोरोना का बडा संकट यदि फैल गया तो जिससे शासन के द्वारा आगामी दिनो मे सख्त निर्देश आने पर हमे अपने प्रतिष्ठान करीब 7 से 8 दिनो तक बंद करना पड सकते है। ऐसेी स्थिति ना बने इसी को लेकर सभी के सहयोग एवं नगर को बचाने के लिये यह निर्णय लिया गया है।




Post A Comment:

0 comments: