*झाबुआ~राष्ट्रीय मानवाधिकार एवं महिला बाल विकास आयोग ने किया मेघनगर के चयनित पत्रकारों का सम्मान*~~

*हमारें लिये तो सच्चे योद्धा पत्रकार ही है - सुमित्रा राजू मेड़ा*~~

झाबुआ जिला ब्युरो दशरथ सिंह कट्ठा...9685952025~~

झाबुआ - कोविड - 19 में जब इंसान इंसान से दूर हो गया तब पत्रकार ही है जिसने उन दूरियों की थाह को कम किया है। डॉक्टर हो या पुलिस उन्होंने अपने कर्तव्य का निर्वहन कर कोरोना योद्धा बनकर सामने आए है। लेकिन पत्रकार तो पत्रकारिता को धर्म मानकर मानवसेवा में आगे आये है उक्त बातें राष्ट्रीय मानवाधिकार एवं महिला बाल विकास आयोग द्वारा आयोजित पत्रकार सम्मान समारोह में अपने स्वागत उद्बोधन में सम्भागीय अध्यक्ष सुमित्रा राजू मेड़ा ने कही। उन्होंने कहा मेघनगर के पत्रकारों ने कोविड 19 के दौरान खतरों की परवाह किये बिना मानवसेवा के अनेक उदाहरण प्रस्तुत किये है।
मेघनगर के निजी होटल में राष्ट्रीय मानवाधिकार एवं महिला बाल विकास आयोग द्वारा मेघनगर के चयनित पत्रकारों का सम्मान किया। कार्यक्रम रोटरी क्लब संचालक समाजसेवी भरत मिस्त्री, वरिष्ठ पत्रकार विमल जैन व भारतीय पत्रकार संघ संयोजक वरिष्ठ पत्रकार सलिम शेरनी के आतिथ्य में सम्पन्न हुआ। इस अवसर पर प्रदेशाध्यक्ष पवन नाहर ने संगठन के विषय मे जानकारी देते हुए कहा कि राष्ट्रीय मानवाधिकार एवं महिला बाल विकास आयोग मानव के अधिकार के लिए लड़ता आया है और लड़ता रहेगा। जब भी मानव सेवा का समय व मौका मिलता है शासन प्रशासन के साथ समन्वय स्थापित कर जन सहयोग से कार्य करता है। आतिथ्य उद्बोधन में समाजसेवी भरत मिस्त्री ने कहा कि आदिवासी अंचल में समाज सेवा के पर्याप्त अवसर है इसलिए मिलकर काम करेंगे तो ज्यादा लोगों को लाभ मिल सकता है। वरिष्ठ पत्रकार ने आयोग के कदम की सराहना करते हुए कहा कि पत्रकार संघ हमेशा सेवा कार्य करने वालों के साथ ही इसलिए जहाँ भी आवश्यकता लगे वो हमेशा सहयोग के लिए तैयार रहेगा। कार्यक्रम में जनप्रतिनिधि पत्रकार मुकेश मेहता व प्रेमसिंह बसोड़ ने भी अपनी बात रखते हुए संगठन को धन्यवाद दिया। अंतिम वक्ता के रूप में भारतीय पत्रकार संघ संयोजक सलीम शेरानी ने कोविड की जंग जीतने के समय कोरन्टीन सेंटर के अनुभव सुनाते हुए भावुक नजर आए। उन्होंने कहा कोविड का ख़ौफ इतना है कि यहाँ इंसान टेस्ट से कतरा रहा है और अंदर का इंसान बाहर आने के लिये कोविड टेस्ट के लिये कतार में लगा हुआ है। उन्होंने इस बीमारी पर भी गम्भीरता जाहिर कर प्रशासन को भी कटघरे में खड़ा करते हुए कहा कि आज भी कोविड की जाँच व ईलाज के साथ यह बीमारी भी अनेक प्रकार से समझ से परे ही है।

*इनका हुआ सम्मान*

कोविड 19 के दौरान सेवा जस्बे के साथ अपनी कलम के माध्यम से जनता शासन प्रशासन के मध्य माध्यस्तता की भूमिका का निर्वहन करने वाले दिग्गज पत्रकार अनूप भंडारी, प्रकाश भंडारी, मुकेश मेहता,प्रेमसिंह बसोड़,मनीष  गिरधानी, नीलेश भानपुरिया,दशरथ सिंह कट्ठा, रहीम हिंदुस्तानी, पंकज बडोला, फारुख शेरानी, भूपेंद्र बरमंडललिया, सुनील डाबी, जियाउल हक कादरी, अली अजगर बोहरा, निसार पठान,जाकिर शेख आदि को आयोग का दुपट्टा पहनाते हुए कलम के साथ कोरोना योद्धा का सम्मान पत्र भेंट किया गया। इस दौरान अपना नया वेब पोर्टल लॉन्च करने के लिए संगठन के पदाधिकारी व थांदला पत्रकार मनोज उपध्याय व राजेश डामर को बधाई देते हुए उनका भी सम्मान किया गया। कार्यक्रम का संचालन संगठन के प्रदेशाध्यक्ष पवन नाहर ने व संगठन के सम्भागीय अध्यक्ष नीलेश भनपुरिया ने आभार मानते हुए सभी को स्वतंत्रता दिवस की बधाई व शुभकामना प्रेषित की गई। शासन के नियमों का ध्यान रखते हुए आयोजित कार्यक्रम का चाय व स्वल्पाहार के साथ समापन हुआ।


Post A Comment:

0 comments: