बड़ी खट्टाली~विश्व आदिवासी दिवस : ग्राम के देव स्थलों पर आराधना कर व क्रांतिकारियो के चित्र पर माल्यार्पण कर सादगी पूर्वक मनाया ~~


बड़ी खट्टाली । UNO (संयुक्त राष्ट्र संघ) ने प्रतिवर्ष 9 अगस्त को ‘विश्व आदिवासी दिवस’ मनाने की घोषणा की थी। जिसके चलते 09 अगस्त को ‘विश्व आदिवासी दिवस’ खट्टाली व आसपास के ग्रामीण अंचलो में आदिवासी समुदाय द्वारा अपने-अपने गांवों, घरों में एवं ऑनलाइन रुप से भी सादगी पूर्ण तरीके से मनाया गया। कोविड-19 की वजह से इस बार सार्वजनिक कार्यक्रम नही किया गया व सोशल मीडिया पर भी अन्य समुदाय के लोगो ने भी एक-दूसरे को बधाईया दी गयी।


इस अवसर पर समाज के उपस्थित वरिष्ठ जनों ने एकत्रित लोगों को आदिवासी समुदाय व आजादी आंदोलन में शहीद हुवे क्रांतिकारियों, महापुरुषों एवं अपने पुरखों को याद कर उनके विचारो के बारे में भी बताया गया। वही आदिवासी समुदाय प्रकृति पर्यावरण के संरक्षण में कई गुना आगे है। इसीलिये जंगलो, पहाड़ी इलाको में रहने वाले आदिवासी समुदाय को प्रकृति पूजक भी माना जाता है तथा देव स्थलों के संरक्षण पर भी जोर दिया गया वही शिक्षा का अलख जगाने की भी जरूरत है। आज इस बात की आवश्यकता है कि हम लोग छोटी-छोटी बातों को भुलाकर आदिवासी समुदाय के उत्थान के लिए ईमानदारी से पहल करें। इससे से विश्व आदिवासी दिवस की सार्थकता साबित होगी। कहा हर घर का बच्चा प्रत्येक दिन प्रत्येक आदिवासी समुदाय का सदस्य शिक्षा प्राप्त करें। नशापान से दूर रहे।


Post A Comment:

0 comments: