बाकानेर~आजादी कुपोषण अशिक्षा से मिले अर्चना मंडलोई~~

सैयद रिजवान अली बाकानेर~~

बाकानेर~ महिला एवं बाल विकास परियोजना उमरबन अधिकारी अर्चना मंडलोई ने 74 वे स्वतंत्रता दिवस पर महिला एवं बाल विकास विभाग में राष्ट्रीय ध्वज तिरंगा फहराते हुए कहा स्वतंत्रता के मायने उस संवेदनशीलता को रेखांकित करते हैं जिसमें किसी इंसान के विचार व्यवहार मेहनत और जीवन जीने के हालात को सही ढंग से समझा जाए उसके होने की अहमियत आ की जाए खुलकर जीने कहने का हक दिया जाए उन बंधनों से मुक्ति मिले जो जीवन को और सहज करते हैं उस भेदभाव से आजादी मिले जो काबिलियत को साबित करने में रुकावट बनती है कामयाबी की उड़ान को बाधित करती है असुरक्षा का परिवेश  बनाती है आजादी कुपोषण और अशिक्षा से मिले और हमारा समाज स्वस्थ हो और शिक्षित हो लॉकडाउन मैं सोशल डिस्टेंस का पालन करते हुए संक्रमण करवाना महामारी अपने आप को और अपने परिवार को समाज को बचाएं अपने घरों पर बार-बार साबुन से हाथ धोने बाहर निकलने पर मास्क का उपयोग करें खासकर घर पर बच्चों की बुजुर्गों की देखभाल करें आज करो ना वायरस से बचने के लिए कहीं बंधन जीवन का हिस्सा बन गए हैं इस अवसर पर विभाग की पर्यवेक्षक श्रीमती सुनीता बघेल श्रीमती कुसुम सोलंकी श्रीमती गजरा सिंगार महेंद्र महेश और सिंगर बाबूजी प्रमुख रूप से उपस्थित है


Post A Comment:

0 comments: