झाबुआ~जिला पत्रकार संघ जिला झाबुआ ने पुलिस अधीक्षक को सौपा ज्ञापन~~





झुठा मामला दर्ज कर षडयंत्र पूर्वक हमले के आरोपियो पर कार्यवाही की मांग की ~~




झाबुआ। संजय जैन~~

अपनी अभिव्यक्ति की आजादी हर व्यक्ति को है, परंतु हमें इस बात की आजादी नहीं की कोई कानून को हाथ में लेकर हमारे संविधान का मजाक उड़ाए। एक शिक्षक को भविष्य के रचयिता की संज्ञा दी गई है परंतु देश के भविष्य के रचियता ही किसी बात पर एक महिला का सहारा लेकर षडयंत्र पूर्वक कानून को हाथ में लेता है, वरन ऐसा कृत्य करता है जो महिला जाति के मान-सम्मान को भी ठेस पहुंचाकर हमारी मातृशक्ति को भी अपमानित करता है यह चिंतनीय व निंदनीय  है।




-निंदनीय कृत्य देखने को मिला....





प्राप्त जानकारी के अनुसार शनिवार को झाबुआ में ऐसा ही निंदनीय कृत्य देखने को मिला। पत्रकार मनोज चतुर्वेदी ने पेटलावद के एक शिक्षक जो अपने पुत्र के नाम पर स्वयं पत्रकारिता करता है ,वरन एक शासकीय शिक्षक होने के बावजूद उनकी दो पत्नियां हैं,आदि का समाचार प्रकाशित किया। प्रकाशित समाचार अगर गलत है ,तो व्यक्ति अपनी अभिव्यक्ति की आजादी के साथ कानून का सहारा लेकर न्यायिक प्रक्रिया के साथ पत्रकार के विरुद्ध कार्रवाई कर सकता है ,परंतु कानून को हाथ में लेने का अधिकार किसी को भी नहीं है। प्रकाशित समाचार के बाद शिक्षक ने अपनी दूसरी पत्नी बदला हुआ नाम बबीता शनिवार को एक लड़की के साथ मनोज चतुर्वेदी के एक मंजिला पर स्थित कार्यालय पर पहुंची और मेरे पति के विरुद्ध क्यों समाचार प्रकाशित कर रहा है ...? कहते हुए आक्रोश में आकर मनोज चतुर्वेदी पर हमला किया वरन थाना कोतवाली पर जाकर शाम 6 बजे मनोज चतुर्वेदी के खिलाफ  महिला का हाथ पकडऩे व छेडख़ानी का झूठा मामला दर्ज करवाया, जिसकी जिला पत्रकार संघ घोर निंदा करता है।




-छेडख़ानी का झूठा मामला भी पत्रकार के विरुद्ध दर्ज करवाया.....





कोविड-19 के चलते एहतियाद के बतौर जिला पत्रकार संघ के 3 सदस्य प्रतिनिधि मंडल ने जिलाध्यक्ष संजय भटेवरा के नेतृत्व में सोमवार को एसपी आशुतोष गुप्ता को ज्ञापन दिया। जिला पत्रकार संघ के जिलाध्यक्ष संजय भटेवरा ने बताया कि शनिवार को पत्रकार मनोज चतुर्वेदी के विरुद्ध षड्यंत्र रचकर पेटलावद में पदस्थ शासकीय शिक्षक भरत की पत्नी बदला हुआ नाम बबीता एक लड़की के साथ पत्रकार मनोज चतुर्वेदी के कार्यालय पहुंची और महिला होने का नाजायज फायदा उठाकर पत्रकार के साथ मारपीट की ओर मोबाइल भी ले गई ,साथ ही शाम को जाकर पत्रकार के विरुद्ध छेडख़ानी का झूठा मामला भी पत्रकार के विरुद्ध दर्ज करवाया ,जिसकी जिला पत्रकार संघ निंदा करता है।





श्री भटेवरा ने बताया कि ज्ञापन में उक्त महिला शुक्रवार को भी अपने पति के साथ षड्यंत्र रच झाबुआ मनोज चतुर्वेदी के कार्यालय की रेकी कर घटना को अंजाम देने हेतु की थी, लेकिन मनोज चतुर्वेदी शुक्रवार को अपने कार्यालय नहीं पहुंचे थे। शनिवार को मनोज चतुर्वेदी अपने कार्यालय पहुंचे और षड्यंत्र के साथ उक्त घटना का शिकार हुए । पूरी घटना मकान मालिक के परिवार ने देखी है ,मामले की पूर्ण जांच साइबर सेल की सहायता से मोबाइल डिटेल निकालकर जो-जो इस षडय़ंत्र में शामिल है के विरुद्ध उचित कार्यवाही करने की व उक्त महिला द्वारा जो झूठा प्रकरण दर्ज करवाया गया है ,जांच कर एफआईआर की खात्मा की जाए की मांग की। साथ ही मकान मालिक की पत्नी व मनोज चतुर्वेदी द्वारा दी गई रिपोर्ट पर मामला दर्ज किए जानेे की मांग की।




Post A Comment:

0 comments: