सिहोर~नसरुल्लागंज में दोनों दारू की दुकान के आस पास छोटे बच्चे दारू लाते हुए दिख जाएंगे जिसकी उम्र पढ़ने की है वह आम जनता को दारू ला कर दे रहे हैं~~

नसरुल्लागंज से जिला रिपोर्टर आनंद अग्रवाल की रिपोर्ट~~

नसरुल्लागंज की दोनों दारु की दुकान के आस पास आपको 5 वर्ष से लेकर 15 वर्ष के बच्चे देखे जाएंगे जिंदगी उम्र अभी पढ़ने लिखने की है वह सभी  बच्चे इस गोरखधंधे में उतर गए हैं यह सभी बच्चे  दारू की वाटर लाते हुए दिख जाएंगे क्योंकि बहुत से व्यक्ति दारु की दुकान पर जाकर दारु नहीं ले पाते हैं इसलिए इन बच्चों के द्वारा दारू की वाटर बुलाई जाती है जिसके बदले में उन्हें 5 से ₹ 10 मिलते हैं इसकी जानकारी पुलिस बल को भी है इसके बाद भी आज तक  पुलिस वालों ने  इन बच्चों को रोकने की कोशिश नहीं की यह सभी बच्चे आपको आसानी से बस स्टैंड एवं  इंदौर रोड दारू दुकान  के आसपास  घूमते हुए नजर आ जाएंगे अगर प्रशासन ने इन बच्चों का ध्यान नहीं दिया तो आने वाले समय में यह बच्चे कभी भी बड़ा हादसा करने में पीछे नहीं हटेंगे अब देखना है कि प्रशासन बच्चों के ऊपर या इनके माता-पिता के ऊपर क्या शक्ति दिखाती है जिससे यह बच्चे इस गोरखधंधे को छोड़कर पढाने-लिखा की ओर ध्यान दे सके


Post A Comment:

0 comments: