बीड़\मांधाता विधानसभा से कांग्रेस नेता नारायण सिंह तोमर जता रहे दावेदारी ~~

पार्टी करेगी विश्वास तो फिर लहराएंगे मांधाता में कांग्रेस का परचम :-तोमर~~

बीड़ :- रवि सलुजा ~~

बीड़ दौरे पर आए कांग्रेस के पुर्व सांसद प्रदेश अध्यक्ष अरुण यादव पंहुचे जहां उन्हौने कार्यकताओं से मुलाकात की यादव बीड़ से किल्लौद ब्लाक पंहुचे यादव का दौरा मांधाता में उप चुनाव का समीकरण 2018 में मांधाता ही खंडवा जिले की एक सामान्य सीट है जहां भाजपा और कांग्रेस मैं कशमकश भरा चुनाव संपन्न हुआ था अरुण यादव के सबसे खास समर्थक नारायण पटेल हुआ करते थे नारायण पटेल को मांधाता से उम्मीदवारी दिलाने के लिए यादव बंधु ने एड़ी से चोटी का जोर लगा दिया था हम यदि बात करें तो उन्होंने अपनी ही पार्टी को कटघरे में खड़ा करके इस्तीफे तक की बात कर  डाली थी और आज वही नारायण पटेल कांग्रेस से चुनाव जीत कर दो वर्ष से अधिक का कार्यकाल बिताकर भाजपा के दामन में जाकर बैठ गए और मांधाता विधानसभा में उप चुनाव की नौबत आ गई पटैल के आका कहे जाने वाले  यादव अब अपने ही उम्मीदवार के बिक जाने से कितना ना खुश नजर आ रहे हैं यह तो आने वाला समय ही बताएगा परंतु आज भी अरुण यादव अपने समर्थक नारायण पटेल पर ज्यादा ना कुछ राजनीतिक तलवार शब्दो का प्रयोग करते हुए खरीद-फरोख्त का शिकार होना बता गए वहीं भाजपा के दामन को थाम कर नारायण पटेल अभी भी अरुण यादव परिवार से अपना व्यक्तिगत ताल्लुक रखने की बात कहते नजर आते हैं अब देखिए मांधाता में स्थानीय प्रत्याशी की मांग कार्यकर्ता लगातार रख रहे हैं वही पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने सर्वे के आधार पर टिकट देकर उम्मीदवार को तय करने की बात कही गई है दावेदार गांव-गांव में घूमकर अपनी दावेदारी  जता रहे हैं परंतु मांधाता में दावेदारों की एक लंबी फौज तैयार है खंडवा में जिंदगी व्यतीत करने के बाद भी कुछ नेता मांधाता से चुनाव लड़ने की चाव रखते हैं परंतु स्थानीय प्रत्याशी की मांग लगातार ग्रामीणों द्वारा की जा रही है मांधाता विधानसभा क्षेत्र के तीन बार पूर्व विधायक रह चुके ठाकुर राजनारायण सिंह स्वयं के पुत्र उत्तम पाल सिंह जो लगातार कांग्रेस से उम्मीदवारी जताते आ रहे हैं पिता और पुत्र दोनों ही दावेदारी को लेकर लगातार सक्रिय है परंतु अब संगठन क्या तय करता है वह तो समय ही बताएगा एक युवा जोश और युवा कार्यकर्ताओं की पहचान के रूप में कांग्रेस के कद्दावर नेता वह जांबाज कांग्रेस के कार्यकर्ता नारायण सिंह तोमर रिछफल वाले भी अपनी दावेदारी बखूबी तौर से क्षेत्र में निभा रहे हैं नारायण सिंह तोमर कोई नया नाम नहीं है यह उनके पुत्र हैं जो 5 बार 25 वर्ष तक मांधाता विधानसभा के विधायक रहे विधायक रहकर क्षेत्र में ईमानदारी की मिसाल आज भी कायम है पुर्व विधायक ठाकुर रघुराज सिंह तोमर उनके पिता है मांधाता की राजनीति में एक बड़ा समय बिता चुके हैं पुत्र तोमर लगातार कांग्रेस की राजनीति में एक उभरते हुए युवा चेहरे हैं कांग्रेस के प्रवक्ता के पद पर रहकर पूर्व में जिला पंचायत का चुनाव भी लड़ चुके हैं वही मांधाता की राजनीति में काफी सक्रिय भी नजर आते नारायण सिंह तोमर का कहना है कि प्रत्याशी जो भी हो वह स्थानिय होना चाहिए हम कांग्रेस के कार्यकर्ता हैं ना कि कोई नेता हम जमीनी स्तर पर पार्टी हाथ के पंजे के लिए काम करते हैं और आगे भी करेंगे कई बार सुनने में आता है कि पार्टी ने तो अपना प्रत्याशी घोषित कर दिया है तो फिर सर्वे क्यों कराए जा रहे हैं यदि ऐसा पार्टी बता दे तो हम आज से ही कांग्रेस पार्टी के लिए काम करना शुरू कर दें हमने भी हमारा जीवन कांग्रेस पार्टी को समर्पित कर दिया आज हमारा भी वह लक्ष्य हम भी अपने क्षेत्र में उम्मीदवारी जताकर चुनाव लड़ने की आस रखते हैं यदि पार्टी मुझ पर पूर्ण विश्वास करती है तो हम जरूर ही मांधाता की विधानसभा सीट पर जीत का परचम लहराएंगे नारायण सिंह तोमर युवा चेहरा के लिए एक स्थानीय प्रत्याशी है वही सोशल मीडिया पर मांधाता विधानसभा 175 के नाम से उम्मीदवार बनाए जाने की लगातार खबरे पोस्ट हो रही है परंतु इस कशमकश के दौर में पार्टी किस पर अपना भरोसा जताती है यह तो समय तय करेगा और एक ऐसी लंबी फौज जिसमें मांधाता से उम्मीदवारी कर रहे गजेंद्र सिंह सोलंकी बड़नगर,अमिताभ मंडलोई जो एक बार खंडवा लोकसभा से सांसद का चुनाव भी लड़ चुके हैं जिसमें उन्हें हार की निराशा ही मिली थी वही अवधेश सिंह सिसोदिया जो खंडवा विधानसभा से कांग्रेसी उम्मीदवारी जताका कांग्रेस को निराशा ही दे पाए थे ऐसे कई प्रत्याशी  दावेदारी में दौड़ लगा रहे हैं


Post A Comment:

0 comments: