*शनि मार्गी 2020: ज्योतिष में शनि के राशि परिवर्तन और मार्गी या वक्री होने का विशेष महत्व होता है ।* *( डाँ. अशोक शास्त्री )*

सितंबर का महीना कई ग्रहों के राशि परिवर्तन और चाल बदलने के लिहाज से काफी अहम रहा । अब सितंबर महीने की समाप्ति पर क्रूर ग्रह माने जाने वाले शनि वक्री से मार्गी होने जा रहे हैं । इस बारे मे मालवा के प्रसिद्ध ज्योतिषाचार्य डाँ. अशोक शास्त्री ने एक चर्चा मे बताया की ज्योतिष में शनि के राशि परिवर्तन और मार्गी या वक्री होने का विशेष महत्व होता है क्योंकि जब - जब शनि की चाल में परिवर्तन होता है तो इसका सभी राशि के जातकों पर प्रभाव पड़ता है । शनि सभी ग्रहों में सबसे मंद गति से चलने वाले ग्रह माने गए हैं । शनि एक राशि से दूसरी राशि में जाने के लिए करीब ढ़ाई वर्षों का समय लेते हैं ।
          राहु - केतु के 18 महीने बाद राशि बदलने पर अब शनि 29 सितंबर, मंगलवार को सुबह 10 बजकर 40 मिनट वक्री से मार्गी होने जा रहे हैं । डाँ. अशोक शास्त्री ने कहा कि ज्योतिषशास्त्र में व्रकी का अर्थ उल्टा और मार्गी का अर्थ सीधी चाल चलना। वक्री अवस्था में ज्यादतर ग्रह नकारात्मक प्रभाव डालते हैं जबकि मार्गी होने पर जातकों के जीवन पर इसका प्रभाव सकारात्मक रूप से पड़ता है । ऐसे में 29 सितंबर से शनि की मार्गी चाल से कई जातकों के जीवन में चल रही बाधाएं कम होंगी और उन्हें किस्मत का साथ मिलना आरंभ हो जाएगा।

*शनि अपनी ही राशि में हो रहे हैं मार्गी, इन उपायों से शनि रहेंगे मेहरबान*शनिदेव को प्रसन्‍न करने के उपाय*

सभी नौ ग्रहों में शनिदेव को सबसे क्रूर ग्रह माना जाता है । डाँ. अशोक शास्त्री ने कहा कि शनि के बारे में यह कहा जाता है कि व‍ह बुरे कर्म करने वालों को छोड़ते नहीं हैं और अच्‍छे कर्म करने वालों का सदैव साथ देते हैं। इसलिए शनिदेव को सभी ग्रहों में न्‍यायाधीश की उपाधि दी गई है । राहु - केतु के बाद अब शनि अपनी राशि यानी मकर में मार्गी होने जा रहे हैं। यानी अब तक टेढ़ी चाल से चल रहे शनि अब 29 सितंबर यानी मंगलवार से सीधी चाल से चलना शुरू कर रहे हैं । डाँ. शास्त्री के अनुसार शनि की स्थिति में इस बदलाव का कुछ जातकों के ऊपर शुभ प्रभाव होगा तो कुछ जातकों के ऊपर अशुभ प्रभाव भी हो सकता है । शनि के अशुभ प्रभाव से बचने के लिए हम आपको बता रहे कुछ आसान से उपाय…

*जानवरों को दें भोजन*

शनिदेव सत्‍कर्म करने वालों का सदैव साथ देते हैं । लाल किताब में बताया गया है कि शनिवार के दिन बंदरों को भुने काले चने खिलाने से शनिदोष से मुक्ति मिलती है । शनिवार को मीठी रोटी में सरसों का तेल लगाकर कुत्ते को खिलाने से आप पर शनि का अच्‍छा प्रभाव होता है।

*शनि के दुष्‍प्रभाव को ऐसे करें दूर*

शनि के दुष्‍प्रभाव से बचने के लिए आपको इस आसान से उपाय को आजमाना चाहिए । घर के किसी भी कोने में जहां अंधेरा हो वहां पर कटोरी में सरसों का तेल भरके उसमें तांबे का एक सिक्का डालकर रख दें । ऐसा करने से शनि का बुरा प्रभाव नहीं पड़ता है ।

*अगर आप पर चल रही हो तो शनि की ढैय्या*

शुक्रवार की रात को 800 ग्राम तिल पानी में भिगो दें । शनिवार को सुबह इस तिल को पीसकर उसमें गुड़ मिलाकर 8 लड्डू बना लें । इन लड्डुओं को हर शनिवार को काले घोड़े को खिलाएं । लगातार 8 शनिवार तक यह काम करने से शनि से संबंधित सभी दुष्‍प्रभाव दूर होते हैं । आपको सुख समृद्धि और शांति प्राप्‍त होती है ।

*काली गाय की सेवा*

काली गाय की सेवा करने से आपके घर पर शनि की कृपा बनी रहती है । रोजाना काली गाय को खाने में बनी पहली रोटी खिलाएं और सिंदूर का टीका लगाएं। गाय के सींग में कलावा बांधें और फिर उसे मोतीचूर का लड्डू खिलाएं और इसके बाद गाय के चरण छूकर आशीर्वाद लें ।
अक्‍टूबर मास के प्रमुख व्रत - त्‍योहार के बारे में यहां जानें, देखें नवरात्र से लेकर शरद पूर्णिमा तक कब क्‍या ?

*शनि की साढ़ेसाती से हों प्रभावित*

आप पर शनि की साढ़ेसाती चल रही हो तो शनिवार के दिन शाम को पीपल के पेड़ में मीठा जल चढ़ाएं और सरसों के तेल का दीपक चढ़ाएं। शनिदेव की आरती करें और धूप व अगरबत्‍ती जलाएं और शनिदेव को काला तिल चढ़ाएं। इसके साथ ही हनुमान चालीसा का पाठ करें और शनि चालीसा का पाठ करें। पाठ पूरा करने के बाद पीपल के पेड़ की सात बार परिक्रमा करें ।

            *2020 में शनि ग्रह तीन राशियों पर शनि की साढ़ेसाती- धनु , मकर और कुंभ राशि*

शनि इस समय मकर राशि में उल्टी चाल से चल रहे हैं । लेकिन 29 सितंबर 2020 के बाद मकर राशि में रहते हुए सीधी चाल यानी मार्गी होकर भ्रमण करेंगे । शनि की साढ़ेसाती धनु , मकर और कुंभ राशि पर है । शनि की साढ़ेसाती तीन चरणों में होती है । पहला , दूसरा और तीसरा । धनु राशि पर शनि की साढ़ेसाती का अंतिम चरण है , मकर राशि पर दूसरा चरण और कुंभ राशि पर पहला चरण चल रहा है । शनि की साढ़ेसाती चलने पर कई तरह की परेशानियां आने लगती है । समय पर काम पूरा नहीं होता है। बीमारियां घेरे रहती हैं और आर्थिक संकट बना रहता है ।

*शनि मार्गी 2020: 29 सितंबर से शनि चलेंगे सीधी चाल, इन राशियों पर पड़ेगा विपरीत प्रभाव*दो राशियों पर शनि की ढैय्या - मिथुन और तुला राशि*
 
ज्योतिष गणना में शनि की ढैय्या भी को अशुभ माना जाता है । मौजूदा समय में मिथुन और तुला राशि पर शनि की ढैय्या चल रही है । जन्म राशि से चौथे और आठवें स्थान पर गोचर करते हुए शनि की ढैया रहती है , जो ढ़ाई वर्ष तक चलती है यह भी जातक के लिए अति कष्टकारी रहती है ।

*शनि के मार्गी होने पर किन राशियों की चमकेगी किस्मत*

मेष :~ शनि का मकर राशि में मार्गी होना आपके भाग्य में बढ़ोतरी करेंगे । क्योंकि शनि का आपकी राशि में भाग्य के स्थान में वक्री से मार्गी हो रहे हैं ।

वृषभ :~ सुखद और शुभफल देने वाली यात्राओं में वृद्धि होगी । आपकी राशि के लिए शनि का मार्गी होना आपके के लिए धन वृद्धि में सहायक होगा ।

मिथुन :~ शनि का मार्गी होना आपके लिए बाधाएं दूर करने वाला और कार्यो में सफलता दिलाने वाला होगा ।

कर्क :~ शनि का मार्गी होना आपके लिए सेहत के मामले में चली आ रही परेशानियों से निजात दिलाएगा ।

सिंह :~ सिंह राशि के जातकों के लिए पांचवे भाव में शनि का मार्गी होना वैवाहिक और रोमांटिक जीवन में रिश्तों की सकारात्मक प्रभाव छोड़ने वाला रहेगा । इसके अलावा धन लाभ के नए अवसर बनेंगे ।

कन्या :~ कन्या राशि में शनि का मार्गी सुख के भाव में हो रहा है ऐसे में आपके जीवन में सुख - सुविधाओं में अच्छे संकेत हैं । वहीं जो जातक नौकरी या बिजनेस में सलग्न हैं उनके लिए विशेष अवसर उनका इंतजार कर रहे हैं ।

तुला :~ आपको शनि कठिन परिश्रम करवाने के बाद ही उचित फल प्रदान करेंगे । भाग्य का भरपूर सहयोग मिलने के संकेत हैं ।

वृश्चिक :~ तरक्की और धन लाभ के नए रास्ते मिल सकते हैं । ऐश्वर्य और सुख - सुविधाओं में वृद्धि होगी ।

धनु :~ शनि के धनु राशि में मार्गी होने से आपको लाभ मिल सकता है । मार्गी शनि शुभ फल देते हैं । ऐसे में आपको सभी तरह के सकारात्मक परिणाम देखने को मिलेगा । मार्गी शनि आपके लिए उन्नति का योग बना रहे हैं ।

मकर :~ मकर राशि शनि की राशि है । यह आपकी 12वें स्थान से वक्री से मार्गी हो रहे हैं । आपके लिए अच्छा संकेत है । भविष्य में धन लाभ , मान सम्मान और किस्मत का साथ मिलने के अच्छे  संकेत  हैं ।

कुंभ राशि :~ मकर राशि के अलावा कुंभ को शनि का स्वामित्व मिला हुआ है । नौकरीपेशा जातकों के लिए शनि का मार्गी होना उनके के लिए लाभकारी रहेगा । अब से पुराने अटके हुए काम पूरे होंगे । धन लाभ मिलने की पूरी संभावना है ।

मीन :~ मीन राशि के जातकों के लिए शनि का मार्गी होना मिलाजुला परिणाम लाने वाला रहेगा । ( डाँ. अशोक शास्त्री )

                   *ज्योतिषाचार्य*
          डाँ. पं. अशोक नारायण शास्त्री
         श्री मंगलप्रद् ज्योतिष कार्यालय
245, एम. जी. रोड ( आनंद चौपाटी ) धार , एम. पी.
                  मो. नं.  9425491351

               *--:  शुभम्  भवतु  :--*


Post A Comment:

0 comments: