खंडवा/बीड~सिंगाजी परियोजना से प्रभावित किसान पुत्र धरने पर बैठ लगाऐ मुख्यमंत्री ,ऊर्जा मंत्री,पुर्व विधायक हाय हाय के नारे ~~

आठ माह के लंबे समय से पांवर परियोजना से प्रभावित किसान पुत्र नौकरी की कर रहे हैं मांग ~~

धरने पर बैठे प्रभावित युवकों मे आक्रोश ~~

खंडवा/बीड~ रवि सलुजा ~~

संत सिंगाजी पांवर परियोजना से प्रभावित किसानों के वयस्क पुत्रो रोजगार को लेकर अनिश्चित कालीन धरने पर आज शनिवार को फिर बैठे पर उनकी समस्या का समाधान नहीं हो पा रहा है आपको बता दें कि संत सिंगाजी पांवर परियोजना से प्रभावित किसान जिनकी जमीनें संत सिंगाजी परियोजना बनने में अधिग्रहण की गई ।  उनके  वयस्क पुत्र को नियमानुसार योग्यता के आधार पर  प्रथम प्राथमिकता में नौकरी देना है।  पर परियोजना के जिम्मेदारों ने अभी तक इस पर अमल नहीं किया है । वह अपने हक अधिकार के लिए  काफी लंबे समय से लड़ाई लड़ते आ रहे हैं, वह कई बार धरना आंदोलन भी पूर्व में  भी कर  चुके हैं जबलपुर मुख्यालय पर भी प्रभावित किसानों के वयस्क पुत्रो को मिलने बुलाय गया था जबलपुर के समस्र्त अधिकारियो ने संयुकत रुप से प्रभावित पुत्रों की समस्या सुनी और जल्द ही निराकरण का आश्वासन भी दिया पर समस्या यथावत बनी हुई है इसका निराकरण आज तक नहीं हो  पाया है।  जिससे  स्थानीय किसानों में नौकरी को लेकर भारी आक्रोश है शनिवार को प्रभावित किसानों के पुत्र फिर धरने पर बैठे मांग है कि शीघ्र से शीघ्र परियोजना में नौकरी दी जाए।
प्रभावित किसानों के पुत्र राकेश पंवार देवला जितेंद्र, बलराम, शांतिलाल, सावन, सहित सभी प्रभावित युवकों का कहना है कि एमपीपीजीसीएल  कंपनी  द्वारा जमीन अधिग्रहित कर ली है । प्रभावितों को नौकरी देने का वादा किया लेकिन करीब दस से बारह  वर्षो  के बाद भी अभी तक रोजगार नही दिया गया हम आज तक बेरोजगारी ही  है । जिससे कि हम प्रभावित परिवार आर्थिक तंगी के शिकार होकर परिवार को भरण पोषण की दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है । हमारी मांग है कि योग्यता के आधार पर हमें नौकरी दि जाना चाहिए पर इस ओर गंभीरता ना दिखाते हुए घोर लापरवाही जिम्मेदार बरत रहे हैं।आपको बता दें कि प्रभावित किसान परिवार के पुत्र नौकरी की  इस समस्या के लिए कई सालों से संघर्ष कर रहे हैं। धरने पर बैठे प्रभावित किसानों के  पुत्रों के समर्थन में युवक कांग्रेस के अध्यक्ष  उत्तमपाल सिंह धरनास्थल पर पहुँच कर अधिकारियों से बात कर रोजगार संबंधी समस्या का निराकरण करने की मांग  की  ।

एक नजर

15.11.2019 से प्रभावित किसानों के परिवार के पुत्र नौकरी के लिए अनिश्चितकालीन हड़ताल पर एकजुट हुए थे यह हड़ताल लंबे समय चली कोरोनावायरस आने से लाक डाऊन की स्थिति निर्मित हुई और धरना प्रदर्शन कर रहे किसानों के पुत्रों ने प्रशासनिक अधिकारियों के निर्देश पर धरना प्रदर्शन बंद  कर दिया गया और उनकी नौकरी के लिए आज तक कोई भी हल मध्य प्रदेश पावर जेनरेटिंग कंपनी द्वारा नहीं निकाला गया फिर पुनआज शनिवार से प्रभावित पुत्र नौकरी के लिए धरना प्रदर्शन पर एकजुट हुए और अनिश्चितकालीन हड़ताल आज से शुरू हुई.

इनका कहना:- परियोजना के जवाबदार चीफ इंजीनियर विनोद कुमार कैलासिया से इस संबध में जानकारी लेना चाही पर उन्हौनै अपना मोबाईल फोन उठाना उचित नही सम


Post A Comment:

0 comments: