बड़वानी~शिक्षकों को गैर शिक्षकीय कार्य से मुक्त किया जाए~~

पुरानी पेंशन बहाली व अनुकम्पा नियुक्ति सरल करने की मांग को लेकर सौंपा ज्ञापन~~

बड़वानी, । ट्रायबल वेलफेयर टीचर्स एसोसिएशन के प्रतिनिधिमण्डल द्वारा राज्य सभा सांसद डाॅ.सुमेर सिंह सोलंकी से मुलाकात की । इस दौरान द्वारा अपनी 03 सूत्रीय मांग को लेकर कर ज्ञापन सौंपा ।
ट्रायबल वेलफेयर टीचर्स एसोसिएशन प्रांतीय सचिव हेमेन्द्र मालवीय ने बताया कि ज्ञापन मे मांग की गई कि भारत सरकार के शिक्षा के अधिकार अधिनियम 2009 की धारा 27 में प्रावधानित हैं कि शिक्षकों को गैर शैक्षणिक कार्य में नही लगाया जाएगा । बावजुद हमारे साथियों से बीएलओं, बीएलओं सुपरवाईजर, ओडीएफ, ग्रीन कमाण्डों, ग्राम सभा मे नोडल अधिकारी, किसानों की ऋण मुक्ति, कोरोना कण्ट्रोल रूम, सर्वे, चैकपोस्ट पर, मजदुरों को लाने व ले जाने, आधार सिडींग आदि गैर शैक्षणिक कार्य लिया जा रहा हैं । शिक्षकों को गैर शिक्षकीय कार्य से मुक्ति दिलाई जाए ।
जिला कार्यकारी जिलाध्यक्ष शैलेन्द्र जाधव ने कहा कि म.प्र. मे जनवरी 2005 के बाद लागू एनपीएस को बंद कर पुरानी पेंशन योजना लागु की जावे। शिक्षाकर्मी/गुरूजी/संविदा शिक्षक के रूप कार्य की गई सेवा को पुरानी पेंशन व ग्रेज्यूटी के लिए गणना मे ली जावें।
जिला कोषाध्यक्ष धर्मेन्द्र भावसार ने बताया कि म.प्र. मे शिक्षक की मृत्यू होने पर उसके आश्रित को शिक्षक पद पर अनुकम्पा नियुक्ति आसानी से मिल सके इसके लिए पूरक अर्हताओं (प्रशिक्षित एवं पात्रता परीक्षा) को शिथिल किया जाए ।

सांसद महोदय ने तीनो मांगो का निराकरण करने का आश्वासन देते हुए कहा कि जल्द ही शासन स्तर पर आपकी मांगे रखूंगा |

इस दौरान अशफाक शेख, निलेश भावसार, अम्बराम वास्कले, तिखाराम सोंलकी, राजेश जोशी, महेश चौहान, राकेश बच्चन, सचिन जोशी, अखिलेश भावसार, यशवन्त चौहान, कुंदन पाटील, कमलेश कनासे सहित अन्य शिक्षक कर्मचारी उपस्थित थें ।


Post A Comment:

0 comments: