।।  *सुप्रभातम्*  ।।
                ।।  *संस्था  जय  हो*  ।।
        ।।  *दैनिक  राशि  -  फल*  ।।
        आज दिनांक 11 नवंबर 2020 बुधवार संवत् 2077 मास कार्तिक कृष्ण पक्ष की एकादशी तिथि मध्य रात्रि 12:41 बजे तक रहेगी पश्चात् द्वादशी तिथि लगेगी । आज सूर्योदय प्रातःकाल 06:44 बजे एवं सूर्यास्त सायं 05:38 बजे होगा । उत्तरा फाल्गुनी नक्षत्र मध्य रात्रि पश्चात् सूर्योदय पूर्व प्रातः 04:22 बजे तक रहेगा पश्चात् हस्त नक्षत्र आरंभ होगा । आज का चंद्रमा सिंह राशि मे दोपहर 12:06 बजे तक भ्रमण करते हुए कन्या राशि मे प्रवेश करेंगे । आज का राहुकाल दोपहर 12:14 से 01:34 बजे तक रहेगा । दिशाशूल उत्तर दिशा मे रहेगा यदि आवश्यक हो तो तिल का सेवन कर यात्रा आरंभ करे ।।  जय हो  ।।

                *--:  विशेष  :--*
                  *रमा एकादशी :*
सनातनी संस्कृति में रमा एकादशी का विशेष महत्‍व है । इस एकादशी को *रम्‍भा एकादशी* के नाम से भी जाना जाता है. मान्‍यता है कि इस व्रत को करने से सभी पापों का नाश हो जाता है. कहते हैं कि इस व्रत की कथा सुनने मात्र से ही *वाजपेय यज्ञ* के बारबर पुण्‍य मिलता है । पौराणिक मान्‍यताओं के अनुसार रमा एकादशी के दिन भगवान विष्‍णु के साथ मां लक्ष्‍मी की पूजा करने से दरिद्रता दूर भाग जाती है और घर धन-धान्य से परिपूर्ण हो जाता है ।

      *रमा एकादशी व्रत की कथा*
प्राचीन समय में मुचुकुंद नाम के एक राजा थे जिनकी मित्रता देवराज इंद्र, यम, वरुण, कुबेर एवं विभीषण से थी। वह बड़े धार्मिक प्रवृति वाले व सत्यप्रतिज्ञ थे। उनके राज्य में सभी सुखी थे। उनकी चंद्रभागा नाम की एक पुत्री थी, जिसका विवाह राजा चंद्रसेन के पुत्र शोभन के साथ हुआ था ।
          एक दिन शोभन अपने श्वसुर के घर आया तो संयोगवश उस दिन एकादशी थी। शोभन ने एकादशी का व्रत करने का निश्चय किया । चंद्रभागा को यह चिंता हुई कि उसका पति भूख कैसे सहन करेगा ? इस विषय में उसके पिता के आदेश बहुत सख्त थे। राज्य में सभी एकादशी का व्रत रखते थे और कोई अन्न का सेवन नहीं करता था । शोभन ने अपनी पत्नी से कोई ऐसा उपाय जानना चाहा , जिससे उसका व्रत भी पूर्ण हो जाए और उसे कोई कष्ट भी न हो , लेकिन चंद्रभागा उसे ऐसा कोई उपाय न सूझा सकी ।
निरूपाय होकर शोभन ने स्वयं को भाग्य के भरोसे छोड़कर व्रत रख लिया। लेकिन वह भूख, प्यास सहन न कर सका और उसकी मृत्यु हो गई । इससे चंद्रभागा बहुत दुखी हुई। पिता के विरोध के कारण वह सती नहीं हुई।
उधर, शोभन ने रमा एकादशी व्रत के प्रभाव से मंदराचल पर्वत के शिखर पर एक उत्तम देवनगर प्राप्त किया। वहां ऐश्वर्य के समस्त साधन उपलब्ध थे। गंधर्वगण उसकी स्तुति करते थे और अप्सराएं उसकी सेवा में लगी रहती थीं । एक दिन जब राजा मुचुकुंद मंदराचल पर्वत पर आए तो उन्होंने अपने दामाद का वैभव देखा। वापस अपनी नगरी आकर उसने चंद्रभागा को पूरा हाल सुनाया तो वह अत्यंत प्रसन्न हुई । वह अपने पति के पास चली गई और अपनी भक्ति और रमा एकादशी के प्रभाव से शोभन के साथ सुखपूर्वक रहने लगी ।

                   *ज्योतिषाचार्य*
          डाँ. पं. अशोक नारायण शास्त्री
          श्रीमंगलप्रद् ज्योतिष कार्यालय
245 , एम. जी. रोड ( आनंद चौपाटी ) धार , एम. पी.
                  मो. नं.  9425491351

                    *आज का राशिफल*

          मेष :~ साहित्य का सर्जन और कलात्मक अभिगम में वृद्धि करने के लिए आज का दिन शुभ है । स्नेहीजन के साथ भेंट से आप का मन प्रसन्न होगा । मध्याहन के बाद घर में शांतिपूर्ण वातावरण रहेगा । शत्रु और प्रतिस्पर्धीयों के साथ आप की भावनाओं का संघर्ष होगा ।

          वृषभ :~ आज माता के स्वास्थ्य की चिंता रहेगी । स्थावर संपत्ति के दस्तावेज पर हस्ताक्षर टाले । नकारात्मक विचारों से बचे । परंतु मध्याहन के बाद आप के शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य में सुधार होगा । विद्यार्थियों के लिए समय अनुकूल है । सृजनात्मकता में वृद्धि होगी । आज  कोई धार्मिक कार्य होगा ।

          मिथुन :~ कार्यसफलता से आपका मन आज प्रसन्न रहेगा । प्रतिस्पर्धी पराजित होंगे । परंतु मध्याहन के बाद घर में विसंवादिता रहेगी । परिवार तूतू - मैंमैं हो सकती है और इससे ग्लानि बढेगी । नकारात्मक विचार हताशा में न धकेल दे इसका ध्यान रखे । मध्याहन से पूर्व भाग्यवृद्धि के संकेत है ।

          कर्क :~ लंबे समय की योजनाओं में आप दुविधा में रहेंगे । परिवारिक वातावरण तनावपूर्ण रहेगा । मध्याहन के बाद समय अच्छा रहेगा । शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य अच्छा रहेगा । भाई - बहनों से लाभ मिलेगा । किसी के साथ भावनाभरे सम्बंधों में बंधोगे और उससे मन की चिंता दूर होगी ।

          सिंह :~ आज के दिन आप आत्मविश्वास से भरे रहेंगे । आज प्रत्येक कार्य दृढता से करेंगे । फिर भी क्रोध अधिक रहेगा , इसलिए मन शांत रखे । सरकारी कार्यों में लाभ होगा । परिवारजनों का सहयोग मिलेगा । आय की अपेक्षा व्यय अधिक होगा ।

          कन्या :~ आज आपका मन कुछ अधिक भावनाशील रहेगा । भावनाओं में बहकर किसी अविचारी कार्य न कर बैठें  इसके लिए सावधान रहे । चर्चा और विवाद से दूर रहे । फिर भी किसी के साथ उग्र व्यवहार हो सकता है । मध्याहन के बाद आपमे आत्मविश्वास नजर आएगा । समाज में मान - प्रतिष्ठा बढेगी । फिर भी क्रोध पर संयम रखे ।

          तुला :~ व्यापार में आपको लाभ होगा । संतानों के साथ सम्बंध सुमधुर रहेंगे । परंतु मध्याहन के बाद मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य बिगडेगा । उग्र चर्चा - विवाद से बचकर चले । भ्रांति से दूर रहे । कानूनी निर्णय बहुत सोच - समझकर करे ।

          वृश्चिक :~ दृढ़ मनोबल और आत्मविश्वास से आप कार्य सरलतापूर्वक करेंगे । व्यवसाय और व्यापार में भी आपकी बुद्धि - प्रतिभा को प्रशंसित किया जाएगा । उच्च अधिकारीगण आपकी कार्यवाही से आनंदित होंगे और पदोन्नति की संभावना बढेगी । मध्याहन के बाद मन कुछ विचारो में फंसा रहेगा । व्यापार में आर्थिक लाभ होगा ।

          धनु :~ आपका दिन का व्यवहार धार्मिक रहेगा । किसी धार्मिक या मांगलिक प्रसंग में उपस्थित रहेंगे । आपका व्यवहार न्यायप्रिय रहेगा । हानिकर कार्यों से दूर रहे । क्रोध पर संयम रखे । लेकिन मध्याहन के बाद आपका दिन बहुत अच्छा और सफलताभरा रहेगा । आपके कार्य सरलतापूर्वक पूर्ण होंगे । पदोन्नति होगी ।

          मकर :~ स्वास्थ्य में लापरवाह न रहे और निषेधात्मक विचारों से बचे । तभी आप बहुत सी हानियों से बचेंगे । आकस्मिक व्यय के लिए तैयार रहे । फिर भी मध्याहन के बाद कुछ हलकेपन होगा । स्वभाव में क्रोध रहेगा , उस पर संयम रखे ।

          कुंभ :~ सांसारिक प्रश्नों और विषयों पर आज उदासीनवृत्ति से व्यवहार करेंगे तो अच्छा रहेगा । अदालती कार्यवाही से संभलकर चले । सामाजिक अपमानित न हो सावधानी बरते । नए कार्य का प्रारंभ न करे । शारीरिक स्फूर्ति और प्रफुल्लित नही रहेगी । मानसिक उद्वेग रहेगा ।

         मीन :~ आपका मन आज चिंतामुक्त रहेगा । शंका - कुशंकाओं के कारण प्रसन्नता नही रहेगी । कार्यो में विध्न से कार्यपूर्ति में विलंब होगा । सहकार्यकरों का सहयोग नहीं मिलेगा । भागीदारों से संभलकर रहे । सांसारिकता से मन अलिप्त रहेगा । अदालती विषयों से दूर रहे ।
( डाँ. अशोक शास्त्री )

।।  शुभम्  भवतु  ।।  जय  सियाराम  ।।
।।  जय  श्री  कृष्ण  ।।  जय  गुरुदेव  ।।


Post A Comment:

0 comments: