झाबुआ~10वीं में गणित, विज्ञान और 12वीं में फिजिक्स-मैथ्स प्राथमिकता से विद्यार्थियों को पढ़ा रहे शिक्षक~~

प्रमुख विषयों की तैयारी करा रहे हैं ताकि कोई चैप्टर छूट न जाए~~

झाबुआ। संजय जैन~~

माध्यमिक शिक्षा मंडल की बोर्ड परीक्षाओं के मद्देनजर सरकारी व निजी स्कूलों में नियमित कक्षाएं शुरू हो चुकी हैं। नियमित कक्षाओं में शिक्षक 10वीं एवं 12वीं के उन विषयों को प्राथमिकता से पढ़ रहे हैं जो छात्र-छात्राओं के लिए कठिन हैं।

देना है 70 फीसदी कोर्स की पढ़ाई करके ही बोर्ड की परीक्षा ....
10वीं में गणित, विज्ञान और अंग्रेजी विषय को प्राथमिकता से विद्यार्थियों को पढ़ाया जा रहा है। जबकि 12वीं कक्षा में कला संकाय में अर्थशास्त्र,अंग्रेजी,साइंस में फिजिक्स-मैथ्स व कामर्स में एकाउंटेंसी विषय पढ़ाया जा रहा है। हालांकि शासन ने कोरोना काल के कारण कोर्स में 30 प्रतिशत की कटौती कर दी है। अब छात्र-छात्राओं को केवल 70 फीसदी कोर्स की पढ़ाई करके ही बोर्ड की परीक्षा देना है।

प्रमुख विषयों की तैयारी करा रहे हैं ताकि कोई चैप्टर छूट न जाए....
ऑनलाइन के साथ जब से विद्यार्थियों को ऑफलाइन मार्गदर्शन देने का काम शुरू हुआ था तब से कोर्स को लगभग 50 फीसदी से ज्यादा पूरा कर दिया गया था। लेकिन बोर्ड परीक्षा के कारण नियमित कक्षाएं शुरू होने पर दोबारा नए सिरे से शिक्षक प्रमुख विषयों की तैयारी करा रहे हैं ताकि कोई चैप्टर छूट न जाए। वहीं कक्षा12वीं के विद्यार्थियों के पास बोर्ड परीक्षा एवं उनके प्रेक्टिकल के लिहाज से समय कम है,फिर प्रयास किया जा रहा है कि विद्यार्थियों को हर चैप्टर की पूरी तैयारी करा दी जाए।

रिविजन-15 से पहले कोर्स पूरा करने पर जोर....
बोर्ड परीक्षा के तहत 15 जनवरी से पहले 10वीं व 12वीं कक्षा के कोर्स को पूरा करने पर पूरा जोर है। 16 से स्कूलों में बोर्ड परीक्षाओं के लिए रिविजन क्लास शुरू होगी। क्योंकि फरवरी में प्रेक्टिकल के कारण कोर्स का रिविजन कराने का समय नहीं मिलेगा। बोर्ड की परीक्षाएं मार्च-अप्रैल में सम्पन्न होगी।

कोरोना का डर-स्कूलों में विद्याथी पहुंचे कम.....
स्कूलों में ज्यादा विद्यार्थियों के नहीं पहुंचने की सबसे खास वजह बच्चों के माता-पिता की कोरोना से बचाव के प्रति चिंता है। स्कूलों में सुरक्षा के क्या इंतजाम हैं....? मानीटरिंग कैसे होगी...? इसके कारण स्कूलों में छात्र-छात्राओं की संख्या भी कम ही रह रही ंहै।


Post A Comment:

0 comments: