झाबुआ~मई में सर्वाधिक 16 मुहूर्त,5 माह एक भी नहीं~~




झाबुआ।   कोरोना के चलते 2020 में कई शुभ मुहूर्त होने के बाद भी वैवाहिक कार्यक्रम टालने की नौबत आई,लेकिन नए साल में ऐसी स्थिति नहीं बनेगी क्योंकि शादी के लिए आसानी से अनुमति मिल रही है। देवउठनी के बाद शहर सहित गांवों में सैकड़ों शादियां हुई। 28 से 30 दिसंबर तक शहनाइयां बजती रही। जनवरी माह में केवल एक दिन ही 18 तारीख को विवाह का शुभ मुहूर्त है। इसके बाद सीधे 22 अप्रैल से शहनाइयां गूंजेगी। नववर्ष का शुभारंभ होने के बाद लोग शुभ मुहूर्त का इंतजार कर रहे हैं। पिछले साल की तुलना में इस बार विवाह, सगाई और लग्न के कम मुहूर्त हैं।






लोग शादी की तैयारियों में जुट गए.....
हिन्दू कैलेंडर के अनुसार सबसे कम विवाह मुहूर्त जनवरी में है। 18 जनवरी को ही विवाह का मुहूर्त है। जबकि मई में सबसे अधिक 16 मुहूर्त हैं। ऐसे में जनवरी महीने से ही लोग शादी की तैयारियों में जुट गए हैं। वहीं लोग मैरिज गार्डन,बैंड-बाजे और केटरिंग की बुकिंग करने लगे हैं।






वैवाहिक कार्यक्रम के शुभ मुहूर्त.......
-जनवरी-18 को मुहूर्त हैं।
-अप्रैल-22,24,25,26,27,28, 29 और 30
-मई-1,2,7,8,9,13,14,21,22,23,24,25,26,28,29 और 30 (मई में सर्वाधिक)
-जून-3,4,5,16,20,22,23 और 24
-जुलाई-1,2,7,13 और 15
-नवंबर-15,16,20,21, 28,29 और 30
दिसंबर-1,2, 6,7,11 और 13 






फरवरी और मार्च माह में विवाह के लिए कोई भी शुभ मुहूर्त नहीं...
फरवरी और मार्च माह में विवाह के लिए कोई भी शुभ मुहूर्त नहीं है। जबकि 2020 में कई मुहूर्त थे। इसके अलावा तीन माह अगस्त,सितंबर और अक्टूबर में भी विवाह का कोई मुहूर्त नहीं है। हिंदू कैलेंडर के अनुसार गृहप्रवेश,मुंडन,शादी,सगाई के लिए शुभ मुहूर्त निकलवाते हैं।




Share To:

Post A Comment: