बड़वानी ~शिक्षकों ने की दक्षता आकलन परीक्षा निरस्त करने की मांग~~

सूची मे हैं भारी विसंगतिया, अभ्यावेदन देने का भी नही मिला अवसर~~

ट्राईबल वेलफेयर टीचर्स एसोसिएशन ने जिला शिक्षा अधिकारी व सहायक आयुक्त आदिवासी विकास से मिलकर दक्षता आकलन परीक्षा मे व्याप्त विसंगतियों से अवगत कराते हुए शिक्षकों ने की दक्षता आकलन परीक्षा निरस्त करने की मांग की । ट्राईबल वेलफेयर एसोसिएशन के संभागीय उपाध्यक्ष अशोक कुशवाह ने बताया कि बड़वानी मे परीक्षा देने वाले शिक्षकों की सूची शनिवार को जारी की गई और सोमवार को परीक्षा हैं । सूची मे व्याप्त विसंगतियों पर ना आपत्तियां मांगी गई और ना शिक्षा विभाग द्वारा शिक्षकों की कोई मदद की जा रही हैं ।
उमावि वांगरा, हाईस्कूल काजलमाता, हाईस्कूल राजपुर आदि शालाओं का रिजल्ट 40 प्रतिषत से अधिक हैं फिर भी उनकी परीक्षा ली जा रही हैं, जबकि शासन के आदेषानुसार 0-40 प्रतिषत परीक्षा परीणाम वाले स्कूल के शिक्षकों की परीक्षा होना हैं । जिन हाईस्कूल का रिजल्ट कम बताकर कैचमेंट शालाओं के शिक्षकों की परीक्षा ली जा रही हैं, उन हाईस्कूल से किसी भी शिक्षक की परीक्षा नही ली जा रही हैं।
ट्राईबल वेलफेयर टीचर्स एसोसिएशन के जिला कार्यकारी अध्यक्ष शैलेन्द्र जाधव ने कहा कि हाईस्कूल/हायर सेकेण्डरी स्कूल के कैचमेंट एरिया मे आने वाले माध्यमिक शालाओं के शिक्षकों की दक्षता आकलन परीक्षा लिया जाना न्यायोचित नही हैं, क्योंकि जरूरी नहीं हैं कि उस माध्यमिक शाला के बच्चों को उसी हाईस्कूल/हायर सेकेण्डरी कैचमेंट शाला मे दाखिला लिया हों । जो माध्यमिक शाला कैचमेंट मे आती नही हैं उनके शिक्षकों के भी जोड़ दिए गए हैं । जिला उपाध्यक्ष निलेश भावसार के अनुसार षिक्षकों द्वारा जिन विषयों को पढाया ही नही जा रहा हैं, उन विषयों की परीक्षा उनकी ली जा रही हैं । जो शिक्षक पिछले सत्रों मे स्कूल मे पदस्थ ही नही थे, सूची मे उनके नाम भी शामिल कर दिए गए हैं । जिले की अधिकांष स्कूलों मे प्राचार्यो व विषयवार षिक्षकों के पद रिक्त हैं । इन परिस्थितियों मे केवल शिक्षकों की दक्षता आकलन परीक्षा लेना उचित नहीं हैं । इस अवसर पर प्रांतीय सचिव हेमेन्द्र मालवीय, मुकेश पाटीदार, अजय गोरे, आशीष भावसार, दिनेश जमरे, यशवन्त चैहान, संतोष कुशवाह, पियुष शाह, जगदीश पाटील, पाटीदार सस्ते, अनिरूद्ध मासोदकर, उमेश राठौड़ आदि शिक्षक उपस्थित थे ।


Share To:

Post A Comment: