रिंगनोद~अब नही जाना पडता कही बाहार मरीज और बच्चे यही संतुष्ट~~

अनुराग डोडिया रिंगनोद~~

एक समय जब प्राथमिक स्वास्थ्य कैन्द्र अपनी स्थिति मे था फिर आए डाँ अनिल पाटिदार जिनके आते ही स्टाँफ के सहयोग से जिसमे सहयोगी बैरागी जी का भी अतुलनीय योगदान है स्वास्थ्य कैन्द्र को नया रुप दिया गया कुछ ही दिनो मै प्राथमिक स्वास्थ्य कैन्द्र पर ईलाज के लिए भीड दिखाई देने लगी तब विचार न्युज रिंगनोद द्वारा प्रमुखता से अनी डाँक्टर को ईलाज घणो अच्छो शिर्षक से खबर प्रकाशित की गयी थी फिर अचानक ट्रेनिंग का समय आया और डाँ साहब को जाना पडा लैकिन फिर भी उसी स्टाँफ ने स्वास्थ्य कैन्द्र की जान बनाए रखी पुनः डा़ँ पाटिदार का ग्रामजनो की मांग पर रिंगनोद आगमन हुआ सभी मै हर्ष की लहर दौड पडी साथ ही ईस बार पाटिदार साहब मिले शिशु रोग विषेशज्ञ के रुप मै अब जिनको धार ईन्दौर जाना पढता था सामान्य रोगो के साथ साथ अब शिशुओ का ईलाज भी यहा सुलभ है और अन्यो के वही हाल वही बीच की अवधी मै कई अन्य चिकित्सको की नियुक्तिया भी प्राथमिक स्वास्थ्य कैन्द्र पर हुई किन्तु जो संतुष्टी ग्रामजनो को डाँ पाटिदार के ईलाज से मिलती है वह नही मिल पाई जीस तरह से क्षैत्र मै डाँ एम एल जैन प्रसिद्ध है अपने ईलाज को लेकर ग्राम मै ँ पाटिदार भी ग्रामजनो मै लोकप्रिय है डाँ पाटिदार का कहना है कि मैरा कर्तव्य और प्रयास की हर व्यक्ति निरोगी रहै स्वस्थ और सुरक्षित रहै पुनः यह बात सार्थक होती है कि "अणी डाँक्टर को ईलाज घणो अच्छो"


Post A Comment:

0 comments: