*गुस्सा अधिक आता है तो हो जाएं सावधान , मंगल राहु की साथ युति से बन रहा है अंगारक योग( डाँ. अशोक शास्त्री )*~~

मंगल ग्रह का राशि परिवर्तन होने जा रहा है । इस संदर्भ मे मालवा के प्रसिद्ध ज्योतिषाचार्य डाँ. अशोक शास्त्री ने एक विशेष चर्चा के दौरान मंगल ग्रह के राशि परिवर्तन पर विस्तृत मे जानकारी देते हुए बताया की मेष राशि से मंगल अब वृषभ राशि में आने जा रहा है । जहां पहले से ही पाप ग्रह राहु बैठा हुआ है । मेष राशि से मंगल निकल कर वृषभ राशि में आने जा रहे है । मंगल ग्रह का राशि परिवर्तन सभी के लिए महत्वपूर्ण है । मंगल के इस राशि परिवर्तन का देश और दुनिया पर भी प्रभाव देखा जा सकता है ।
          ज्योतिषाचार्य डाँ. अशोक शास्त्री ने विशेष तौर पर बताया है कि
ज्योतिष शास्त्र में मंगल को सभी ग्रहों का सेनापति होने का दर्जा प्राप्त है. मंगल मेष राशि और वृश्चिक राशि के स्वामी माने गए हैं. अभी मंगल मेष राशि में गोचर कर रहे हैं. जो कि उनकी स्वयं की राशि है. मकर राशि में मंगल उच्च के हो जाते हैं वहीं कर्क राशि में मंगल को नीच का माना जाता है. सूर्य, चंद्रमा और बृहस्पति से इनकी मित्रता है. बुध से मंगल की नहीं बनती है. जबकि शुक्र और शनि इनके सम संबंध हैं.
          डाँ. अशोक शास्त्री के अनुसार
ज्योतिष शास्त्र में मंगल ग्रह को एक कू्रर ग्रह माना गया है । मंगल साहस, योद्ध, क्रोध और ऊर्जा आदि का कारक माना गया है । ये एक शक्तिशाली ग्रह है । इसलिए इसका शुभ और अशुभ होना व्यक्ति के जीवन में बहुत ही महत्वपूर्ण माना गया है । ज्योतिष शास्त्र में मंगल ग्रह से मांगलिक दोष का निर्माण होता है. इस दोष को एक अशुभ योग के तौर पर देखा जाता है । यह दोष वैवाहिक संबंधी कार्यों के लिए बाधक माना गया है ।
          ज्योतिषाचार्य डाँ. अशोक शास्त्री के मुताबिक मंगल ग्रह दिनांक 22 फरवरी सोमवार को मंगल ग्रह प्रातःकाल 05:02 बजे से राशि परिवर्तन कर रहे है । इस दिन मंगल स्वयं की राशि मेष से वृषभ राशि मे आ जाएंगे । जंहा पर दिनांक 14 अप्रैल 2021 तक विराजमान रहेंगे ।

*अंगारक योग बन रहा है*
          डाँ. अशोक शास्त्री ने बताया की अंगारक योग का निर्माण तब होता है जब राहू और मंगल ग्रह एक साथ आते है । दिनांक 22 फरवरी से यही स्थिति बनने जा रही है । इस योग को अच्छा नही माना गया है । वृषभ राशि मे इस योग के निर्माण से देश दुनिया पर भी इसका प्रभाव पडेगा । ज्योतिष शास्त्र मे अंगारक योग को लडाई झगडे , विवाद , आक्रामक , हिंसक स्थितियों का कारक माना गया है ।

*मेष , वृषभ , वृश्चिक समेत इन राशियों को देना होगा विशेष ध्यान*
          डाँ. शास्त्री के मुताबिक मंगल के राशि परिवर्तन और राहु के साथ बनने वाले अंगारक योग के दौरान मेष , वृषभ , वृश्चिक राशि के साथ साथ मकर राशि के जातकों को भी विशेष ध्यान देने की जरुरत है । इस दौरान क्रोध पर काबू रखे । विवाद की स्थिति से दूर रहने की कोशिश करे  ।। जय हो  ।। ( डाँ. अशोक शास्त्री )

                   *ज्योतिषाचार्य*
          डाँ. पं. अशोक नारायण शास्त्री
          श्रीमंगलप्रद् ज्योतिष कार्यालय
245 , एम. जी. रोड ( आनंद चौपाटी ) धार , एम. पी.
                  मो. नं.  9425491351

              *--:  शुभम्  भवतु  :--*


Post A Comment:

0 comments: