झाबुआ~अब 150-200 यूनिट की खपत पर 35 फीसदी महंगी मिलेगी बिजली-तीन महीने बाद दूसरी बार महंगी हो सकती है बिजली~~


झाबुआ। संजय जैन~~

नए वित्तीय वर्ष में 150 से 200 यूनिट तक खपत वाले उपभोक्ताओं की बिजली 35फीसदी तक महंगी हो सकती है। जिले केउपभोक्ताओं को बढ़े हुए बिजली बिल का झटका लगेगा। इसी तरह 50 यूनिट तक की खपत वालों को 8.04 तो 400 यूनिट तक की खपत वाले उपभोक्ताओं को 11.23 फीसदी वृद्धि की मार झेलनी होगी। एमपी पावर मैनेजमेंट कंपनी ने विद्युत नियामक आयोग के सामने बिजली बिल बढ़ाने संबंधी याचिका लगा रखी है। बिजली कंपनी के अनुसार जिले से कंपनी हर महीने 8 से 10 करोड़ रुपए के बिजली बिल जारी करती है। इनमें शहरी क्षेत्र के उपभोक्ता, ग्रामीण  उपभोक्ता उपभोक्ता व संबल योजना के तहत 100 से 150 यूनिट तक का बिजली बिल भरते हैं,जबकि 75 हजारो उपभोक्ता 150 यूनिट से अधिक बिजली उपयोग करते हैं।






तीन महीने बाद दूसरी बार महंगी होगी बिजली.......
आयोग के प्रस्ताव में व्यावसायिक व उद्योगों के लिए 2 फीसदी दरें बढ़ाना भी शामिल है। जानकार बताते हैं बिजली कंपनी ने लगभग 3 हजार करोड़ का घाटा बताया है। सबसे ज्यादा बढ़ोतरी का प्रस्ताव घरेलू उपभोक्ताओं के लिए ही रखा गया है। इस साल जनवरी में भी बिजली दरों में 1.98 फीसदी बढ़ोतरी हो चुकी है। तीन महीने बाद बिजली दूसरी बार महंगी होने के आसार बन रहे हैं। पिछले साल अप्रैल में कोरोना की वजह से बिजली कंपनी ने घरेलू, व्यावसायिक व उद्योगों के लिए बिजली की दरें नहीं बढ़ाई थी।






संबल योजना-बिजली बिल का प्रावधान बरकरार रहेगा........
संबल योजना में 100 यूनिट पर 100 रुपए बिजली बिल का प्रावधान बरकरार रहेगा। इस संबंंध में मुख्यमंत्री शिवराजसिंह पहले ही मंचों पर यह साफ  कर चुके हैं कि संबल योजना में आ रहे ऐसे गरीब उपभोक्ताओं को बिजली की सतत आपूर्ति मिलती रहेगी। उन पर किसी तरह का भार नहीं आएगा।
यह है प्रस्तावित बढ़ोतरी.......
स्लैब                         वृद्धि
50 यूनिट                   8.04
100 यूनिट                 8.38
150यूनिट                  34.98
200 यूनिट                14.01
300 यूनिट                11.92
400 यूनिट                11.23
-बिजली कंपनी के मुताबिक-सौ यूनिट पर सौ रु.बिल






दाम बढऩा प्रस्तावित है.......
अलग-अलग स्लैब में बिजली बिलों में दाम बढ़ाने के प्रस्ताव एमपी पावर मैनेजमेंट कंपनी ने विद्युत नियामक आयोग के सामने रखे हैं। जो आदेश आएंगे उनका शहर व जिले में क्रियान्वयन कराया जाएगा।
..........ऐ.सी. वर्मा -अधीक्षण यंत्री-विद्युत वितरण कंपनी-झाबुआ




Share To:

Post A Comment: