*झाबुआ~मेघनगर औद्योगिक क्षेत्र में मीठा जहर बेच  करोड़ो के टेक्स की चोरी*~~

*फूड विभाग की कार्रवाई... आंख मिचोली बन कर ना*~~

*ब्युरो दशरथ सिंह कट्ठा झाबुआ...9685852025*~~

झाबुआ - जिले के मेघनगर औद्योगिक क्षेत्र में पिछले कुछ समय से गुणवत्ताहीन सॉफ्टड्रिंक को टैक्स की चोरी (अंडरकटिंग) में लाकर गांव गांव में सप्लाई कर लोगों के जीवन से खिलवाड़ करने की शिकायत अनुविभागीय अधिकारी एन एल गर्ग को  मिल रही थी। जिसे संज्ञान में लेते हुए शनिवार को झाबुआ जिला कलेक्टर  के आदेशानुसार  एसडीएम  के नेतृत्व में जिला खाद्य सुरक्षा अधिकारी राहुल अलावा की टीम द्वारा मेघनगर ओघोगिक इलाके में स्थित  निजी व्यवसायी  के गोदाम पर  छापेमार कार्रवाई की गई। मिली शिकायत में साफ्ट ड्रिंक की बोतलों में न तो उत्पादन का दिनांक अंकित है न ही समाप्ति समय, और सबसे गौर करने वाली बात यह है कि नगरीय क्षेत्रों में जागरूकता की वजह से इसे अधिकांशतः ग्रामीण अंचलों मे खपाया जा रहा था। इसके पश्चात मेघनगर प्रशासन व खाद्य विभाग की टीम पहुची और वहा से भी सेम्पल लिए गए।

*साबुन सर्फ बनाने वाली फैक्ट्री में कोल्ड ड्रिंक ट्रेडिंग का कारोबार कैसे..?*

यूं तो मेघनगर औद्योगिक क्षेत्र में 140 से अधिक कारखाने फोन पर पर संचालित हैं लेकिन अधिकांश फैक्ट्रियों को किराए पर देकर इसकी टोपी उसके सर जैसे बिना परमिशन के दो नंबरी कार्य संचालित हो रहे हैं। अंधों में काना राजा की तर्ज पर मेघनगर औद्योगिक विभाग कान में तेल डालकर सोया हुआ है। हमारे सूत्र कहते  है कि जिस फैक्ट्री में शनिवार को छापामार कार्रवाई की गई उक्त फैक्ट्री में साबुन एवं सिर्फ को बनाने के नाम से रजिस्टर्ड है लेकिन उक्त जगह पर गुणवत्ताहिन सॉफ्ट ड्रिंक्स एक्सपायर माल विक्रय किया जाता रहा है।

*खाद्य विभाग की कार्रवाई प्रश्न चिन्ह..या मोन स्वकृति ?*

अक्सर शिकायत के बाद खाद्य एवं औषधि विभाग के अधिकारी कार्रवाई हेतु तत्परता दिखाते हुए स्पोर्ट पर पहुंच हो जाते हैं लेकिन कारवाही हाथी के दांत जैसी दिखाई देती है। मीठा-मीठा गट गट कड़वा कड़वा थू -थू जैसी कार्रवाई में एक्सपायर माल के टेंपल ना लेकर प्रेस डेट के माल के सैंपल उठाए जाते हैं व भोपाल जांच के लिए भेजे जाते हैं। शनिवार को हुई कार्रवाई में भी कुछ ऐसा ही दिखाई दिया । जो सैंपल भेजे गए उस पर बेस्ट नंबर और डेट अंकित है जोकि भोपाल से पास होकर आना ही है। आप कलेक्टर साहब के निर्देश का कितना पालन खाद्य विभाग करता है यह तो आने वाला वक्त तय करेगा गर्ग साहब आप भी पूरे मामले को गंभीरता से लेकर दूध का दूध और पानी का पानी करें... क्योंकि इस फैक्टरी के अंदर हो रहे कारोबार में कई झोल है जो हम अगले अंक में साझा करेंगे!

*वर्जन बॉक्स...*
लगातार शिकायत मिलने के बाद हमने एस डी एम सर के साथ मिल कर कार्रवाई की है कार्रवाई के दौरान सभी सही पाया गया। कुछ सॉफ्ड्रिक्स की गुणवत्ता पर हमें संदेह था उनके सैंपल भोपाल लेब भेज दिए गए है।
*राहुल अलावा खाद्य एवं औषधि विभाग अधिकारी झाबुआ।*


Share To:

Post A Comment: