झाबुआ~इन सबको सन्मति दे भगवान.......क्योंकि इनको नहीं है करोना का खौफ ~~

कौन होगा जिम्मेदार ....? गृह मंत्रालय के आदेश की उडी धजिय्या~~


 
झाबुआ। संजय जैन~~

झाबुआ में 14 मार्च रविवार को जैन मुनि विश्वरत्न मुनि जी का महामांगलिक का आयोजन गौड़ी जी पाश्र्वनाथ मंदिर,मंडी परिसर के सामने रखा गया था। जिसके आयोजक श्री जैन श्वेताम्बर मालवा महासंघ नवरत्न परिवार था। आयोजन में विभिन्न प्रांतो से आकर श्रद्धालुओं ने अपनी उपस्थिति दर्ज कराई थी। मजेदार बात तो यह है कि जिले के दोनों कप्तान (कलेक्टर एवं पुलिस अधीक्षक) ,भाजपा रतलाम झाबुआ सांसद और झाबुआ कांग्रेस विधायक का नाम आमंत्रण पत्र में आयोजन के मुख्य अतिथि के रूप में प्रकाशित किया था। यही नहीं आमंत्रण पत्र में आयोजन के विशिष्ट अतिथि की सूचि में जिला पंचायत सीईओ,अनुविभागीय अधिकारी ,प्रमुख दल भाजपा और कांग्रेस के कई राजनेता ,जिले के सभी विधायक, दोनों ही जिलों  के नगर पालिका अध्यक्ष ,भाजपा जिला अध्यक्ष ,कांग्रेस जिला अध्यक्ष,सकल व्यापरी संघ अध्यक्ष,रोटरी क्लब,जिला पेंशनर्स संघ अध्यक्ष,पदमश्री महेश शर्मा,समाजसेवी,वरिष्ठ नागरिक,वरिष्ठ उद्योगपति,व्यापारी  सहित लगभग सौ के करीब नामो का प्रकाशन भी प्रमुखता से किया गया था।






मुश्किल से 5 प्रतिशत लोगो ने ही मास्क लगाया था.....
एक तरफ  तो करोना अपने पैर फिर से तीव्र गति से पसार रहा है ,ऐसे में ऐसे आयोजन का होना जिसमे सभी जिम्मेदार प्रशासनिक अधिकारियोका मुख्य अतिथि  एवं जिम्मेदार राजनेताओ और नगर पालिकाओं के कप्तानों का विशिष्ट अतिथि बनना स्वीकारना बेहद ही गैर जिम्मेदारना हरकत की श्रेणी में आता है। यहाँ तक तो ठीक मुश्किल से 5 प्रतिशत लोगो ने ही मास्क लगाया था,तो फिर आप समझ ही सकते है सोशल डिस्टेंस के तो क्या हालात रहे होंगे.....?






कौन होगा जिम्मेदार ....?
गौरतलब है कि एक तरफ तो मुख्यमंत्री प्रदेश के कुछ जिलों में नाईट कफ्र्यू लगाने की तैयारी में लगे हुए हुए है क्योंकि दोबारा करोना महाराष्ट्र ,केरल व मध्यप्रदेश को अपनी गिरफ्त में बड़ी तेजी से ले रहा है और दूसरी तरफ जिम्मेदार अधिकारी,जिन्हे ऐसी स्थति में अपने विवेक का इस्तेमाल कर अपने कार्य का दायित्व निभाना था। यदि इस आयोजन के बाद करोना का ग्राफ  जिले में बढ़ता है तो इसके समस्त जिम्मेदार सबसे पहले जिले के अधिकारी ही होंगे ,फिर नगर पालिका अध्यक्ष और सबसे अंत में आयोजक ऐसा मेरा मानना है।






गृह मंत्रालय के आदेश की उडी धजिय्या.....
गृह मंत्रालय ने प्रदेश के समस्त कलेक्टरो को 13 मार्च को जारी आदेश में साफ  किया है कि प्रदेश के समस्त जिलों में दुकानों पर गोले बनाने होंगे और रस्सी बांधनी होगी। दुकान पर आनेवालों सभी को मास्क अनिवार्य रूप से लगाना होगा। यदि ऐसा दुकानदार नहीं करवाता है तो उसके खिलाफ  वैधानिक कार्रवाई की जाये । महाराष्ट्र राज्य से जुड़े जिलों में आये महाराष्ट्र से लोगो पर निगरानी रख उन्हे 7 दिन तक क्वारंटाइन रहने की सलाह देनी होगी।






संपर्क नहीं हो पाया .......
जब इस आमंत्रण पत्र के सन्दर्भ में कलेक्टर रोहित सिंह व् पुलिस अधीक्षक आशुतोष गुप्ता से चर्चा करने हेतु उनके मोबाइल नंबर पर संपर्क किया तो उनका कॉल रिसीव नहीं हो पाया ।



Share To:

Post A Comment: