अलीराजपुर\कठ्ठिवाड़ा में शुक्रवार को धुम धाम सॆ मनाया गया भगोरिया मॆला~~

*अलीराजपुर जिले कॆ कठ्ठिवाड़ा सॆ भरत राठौड़ की रिपोर्ट*~~

कठ्ठिवाड़ा में शुक्रवार को धुम धाम सॆ मनाया गया भगोरिया मॆला। कठ्ठिवाड़ा कॆ आस पास कॆ छोटे छोटे गाँव सॆ बड़ी संख्या में ग्रामीण जन भगोरिया हाट में शामिल हुए। भगोरिया हाट आदिवासी अंचल का मुख्य मॆलॆ कॆ रुप में मनाया जाता हैं। इस मॆलॆ में बड़ी संख्या में आदिवासी युवक युवतियां पारंपरिक वेशभूषा में सांस्कृतिक नृत्य करते हुए मेले का आनंद लेते हैं। पर्व की तैयारियां 8 सॆ10 दिवस पहले से ही आरंभ हो जाती हैं और लोग गुजरात से मजदूरी कर वापस अपने घरों को आ जाते हैं। कोरोना संक्रमण के कारण पड़ोसी राज्य गुजरात में भगोरिया हाट नहीं लगने के कारण आसपास के गुजरात की ग्रामीण जनता भी कठ्ठिवाड़ा भगोरिया में शामिल हुई जिससे कि कठ्ठिवाड़ा भगोरिया हाट की रौनक बढ गय। कोरोना संक्रमण के मद्देनजर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र कठ्ठिवाड़ा से डॉ गीत वर्मा एवं उनकी टीम द्वारा मुस्तैदी बरती गई इसके साथ ही स्वास्थ्य विभाग ने भगोरिया हाट में कोरोना जाॅच सैंपलिंग एवं मास्क का वितरण भी किया गया। इसके साथ ही प्रशासन एवं पुलिस विभाग भी पूरी तरह मुस्तैद रहा एवं किसी भी अप्रिय घटना से बचने के लिए मेले पर अपनी पैनी नजर बनाए रखी। इस मौके पर कठ्ठिवाड़ा तहसीलदार सुश्री संतुष्टि पाल द्वारा एवं उनकी टीम द्वारा भी भगोरिया मेले की निगरानी रखी गय। पूरे मेले में एक ही कमी नजर आ रही थी जोकि झूलों की थी। प्रशासन के आदेश अनुसार भगोरिया हाट से झूलों को पूर्णता प्रतिबंधित रखा गया जिस कारण मेले की रौनक थोड़ी बुझी बुझी नजर आई खास करके जवान युवक-युवतियों झूले का आनंद लेने भगोरिया मेले में आते हैं किंतु इस बार मेले में झूले नहीं होने के कारण मेला कुछ हद तक वीरान सा लगा।

*✍️*भरत राठौड़*✍️


Share To:

Post A Comment: