नसरुल्लागंज~ नगर मैं आए दिन कोविड-19 पेशेंट की वृद्धि के चलते  प्रशासन द्वारा पूर्ण लॉक डाउन लगाया~~

इसके बाद भी सैकड़ों  व्यक्ति नगर भ्रमण पर आते हैं ~~

जिन्हें जो सामान लेना है उन्हें वह सामान आसानी से मिल जाता है~~

अगर नगर के व्यापारियों को और बाहर से आ रहे व्यक्तियों को रोका नहीं गया तो हो सकता है कि जो प्रतिदिन कोविड-19 पॉजिटिव पेशेंट बढ़ रहे हैं उसमें और  इजाफा हो सकता है~~

नसरुल्लागंज से जिला सीहोर ब्यूरो आनंद अग्रवाल की रिपोर्ट~~

नसरुल्लागंज तहसील में कोविड-19 के पेशेंट आए दिन बढ़ते जा रहे हैं जिस की रोकथाम के लिए प्रशासन द्वारा लॉकडाउन लगाया गया था उसका मिलाजुला असर दिखाई दे रहा है क्योंकि नसरुल्लागंज में आज भी यातायात प्रतिदिन के हिसाब से ही सुचारू है उस पर रोकथाम नहीं लग पा रही है प्रशासन अधिकारी जब तक ग्रामीण क्षेत्र के व्यक्तियों का आना जाना बंद नहीं नहीं करेंगे जब तक कोविड-19 के पेशेंट की गिनती कम नहीं होगी नसरुल्लागंज में आए दिन सैकड़ों की तादाद में बिना काम के व्यक्ति घूमते रहते हैं क्योंकि प्रशासन अधिकारी उन पर कोई कार्यवाही नहीं कर सकता क्योंकि वह सभी मार्क्स लगाकर और मेडिकल का बहाना बनाकर घूमते रहते हैं जब पूरा नगर बंद है किसी चीज की दुकान नहीं खुली है तो इन व्यक्तियों का यहां क्या काम ऐसा तो नहीं नगर दिखाने  के लिए बंद है और नगर का समस्त व्यापारी इन व्यक्तियों को पूरा सामान उपलब्ध करवा रहा हो इसीलिए तो यह सभी व्यक्ति प्रतिदिन सामान लेने आते हैं  नगर में जब तक इन व्यक्तियों के ऊपर अंकुश नहीं लगाया जाएगा जब तक  लॉकडाउन का कोई मतलब नहीं निकलेगा अब देखना है कि प्रशासन अधिकारी इस पर अंकुश लगा पाता है या नहीं या ऐसा ही चलता रहा तो कोविड-19 के पेशेंट की गिनती में प्रतिदिन बढ़ोतरी होती रहेगी रहे और  लॉकडाउन को और आगे बढ़ाएं पड़ सकता है अगर इन बेवजह घूमने वाले व्यक्तियों को रोका नहीं गया तो


Share To:

Post A Comment: