झाबुआ~अब 50 साल वाले शिक्षकों की गोपनीय जांच करेगा विभाग-दी जाएगी अनिवार्य सेवानिवृत्ति~~

झाबुआ। संजय जैन~~

शिक्षा विभाग के ऐसे कर्मचारी जो 50 वर्ष की आयु या 20 वर्ष की नौकरी पूरी कर चुके हैं,अब उनके कार्य की गोपनीय जांच होगी। जांच में अक्षम,अयोग्य और भ्रष्ट पाए गए तो उनके खिलाफ  कार्रवाई की जाएगी। यहां तक कि उन्हें सेवानिवृत्त भी किया जा सकता है। 1 जनवरी 2021 की स्थिति में 20 वर्ष सेवा या 50 साल की आयु के शिक्षकों की सूची विभाग तैयार कर रहा है। शिक्षा विभाग अब अपने अधिकारियों,कर्मचारियों की सूक्ष्म रूप से जांच करेगा। इसके लिए संभाग व जिला स्तर पर कमेटी बनाई जाएगी। कमेटी जांच कर रिपोर्ट सामान्य प्रशासन विभाग को सौंपेगी।



दी जाएगी अनिवार्य सेवानिवृत्ति.....
विभाग पूर्व में निर्देश दे चुका है कि ऐसे शिक्षक जिन्होंने 50 वर्ष की आयु पूर्ण कर ली है या जिनकी 20 वर्ष की नौकरी पूरी हो गई है,ऐसे शासकीय शिक्षकों के कार्यकाल की जांच की जाए। अगर शासकीय सेवक की स्थिति अक्षम,अयोग्य पाई जाती है या कभी भ्रष्टाचार का आरोप लगा और वह सिद्ध होता है तो उसे अनिवार्य सेवानिवृत्ति दी जाएगी।



सामान्य प्रशासन विभाग को भेजी जाएगी जानकारी.....
इस आदेश के बाद वे शिक्षक जो बार-बार अवकाश पर जाते हैं या बार-बार मेडिकल लेते हैं चिंता में हैं। यही नहीं जिले में कई शिक्षकों के खिलाफ  भ्रष्टाचार के मामले भी सामने आए हैं। यदि आदेश पर सही तरह से अमल हुआ तो ऐसे शिक्षकों की सेवानिवृत्ति तय है। शिक्षा विभाग के अधिकारी भी इस बात को मानते हैं। अधिकारियों के अनुसार इस संबंध में शासन के स्पष्ट आदेश हैं कि यदि कोई शिक्षक या कर्मचारी अनुशासनहीनता करता है तो उसकी जानकारी सामान्य प्रशासन विभाग को भेजी जाएगी। जांच के बाद सामान्य प्रशासन विभाग उसके खिलाफ कोई भी कार्रवाई कर सकता है।



गुप्त रूप से जांच करेगी समिति......
शासकीय सेवकों के कार्यों की जांच के लिए जो कमेटी बनेगी उसके लिए सरकार ने समय-सीमा भी निर्धारित कर दी है। इसमें हर वर्ष 1 जनवरी 2021 की स्थिति में 20 वर्ष की नौकरी व 50 वर्ष आयु पूर्ण करने वाले शासकीय सेवकों की छानबीन 6 माह पहले शुरू की जाएगी। इसकी जानकारी संबंधित शिक्षकों को भी नहीं हो पाएगी,क्योंकि किस शिक्षक की नौकरी 20 साल होने वाली है यह पहले ही विभाग निर्धारित करेगा और आंतरिक जांच शुरू हो जाएगी। संभाग स्तर की कमेटी में संभागायुक्त अध्यक्ष होंगे व उनके द्वारा मनोनीत एक संभागीय अधिकारी व संबंधित विभाग के अधिकारी सदस्य रहेंगे। वहीं जिला स्तर की कमेटी के अध्यक्ष कलेक्टर रहेंगे।


Share To:

Post A Comment: