खिलेडी~~किसानों के फसल बीमा राशि को लेकर कुछ सहकारी संस्था के  प्रबंधक किसानों को बातों में उलझा कर नियमो का हवाला देकर उनकी बीमा राशि खातों में स्थानांतरित करने से मुकर रहे हैं~~

जगदीश चौधरी खिलेडी 6261395702~~

*क्या है मामला*

किसानो की फसल नुकसानी की भरपाई के लिए सहकारी संस्थाओ के द्वारा बीमा पॉलिसी की राशि किसानों से ली जाती है अौर किसानों की फसलों के खराब होने पर सरकार की और से बीमा राशि डाली जाती है जो किसानों को फसलो के नुकसान में आर्थिक सहयोग करता है। वही जब धार जिले के बदनावर विकासखण्ड के ग्रामिणो मे बीमा की राशि के मोबाइल पर मैसेज आने के बाद जब किसान सहकारी संस्था के प्रबंधक के पास जाकर राशि के आहरण की बात करते है तो कुछ प्रबन्धक किसानों को उलझाते हुए बोल रहे हैं कि बीमा की राशि किसानों को दी गई है वह किसानों के केसीसी लोन में काट ली जाएगी।

*सहकारी समिति खिलेड़ी के किसानो का सरकार से उठ रहा विश्वास*

कोरोना कर्फ्यू के चलते जब मध्य प्रदेश की अधिकांश मंडी बन्द पड़ी है जिससे किसानो की फसल बेच कर जीविका चला पाना कठिन होने लग रहा है और अगर किसानों की बीमा राशि उनके खातों में आहरित कर दी जाती है तो किसानों का कम से कम घर खर्च चलना आसान हो जाएगा लेकिन वर्तमान में सहकारिता समिति के प्रबंधको ने किसानों के लिए नई मुसीबत खड़ी कर दी है। सहकारी समिति खिलेड़ी के किसान अनिल पाटीदार का कहना है की प्रबन्धक महोदय ने हमारी बीमा राशि लोन की अमानत के तौर पर रख ली है जबकि लोन तो इसी माह में लिया गया है। हम किसानों कि आर्थिक स्थिति वर्तमान में दयनीय हो रही है। अगर ऐसे में सरकार हमारी बीमा राशि लोन की अग्रिम जमानत में रखने लगेगी तो यह हमारे साथ विश्वास घात होगा। किसानों के साथ इससे बड़ा छल दूसरा कोइ नही होगा।

*खिलेडी संस्था प्रबंधक दुलेसिंह गोयल ने बताया*

  इस विषय मे वरिष्ठ अधिकारी का आदेश एवं निर्देश का पालन किया जाएगा। अगर वरिष्ठ अधिकारी कहते है, तो नगद भुगतान कर दिया जाएगा या 30,6,2021 पर संबंधितो के खातो मे ऋण पर समायोजन कर दिया जाएगा।


Share To:

Post A Comment: