बड़वानी~ कलेक्टर ने पुनः प्रायवेट चिकित्सा संस्थानो की बुलाई बैठक~~

निर्धारित प्रक्रिया एवं निर्धारित मूल्य पर ही ईलाज करने की दी चेतावनी~~

बड़वानी/ कोरोना रोगी, हमारी प्राथमिकता पर होना चाहिये। इसलिये प्रायवेट अस्पताल भी अपने यहाॅ उपलब्ध बेड़ो में अधिक से अधिक संख्या में कोरोना पाजिटिव रोगियो को भर्ती करें। जिससे जिले में सभी रोगी का बेहतर से बेहतर ईलाज हो सके। प्रायवेट अस्पतालो में आने वाले कोरोना रोगियो के ईलाज में पूरी पारदर्शिता और शासन के द्वारा निर्धारित मापदण्डो का पालन भी किया जाये । जिससे अटेंण्डरो के मन में किसी प्रकार की दुविधा न रहे। वहीं प्रायवेट अस्पताल उनके अस्पताल में कोरोना के कितने बेड निर्धारित है, उसमें से कितने भरे एवं कितने खाली है। इसकी भी जानकारी फ्लेक्स लगाकर प्रदर्शित करें। जिससे सभी को ज्ञात रहे कि किस अस्पताल में कितने बेड इस समय उपलब्ध है।
कलेक्टर श्री शिवराजसिंह वर्मा ने रविवार को दोपहर पश्चात जिले के समस्त प्रायवेट अस्पतालों के प्रबंधको की बैठक बुलाकर उक्त निर्देश दिये । इस दौरान उन्होने प्रत्येक अस्पताल में उपलब्ध बेड की संख्या और रिक्त बेडो की स्थिति की जानकारी लेने हेतु नियुक्त नोडल अधिकारियों की भी जानकारी देकर निर्देशित किया कि इन पदाधिकारियों को अनिवार्य रूप से निर्धारित प्रपत्र पर जानकारी उपलब्ध कराई जाये । वहीं कलेक्टर  ने समस्त प्रायवेट चिकित्सा संस्थानो के पदाधिकारियों को पुनः चेताया कि वे अपने यहाॅ बेड रिक्त होने के पश्चात किसी रोगी को अनावश्यक रूप से शासकीय अस्पताल में जाने का न कहे। अगर कोई प्रायवेट में ईलाज करवाना चाहता है तो शासन द्वारा निर्धारित रेट पर उसका ईलाज हो, यह सुनिश्चित किया जाये । अन्यथा की स्थिति में आपदा प्रबंधन की धारा के तहत कार्यवाही हो सकती है।
बैठक के दौरान मनोरमा अस्पताल संचालको ने बताया कि उनके यहाॅ समस्त 100 बिस्तरों पर आक्सीजन सप्लाई की लाईन डली हुई है, साथ ही उनके यहाॅ आक्सीजन बनाने का प्लांट भी स्थापित है। इस पर तय किया गया कि इस अस्पताल के समस्त 100 बिस्तर, कोरोना केयर सेंटर के रूप में घोषित किये जाये और इस अस्पताल में सिर्फ कोरोना पाजिटिव लोगो का ही ईलाज शासन द्वारा निर्धारित मूल्य पर किया जाये । बैठक के दौरान महामृत्युजय अस्पताल में कोरोना हेतु 50 बेड निर्धारित करने तथा साईजीवन धारा अस्पताल में पूर्व से कोरोना हेतु निर्धारित 50 बेड के अतिरिक्त 50 बेड का वार्ड अगले 4 दिनो में प्रारंभ करने की भी सहमति हुई । इसी प्रकार सेंधवा के नारायणदास अस्पताल में कोरोना हेतु 30 बेड एवं करूणा अस्पताल में भी उपलब्ध 100 बिस्तरो में से कम से कम 50 प्रतिशत बेड कोरोना रोगियों के लिये रखने के लिये निर्देश दिये गये। बैठक के दौरान बताया गया कि संजीवनी अस्पताल में 26 बेड, गुरूपद अस्पताल में 20 बेड कोरोना पाजिटिव लोगो के लिये निर्धारित हैं
बैठक के दौरान प्रायवेट चिकित्सा संस्थानो के पदाधिकारियों ने आक्सीजन गैस सिलेण्डर मिलने में आ रही परेशानी का उल्लेख करने पर कलेक्टर ने बताया कि जिले में आक्सीजन गैस सिलेण्डर की उपलब्धता का सोसल आडिट की व्यवस्था भी करवाई गई है। जिसके माध्यम से जिला प्रशासन को ज्ञात रहेगा कि किस संस्थान में कितने भरे हुये एवं कितने खाली सिलेण्डर है। कलेक्टर ने बताया कि प्रायवेट संस्थानो को भी आक्सीजन गैस सिलेण्डर रिफिल कराने में कोई परेशानी न आये। इसके लिये जिला प्रशासन ने उनके सिलेण्डरो के रिफिल की भी व्यवस्था सुनिश्चित करवाई है।


Share To:

Post A Comment: