*हनुमान जयंती के दिन बन रहा सिद्धि योग, जानिए ज्योतिष शास्त्र में इसका महत्व और कैसी रहेगी ग्रह - नक्षत्रों की स्थिति( डाँ. अशोक शास्त्री )*~~

          हिंदू धर्म में हनुमान जयंती का विशेष महत्व होता है । इस संदर्भ मे मालवा के प्रसिद्ध ज्योतिषाचार्य डाँ. अशोक शास्त्री ने एक विशेष चर्चा मे हनुमान जन्मोत्सव के बारे मे विस्तृत चर्चा मे बताया कि चैत्र माह की पूर्णिमा को हनुमान जयंती मनाई जाती है । इस साल यह तिथि 27 अप्रैल को पड़ रही है । धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, हनुमान भक्त इस दिन को हनुमान जन्मोत्सव के रूप में मनाते हैं। इस दिन मंदिरों में हनुमान जी की विधि - विधान से पूजा की जाती है और भजन - कीर्तन का आयोजन किया जाता है । हालांकि इस साल कोरोनावायरस से बचाव के लिए हनुमान भक्तों को घर पर ही रहकर ही हनुमान जन्मोत्सव मनाना चाहिए । डाँ. शास्त्री के मुताबिक इस साल हनुमान जन्मोत्सव के दिन सिद्धि योग बनने से इसका महत्व और बढ़ रहा है । हनुमान जयंती के दिन बनने वाले ग्रह - नक्षत्रों  के हिसाब से सिद्धि योग रात 08 बजकर 03 मिनट तक रहेगी । ज्योतिष शास्त्र में सिद्धि योग को शुभ योग माना जाता है । इस दौरान शुभ कार्य किए जा सकते हैं । जबकि इसके बाद व्यतीपात योग लग जाएगा । इस योग को ज्योतिष शास्त्र में शुभ नहीं मानते हैं ।
          डाँ. अशोक शास्त्री के अनुसार हनुमान जयंती के दिन स्वाती नक्षत्र रात 08 बजकर 08 मिनट तक रहेगा। इसके बाद विशाखा योग लग जाएगा। ज्योतिष शास्त्र में विशाखा और स्वाती नक्षत्र के दौरान शुभ कार्य किए जा सकते हैं। इस दिन चंद्रमा तुला और सूर्य मेष राशि में रहेंगे ।
          ज्योतिषाचार्य डाँ. अशोक शास्त्री के अनुसार  हनुमान जयंती के दिन जगह - जगह भव्य शोभायात्रा निकाली जाती है । श्रद्धालु हनुमान जी के मंदिर मे जाकर पूजा अर्चना करते है । मान्यता है कि जो भक्त हनुमान जी की भक्ति और दर्शन करता है उसके सभी दुख दूर हो जाते है । हनुमान जी को प्रसन्न करने के लिए विधि विधान से पूजन करने के साथ ही उपवास भी रखते है ।
          ज्योतिषाचार्य डाँ. अशोक शास्त्री के अनुसार हनुमान जयंती के दिन श्रद्धालु नौकरी व व्यापार मे धन से जुडी समस्याओं के लिए उपाय भी करते है । कहा जाता है कि इस दिन शुभ मुहूर्त मे हनुमान जी के आगे चमेली के तेल का दीपक जलाए और हनुमान जी को चोला चढाना चाहिए । ऐसा करने से आर्थिक स्थिति मजबूत होती है ।
*श्रद्धालुओं को राशि अनुसार करे इन मंत्रों का जाप*

मेष    :~ ऊँ सर्वदुःख हराय नमः
वृषभ :~ ऊँ कपिसेनानायक नमः
मिथुन :~ ऊँ मनोजवाय नमः
कर्क   :~ ऊँ लक्ष्मण प्राणदात्रै नमः
सिंह   :~ ऊँ परशौर्य विनाशन नमः
कन्या :~ ऊँ पंत्रवक्त्र नमः
तुला  :~ ऊँ सर्वग्रह विनाशिने नमः
वृश्चिक :~ ऊँ सर्वबंधविमोक्त्रे नमः
धन   :~ ऊँ चिरंजीविते नमः
मकर :~ ऊँ सुरार्चिते नमः
कुंभ  :~ ऊँ वज्रकाय नमः
मीन  :~ ऊँ  कामरुपिणे नमः

                  *ज्योतिषाचार्य*
          डाँ. पं. अशोक नारायण शास्त्री
          श्रीमंगलप्रद् ज्योतिष कार्यालय
245 , एम. जी. रोड ( आनंद चौपाटी ) धार , एम. पी.
                  मो. नं.  9425491351

               *--:  शुभम्  भवतु  :--*


Share To:

Post A Comment: