*झाबुआ~13 टन की रॉयल्टी पर 42 टन खनिज  परिवहन करते दो डंपर को तहसीलदार ने धर दबोचा*~~

*अवर लोडिंग व अवैध खनिज परिवहन का काला खेल, कुशलगढ़ व मेघनगर जुड़े खनिज माफिया*~~

*ब्युरो दशरथ सिंह कट्ठा झाबुआ...9685952025*~~

झाबुआ- कोरोना कर्फ्यू के दौरान सरकारी तंत्र की आंखों में धूल झोंक कर करोड़ों रुपए के राजस्व को चुना लगाया जा रहा है। यह बात किसी से छुपी नहीं है। 100 में से 80 बेईमान फिर भी वे महान की तर्ज पर इक्का-दुक्का कार्यवाही मियां मिट्ठू की तर्ज पर कागजों की खानापूर्ति करने हेतु आम बात सी हो चली है। सच और झूठ के परदे के बीच कितनी सच्चाई है यह सच्चाई जिले में नवनगत कलेक्टर व मेघनगर राजस्व अमले के नवगत एस डी एम तहसीलदार को खनिज माफियाओं का झोलसमझना पड़ेगा। बात करें मंगलवार देर शाम हुई कार्रवाई की तो राजस्थान के बांसवाड़ा आर के मिनरल कंपनी से 13 टन रॉयल्टी से मार्बल का वेस्ट जिसे डोलोमाइट खनिज कहा जाता हैं जो राजस्थान निकल कर मध्य प्रदेश के पालवाड क्षेत्र की सीमाओं से होते हुए काजलीडूंगरी ग्राम से होते हुए मेघनगर औद्योगिक क्षेत्र में स्थित या गरीब नवाज  फैक्ट्री में खाली होना था जिसके पहले मुखबिर की सूचना पर मेघनगर नायाब तहसीलदार अजय चौहान एवं तहसीलदार हर्षल बेहरानी ने राजस्थान की ओर से आ रहे दो डंपर को ग्राम काजलीडूंगरी में रुकवाया एवं  बिल्टी पूछने पर उन्होंने प्रत्येक ट्राले में 13 टन माल होना बताया जब राजस्व अमले ने दोनों डंफर वाहन को मेघनगर के एक निजी तोल कांटे पर तोल करवाया तो चौंकाने वाली बात सामने आई 13 टन एक डंपर में वजन की जगह एक डंपर में 42 टन डोलामाइंड खनिज लदा था। मतलब दोनों नंबरों में 26 टन की रॉयल्टी थी ओर तय रॉयल्टी से अधिक 58 टन माल दोनों डंफरो वाहनों में निकला जिस पर राजस्व विभाग ने कार्रवाई करते हुए दोनों वाहनों को सीज कर मेघनगर थाने में खड़ा किया है। अब आगे की कार्रवाई में क्या खुलासे होंगे यह तो प्रशासन को तय करना है लेकिन खनिज व परिवहन विभाग  पर मौन स्वीकृति किसी से छुपी नही है। इस मामले की तह तक जाना दोनो विभाग के लिए कितना जिम्मेदार पूर्ण रवैया है यह तो आने वाला वक्त बताएगा।


*डोलोमाइट क्या है कोंन खनिज माफिया कहां से जुड़े तार*

डोलोमाइट एक आम चट्टान बनाने वाला खनिज है। राजस्थान में मार्बल वेस्ट के रूप में रासायनिक संरचना के साथ एक कैल्शियम मैग्नीशियम कार्बोनेट है। यह तलछटी चट्टान का प्राथमिक घटक है जिसे डोलोस्टोन के रूप में जाना जाता है और मेटामॉर्फिक चट्टान जिसे डॉलोमिटिक मार्बल के रूप में जाना जाता है। चूना पत्थर जिसमें कुछ डोलोमाइट होते हैं, डोलोमिटिक चूना पत्थर के रूप में जाना जाता है। उक्त डोलोमाइट खनिज का उपयोग मैग्नीज कारखाने वाले मैंगनीज की मुख्य  प्रोसेस करने में काम मे लाया जाता है।लंबे समय से उक्त खनिज का ओवरलोडिंग एवं रॉयल्टी चोरी का खेल चल रहा है जिसमें मध्यप्रदेश के झाबुआ मेघनगर रतलाम आदि खनिज माफियाओं के तार जुड़े हैं वहीं राजस्थान में कुशलगढ़ ग्राम पाटी  रामगढ़ तामिसरा आदि  माफिया इनका सहयोग ग्रुप के रूप करते हैं। जल्दी ही अगले अंक में डोलोमाइट के साथ में मेगनीज अवैध उत्खनन का भी खुलासा नामजद करेंगे।

*वर्जन बॉक्स...*

कलेक्टर सोमेश मिश्रा एम एस डी एम के निर्देश पर लगातार हम इस तरह के वाहनों को सर्च करते हैं पहले भी हमने रेत से भरे कई अवैध डंपर पकड़े है कल देर शाम हमने दो डंपर फिर पकड़े हैं जिन्हें नियमानुसार रॉयल्टी से अधिक मात्रा में खनिज परिवहन करते पाया गया दोनो वाहनों को पकड़कर थाने लाया गया है अगली कार्रवाई खनिज विभाग द्वारा की जाना सुनिश्चित है।
*तहसीलदार हर्षल बहरानी मेघनगर।*


Share To:

Post A Comment: