नसरुल्लागंज~ स्वास्थ्य विभाग में  बनाया गया है कोविड- सेन्टर~~

लेकिन वहां का नजारा ऐसा लगता है कि वह एक जनरल वार्ड हो ~~

क्योंकि प्रतिदिन कोविड  मरीजों के परिजन उस कोविड पॉजिटिव मरीज के आसपास ही घूमते रहते हैं  जब उनकी इच्छा होती यहां से उठकर~~

  वह सभी अपने घर रिश्तेदार एवं दोस्तों के यहां चले जाते हैं उन्हें यह नहीं मालूम कि हम यहां से कोरोनावायरस के लक्षण लेकर जा रहे हैं  क्योंकि वह सभी इस बीमारी को एक मजाक के रूप में ले रहै है~~

अगर प्रशासन अधिकारी द्वारा  इन परिजनों को रोका नहीं गया तो यह बीमारी महा रूप ले सकती है~~

नसरुल्लागंज जिला सीहोर ब्यूरो आनंद अग्रवाल की रिपोर्ट~~

नसरुल्लागंज में कोविड मरीजों के परिजनों ने इस महा बीमारी को एक मजाक के रूप में ले लिया है क्योंकि नसरुल्लागंज में स्वास्थ्य विभाग की फर्स्ट फ्लोर पर कोविड-19 सेंटर बनाया गया है लेकिन यहां पर कोविड-19 पॉजिटिव मरीज के परिजन रिश्तेदार जब इच्छा होती है उनके मरीजों के पास आकर बैठ जाते हैं और जब इच्छा होती है या चले जाते हैं कोविड-19 के नियमों का एक भी पालन नहीं करते हैं एवं जब उनकी इच्छा होती है वह सभी व्यक्ति यहां से उठकर अपने घर रिश्तेदार दोस्तों से मिलते हुए जाते हैं उन्हें यह नहीं मालूम कि हम  यह महा बीमारी के वायरस इन सभी व्यक्तियों को दे जाते हैं अगर इन व्यक्तियों को रोका नहीं गया तो यह बीमारी  बड़ा रूप ले सकती है प्रशासन ने इस महामारी को रोकने के लिए जो लॉकडाउन लगाया है वह काम रहेगा क्योंकि प्रशासन अधिकारी की यही मनसा है कि इस महा बीमारी की चैन को कैसे तोड़ा जाए अगर प्रशासन की ऐसी ही लापरवाही रही तो इस महा बीमारी की चैन को तोड़ना नामुमकिन हो जाएगा अगर इन परिजनों को रोका नहीं गया तो


Share To:

Post A Comment: