धार ~, दिव्य मूर्ति , विरक्त संत शिरोमणी स्वामी श्री भगवतानंद महाराज श्री शुक्रवार की महा प्रयाण कर गए । भक्तो मे शोक की लहर दौड गई
          स्वामी जी भगवान भोलेनाथ कै परम भक्त तथा माँ नर्मदा परम आराधक थे , आपका अधिकांश समय नर्मदा नदी मे तपस्या मै लीन रहते थे । डाँ. अशोक शास्त्री ने बताया की स्वामी जी अलौकिक , विलक्षण संत थे । स्वामी जी का इस संसार से जाना समाज के लिए बहुत बडी क्षति है । देश प्रदेश के अनेकानेक संतो की उपस्थिति मे संत श्री को आज प्रातः बडवाह मे नर्मदा नदी मे जल समाधी दी ।

              


Share To:

Post A Comment: