*बुरहानपुर~पूर्व मंत्री अर्चना चिटनीस दीदी के प्रयासों से ग्राम ईच्छापुर पेयजल समस्या समाधान की ओर*~~

बुरहानपुर(मेहलका इकबाल अंसारी)

आखिरकार ग्राम ईच्छापुरवासियों को पेयजल संकट से निजात मिलने की उम्मीद हो गई है। ग्राम ईच्छापुर की पेयजल समस्या का समाधान हेतु मध्य प्रदेश की पूर्व कैबिनेट मंत्री श्रीमती अर्चना चिटनीस दीदी लगातार प्रयास जारी है। जिसके परिणाम भी दिखने लगे है। पूर्व में जहां कुछ क्षेत्रों में 2 माह, डेढ़ माह अथवा एक माह बाद पानी प्रदाय हो पा रहा था। वहां अब सप्ताह में एक बार पेयजल प्रदाय की स्थिति बन गई है। आगामी दिनों में 5 दिन में ग्रामीणों को पेयजल उपलब्ध हो सकेंगा।
पूर्व मंत्री श्रीमती चिटनिस के प्रयासों के परिणाम स्वरूप, कलेक्टर प्रविणसिंह द्वारा संबंधित विभागों के बीच समन्वय स्थापित कराकर दिए गए निर्देशों तथा ग्राम की पेयजल व्यवस्था सुचारू संचालन हेतु ग्राम जल और स्वच्छता समिति के साथ बैठक की गई और अनेक निर्णय लिए गए, जिसके परिणाम स्वरूप कुशल प्रबंधन हो सका है और ग्रामीणों को पेयजल संकट से निदान मिलने आरंभ हो गया है। गत दिवस श्रीमती चिटनिस ने पुनः प्रशासनिक अधिकारियों एवं ग्रामीणों के साथ आगामी कार्ययोजना तथा व्यवस्थाओं को लेकर ग्राम का भ्रमण किया और विस्तृत चर्चा की। श्रीमती चिटनिस के साथ भ्रमण के दौरान जनपद पंचायत अध्यक्ष किशोर पाटिल, वीरेन्द्र तिवारी, विनोद चौधरी, वामन माली, डॉ.किशोर डी पाटिल, अप्पा माली, शैलेश महाजन, बिस्मिल्ला बागवान, संजय चौधरी, जनपद पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी केके खेरे, पीएचई के ईई पीएस बुंदेला, उपयंत्री जगदीश देवड़े, सचिव रविन्द्र सोनवणे सहित अन्य ग्रामीणजन उपस्थित थे।
पूर्व मंत्री श्रीमती अर्चना चिटनिस ने कहा कि ग्राम ईच्छापुर में 2 माह, डेढ़ माह अथवा एक माह बाद पानी प्रदाय हो पा रहा था। यह स्थिति त्रासदीपूर्ण होकर अमानवीय थी। इस स्थिति का मुख्य कारण संबंधित विभागों में आपसी तालमेल की कमी व पेयजल आपूर्ति की जिम्मेदार संस्था का कुप्रबंधन था। पेयजल आपूर्ति समस्या के निराकरण हेतु जिला पंचायत, विद्युत विभाग एवं लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग में समन्वय स्थापित किया किया गया। मेरे पिछले 10 वर्षों के कार्यकाल में इस समस्या के समाधान हेतु निरंतर प्रयास किए जाते रहे और गांव में पेयजल आपूर्ति सुनिश्चित की जाती रही है। श्रीमती चिटनिस ने कहा कि कलेक्टर द्वारा दिए गए निर्देशों पर जिला पंचायत, जनपद पंचायत, विद्युत विभाग एवं लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग के अधिकारियों ने इस चुनौतीपूर्ण और अत्याधिक महत्व के कार्य का समाधान निकालने में अपना भरसक प्रयास किया है। ग्राम में पेयजल व्यवस्था सुचारू संचालन हेतु ग्राम जल और स्वच्छता समिति के वामन महाजन, रामभाउ नामदेव दवंगे, गणेश महाजन, शैलेन्द्र महाजन, किशोर पाटिल, संजय पवार, किशोर महाजन, बालु महाजन, नामदेव महाजन, विजय सपकाले, सुधीर पंडित एवं कालूराम पंडित सहित ग्रामवासियों का भी सकारात्मक योगदान रहा है।
*श्रीमती श्रीमती चिटनिस की पहल, कलेक्टर के निर्देश और ग्रामीणों के सहयोग से बनी व्यवस्था*
देव्हारी तालाब स्थित नलकूप से हनुमान मंदिर स्थित कुएं तक एक किलोमीटर की पाईप बिछाई गई। इसके साथ ही हनुमान मंदिर के समीप बंद पड़े ट्यूबेवल को पुनः शुरू किया गया। शमशान भूमि पर स्थित कुआं और वन विभाग के कुएं का पानी टंकी तक पहुंचाने हेतु नवीन पाईप लाईन डाली गई। श्री राजेन्द्र सिताराम वाघले निवासी शाहपुर ने अपने निजी ट्यूबवेल में 15 हार्सपावर की मोटर डालकर गांव की पानी की टंकी से जोड़कर पेयजल दिया जाना आरंभ कर दिया। इन सभी स्त्रोतों से गांव की ढाई लाख लीटर तथा एक लाख लीटर की पानी की टंकी भरी गई। इसके बाद गांव में पेयजल सप्लाय किया गया। जिससे ग्रामीणों को करीब दो माह बाद पेयजल मिल सका। अब यह व्यवस्था बनने से आबादी क्षेत्र में अभी सातवे दिन पानी मिलने लगा है, इसे और सुचारू करते हुए 5-6 दिन में पुरे गांव में पेयजल उपलब्ध कराया जा सकेंगा। इसके साथ ही आबादी क्षेत्र के बाहर स्थित बारी नगर में श्री ईच्छादेवी ट्रस्ट के नलकूप से पानी सप्लाय शुरू कर दिया गया है। जिनको प्रतिदिन एक घंटा पानी मिल सकेंगा।


Share To:

Post A Comment: